मोहन भागवत को स्वयंसेवकों पर इतना भरोसा है तो कमांडो सुरक्षा क्यों : मायावती

बीएसपी सुप्रीमो ने सेना को लेकर मोहन भागवत के बयान की निंदा करते हुए कहा कि उन्हें अपने स्वयंसेवकों पर इतना भरोसा है, तो उन्होंने कमांडो सुरक्षा क्यों ले रखी है. 

मोहन भागवत को स्वयंसेवकों पर इतना भरोसा है तो कमांडो सुरक्षा क्यों : मायावती

लखनऊ : संघ प्रमुख मोहन भागवत ने बिहार के मुजफ्फरपुर में कहा था कि 6 महीने में सेना जितनी फौज तैयार करेगी उतनी संघ तीन दिन में खड़ी कर सकता है. उनके इस बयान के बाद उठी राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है. बीएसपी सुप्रीमो तथा उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने सेना को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान की निंदा करते हुए कहा कि उन्हें अपने स्वयंसेवकों पर इतना भरोसा है, तो सरकारी खर्च पर उन्होंने कमांडो सुरक्षा क्यों ले रखी है. 

फिर कमांडो क्यों
मायावती ने कहा, "मोहन भागवत को अपने मिलिटेंट स्वयंसेवकों पर इतना ज्यादा भरोसा है, तो वह अपनी सुरक्षा के लिए सरकारी खर्च पर विशेष कमांडो क्यों ले रखे हैं?" मायावती ने कहा कि ऐसे समय में, जब सेना को विभिन्न प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, मोहन भागवत का बयान सेना के मनोबल को गिराने वाला है. इसकी इजाजत उन्हें नहीं दी जा सकती. उन्होंने आरएसएस प्रमुख से अपने बयानबाजी के लिए देश से मांफी मांगने को कहा. 

RSS बना राजनीतिक संगठन
मायावती ने कहा कि आरएसएस अब सामाजिक संगठन न रहकर राजनीतिक संगठन में तब्दील होता जा रहा है. उनके स्वयंसेवक सामाजिक सेवा को ताक पर रखकर पूरी तरह से भाजपा के लिए चुनावी राजनीति करने में ही व्यस्त नजर आते हैं.

6 महीने में जितनी सेना तैयार होगी, उतनी संघ 3 दिन में कर देगा : RSS प्रमुख मोहन भागवत

कांग्रेस ने भी साधा निशाना
मायावती के अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी आरएसएस को लेकर केंद्र सरकार पर कटाक्ष किया है. अपने कर्नाटक दौरे पर उन्होंने कहा कि देश में संघ की सरकार चल रही है. सरकार हर काम आरएसएस के इशारों पर करती है. नोटबंदी जैसा बड़ा फैसला भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आरएसएस के कहने पर लिया था.

मोहन भागवत के बयान पर राहुल गांधी भड़के, कहा- शहादत देने वालों का हुआ है अपमान

क्या कहा संघ प्रमुख ने
गौरतलब है कि आरएसएस प्रमुख ने स्वयंसेवकों की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था, "हम सैन्य संगठन नहीं हैं, मगर सेना जैसा अनुशासन हमारे अंदर है. अगर देश को जरूरत पड़े और देश का संविधान, कानून कहे तो सेना तैयार करने में छह-सात महीने लग जाएंगे. संघ के स्वयंसेवकों को लेंगे तो तीन दिन में तैयार हो जाएंगे. ये हमारी क्षमता है."

(इनपुट आईएएनएस से)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close