उन्नाव गैंगरेप केस: पूछताछ के बाद CBI ने थानेदार और दरोगा को किया गिरफ्तार

दोनों पुलिसकर्मियों को पीड़िता के पिता की हत्या की साजिश और सुबूतों को नजरअंदाज करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

उन्नाव गैंगरेप केस: पूछताछ के बाद CBI ने थानेदार और दरोगा को किया गिरफ्तार
CBI ने दोनों पुलिसकर्मियों पर धारा 120 बी, 193, 201 और 218 में और 3/25 शस्त्र अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली/लखनऊ: उन्नाव गैंगरेप मामले में सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई करते हुए, बुधवार (16 मई) को माखी थाने के निलंबित चल रहे दो पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार कर लिया है. जिन पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया गया है, उनमें तत्कालीन इंचार्ज अशोक सिंह भदौरिया और दरोगा कामता प्रसाद सिंह हैं. इन्हें पीड़िता के पिता की हत्या की साजिश और सुबूतों को नजरअंदाज करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. इनकी गिरफ्तारी के बाद अब उन्नाव जिले में तैनात रहे कुछ बड़े अधिकारियों पर भी कार्रवाई के आसार बन रहे हैं.  

पूछताछ के बाद किया गिरफ्तार
अशोक सिंह भदौरिया और कामता प्रसाद सिंह को आईपीसी की धारा 120 बी, 193, 201 और 218 में और 3/25 शस्त्र अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया है. आपको बता दें कि इन दोनों पुलिसकर्मियों को सीबीआई ने पूछताछ के लिए बुलाया था, इसके बाद गिरफ्तार कर किया गया. 

ये भी पढ़ें: उन्नाव गैंगरेप केस: पीड़ित परिवार से पूछताछ करने फिर उन्नाव पहुंची CBI

पुलिस अधिकारियों को नहीं थी जानकारी
पिछले दिनों हाईकोर्ट ने आरोपियों की गिरफ्तारी में देरी को लेकर सीबीआई पर सवाल उठाया था. इसके बाद सीबीआई ने दोनों आरोपी पुलिसकर्मियों को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया. वहीं उन्नाव के आला पुलिस अधिकारियों को दोनों दारोगाओं की गिरफ्तारी को लेकर बुधवार (16 मई) देर रात तक कोई खबर नहीं थी. दोनों दारोगाओं पर शस्त्र अधिनियम लगाए जाने से उनके आचरण पर भी सवाल उठ गया है. 

ये भी पढ़ें:  उन्नाव गैंगरेप मामला: हाईकोर्ट ने CBI की धीमी जांच प्रक्रिया पर जताई नाराजगी

कोर्ट ने लगाई थी सीबीआई को फटकार
आपको बता दें कि उन्नाव गैंगरेप केस में CBI की टीम स्टेटस रिपोर्ट के साथ दो मई को इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस DB भोसले और जस्टिस सुनीत कुमार की बेंच के सामने पेश हुए थे. इस दौरान कोर्ट ने CBI की धीमी जांच प्रक्रिया पर नाराजगी जताई थी.  

21 मई को होगी अगली सुनवाई
दो मई को ये तय किया गया कि इस मामले की अगली सुनवाई 21 मई को होगी. कोर्ट के निर्देशों पर CBI टीम को लीड कर रहे राघवेंद्र वत्स ने कोर्ट को भरोसा दिलाया कि सभी निर्देशों का पालन किया जाएगा. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close