ZEE जानकारी : देश की दो बड़ी एयरलाइंस जिनके विमानों के इंजन अक्सर खराब होते हैं

हवाई जहाज़ के इंजन को लेकर हुए एक रिसर्च के मुताबिक पूरी दुनिया में हर 10 लाख Flights में से किसी एक Flight का इंजन फेल होता है. लेकिन हमारे देश में एक Airline ऐसी भी है, जिसके विमानों का इंजन एक हफ्ते में औसतन एक बार फेल होता है

ZEE जानकारी : देश की दो बड़ी एयरलाइंस जिनके विमानों के इंजन अक्सर खराब होते हैं

अगर आप हवाई यात्रा करते हैं, तो अगली ख़बर आपको ज़रूर देखनी चाहिए. क्योंकि आपकी ज़िंदगी के साथ खिलवाड़ हो रहा है, और आपको इसकी ख़बर तक नहीं है. ज़रा सोचिए कि आप हवाई जहाज़ से सफर कर रहे हों, और आपको पता चले कि जिस Flight में आप बैठे हैं.. उसका इंजन फेल हो गया है, तो आप क्या करेंगे? ज़ाहिर है आप घबरा जाएंगे और प्रार्थनाएं करना शुरू कर देंगे. लेकिन सच ये है कि प्रार्थनाओं और दुआओं से तकनीकी खराबियों को ठीक नहीं किया जा सकता.

हवाई जहाज़ के इंजन को लेकर हुए एक रिसर्च के मुताबिक पूरी दुनिया में हर 10 लाख Flights में से किसी एक Flight का इंजन फेल होता है. लेकिन हमारे देश में एक Airline ऐसी भी है, जिसके विमानों का इंजन एक हफ्ते में औसतन एक बार फेल होता है, और उस Airline का नाम है Indigo... 

हमारे देश में Indigo एक सस्ती और किफायती Airline मानी जाती है. लेकिन Indigo के इंजन लगातार खराब हो रहे हैं. ऐसी ही समस्या Go Air के विमानों में भी है. जिससे इन Airlines में सफर करने वाले यात्रियों की जान खतरे में है. इसी खतरे को देखते हुए DGCA यानी Directorate General of Civil Aviation ने Indigo और GoAir पर बड़ी कार्रवाई की है.  कल DGCA ने इन दोनों Airlines के 11 विमानों को उड़ान भरने से रोक दिया था, क्योंकि इनके इंजन में दिक्कतें थीं. इसकी वजह से आज IndiGo को 48 और GoAir को 18 Flights रद्द करनी पड़ीं. 

IndiGo ने 18 शहरों से अपनी Flights रद्द की हैं, जिनमें दिल्ली से उड़ान भरने वाली 18 Flights और मुंबई से उड़ान भरने वाली 3 Flights शामिल हैं. GoAir को भी 8 शहरों से अपनी Flights रद्द करनी पड़ी हैं.  इसका सीधा सा मतलब ये है कि हमारे देश में हवाई यात्रा करने वाले लोगों की जान के साथ लगातार खिलवाड़ किया जा रहा है. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि देश में हवाई सफर करने वाले 40% यात्री Indigo का और 10% यात्री GoAir का इस्तेमाल करते हैं. 

यानी देश की Domestic Aviation Industry के 50% हिस्से पर इन दोनों Airlines का कब्ज़ा है. इसलिए अगर इनमें कोई गड़बड़ी होती है, तो हवाई यात्रा करने वाले 50% यात्रियों की जान के साथ खिलवाड़ होता है. यहां सवाल ये भी है कि DGCA को इन दोनों एयरलाइंस के खिलाफ कार्रवाई करने में इतना वक्त क्यों लग गया? क्या DGCA किसी बड़े हादसे का इंतज़ार कर रही थी. 

24 फरवरी 2018 से लेकर अब तक, 3 बार इन एयरलाइंस के इंजन फेल हो चुके हैं. 24 फरवरी को लेह से उड़ान भरते ही GoAir की Flight का इंजन फेल हो गया था. इसके बाद 5 मार्च को Indigo की Flight ने जैसे ही मुंबई से उड़ान भरी, उसका इंजन फेल हो गया . और फिर कल यानी 12 मार्च को अहमदाबाद से लखनऊ की उड़ान भरते ही Indigo की एक और Flight का इंजन खराब हो गया. जिसके बाद अहमदाबाद एयरपोर्ट पर इस विमान की Emergency Landing करनी पड़ी. 

इंजन खराब होने की ये समस्या एक ही कंपनी के विमानों में आ रही है. और इस कंपनी का नाम है Airbus. इस कंपनी के A320 - Neo Jet विमानों में लगा Pratt and Whitney 1100 नाम का इंजन खराब हो रहा है. हालांकि अगर विमान का एक इंजन फेल हो जाता है, तो वो दूसरे इंजन के सहारे उड़ सकता है. लेकिन इसे शुद्ध हिंदी में जुगाड़ कहते हैं और जुगाड़ को कभी भी सुरक्षित नहीं माना जाता. Airbus के मुताबिक पूरी दुनिया में उनके Pratt and Whitney इंजन वाले 113 विमान हैं. और इनमें से 10% विमानों के दोनों Engines में खराबी पाई गई है. पिछले महीने 13 फरवरी को IndiGo ने अपने 3.. A320 - Neo Jet विमानों की उड़ान रोक दी थी, क्योंकि इनके दोनों Engines में खराबी थी. 

हालांकि IndiGo के 8 विमान ऐसे भी थे, जिनके 1 इंजन में खराबी थी, लेकिन इसके बावजूद DGCA ने इन 8 विमानों को उड़ने की इजाज़त दी. DGCA ने ये शर्त रखी थी कि 1 इंजन की खराबी वाले ये विमान सिर्फ 2 घंटे तक ही उड़ सकते हैं. सवाल ये है कि क्या ये यात्रियों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं है ?

IndiGo के विमानों में ये खराबी कोई नई नहीं है. मार्च 2016 से सितंबर 2017 तक यानी 18 महीनों के दौरान IndiGo के विमानों के Engines में 69 बार खराबी आई. लेकिन इसके बावजूद DGCA ने कोई कार्रवाई नहीं की. 

जबकि पूरी दुनिया में विमानों में इंजन खराब होने की घटनाएं बहुत कम सुनने को मिलती हैं. कहा जाता है कि पूरी दुनिया में एक साल में सिर्फ 25 ऐसे मामले सामने आते हैं, जब विमानों के इंजन खराब होते हैं. 

जबकि भारत में सिर्फ IndiGo के विमानों के इंजन ही 69 बार खराब हो गए. अब आप समझ सकते हैं कि स्थिति कितनी ख़राब और ख़तरनाक है. जानकारों के मुताबिक, ये विमानों का इंजन खराब होने का World Record है. लेकिन जब यात्री इन विमानों में यात्रा करते हैं, तो उन्हें इस बात का अंदाज़ा नहीं होता कि वो कितना बड़ा जोखिम उठा रहे हैं. 

बहुत से लोगों के मन में ये सवाल उठ रहा होगा कि विमान में इंजन किस हिस्से में होता है. हम आपको एक Animation के माध्यम से ये दिखा रहे हैं कि विमान का इंजन कौन से हिस्से में होता है.

आम तौर पर छोटी दूरी के विमानों में दो इंजन होते हैं. और ऐसा माना जाता है कि अगर एक इंजन खराब हो गया तो विमान दूसरे इंजन के सहारे उड़ सकता है. और अगर विमान के दोनों इंजन फेल हो जाएं, तो भी ऐसा नहीं होता कि विमान सीधे नीचे गिर जाए. दोनों इंजन खराब होने की स्थिति में विमान हवा में कुछ देर तक तैरता रहेगा. और इसके बाद अगर विमान ने जल्द से जल्द Landing नहीं की, तो फिर वो दुर्घटनाग्रस्त हो सकता है.

यानी इंजन खराब होने की स्थिति में विमान को तुरंत Emergency Landing करनी होगी. अब आपको विमानों के बारे में कुछ और Extra जानकारियां देते हैं. 

एक जेट इंजन में 28.. Formula -1 Cars जितनी ताकत होती है. 

जेट इंजन की कीमत 75 से 200 करोड़ रुपये तक होती है. 

आम तौर पर 14 हज़ार Flights पूरी करने के बाद एक इंजन को बदला जाता है. 

एक जेट इंजन में, घूमने वाले turbine blades लगे होते हैं, इन Blades को घुमाने के लिए ईंधन और हवा की लगातार Supply की जाती है. 

दो इंजन वाले विमान में औसतन 1 किलोमीटर की यात्रा करने के लिए 12 लीटर ईंधन की ज़रूरत होती है. 

रिसर्च के मुताबिक Take Off से पहले के 3 मिनट के समय में और Landing से पहले के 8 मिनट के समय में ही, 80% हवाई हादसे होते हैं. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close