ZEE जानकारीः धनतेरस का दिन आपकी सेहत के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है

धन्वंतरि को आयुर्वेद.. चिकित्सा और औषधि विज्ञान का जनक माना जाता है. धनतेरस के दो प्रमुख पहलू हैं - पहला है सोने की चमक, और दूसरा है आयुर्वेद की शक्ति.

ZEE जानकारीः धनतेरस का दिन आपकी सेहत के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है

आज धनतेरस है... आज के दिन नए बर्तन और सोने-चांदी के सिक्के खरीदने की परंपरा है, लेकिन धनतेरस का दिन आपकी सेहत के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है. भारत के प्राचीन ग्रंथों के मुताबिक आज ही के दिन भगवान धन्वंतरि का जन्म हुआ था. धन्वंतरि को आयुर्वेद.. चिकित्सा और औषधि विज्ञान का जनक माना जाता है. धनतेरस के दो प्रमुख पहलू हैं - पहला है सोने की चमक, और दूसरा है आयुर्वेद की शक्ति. पहले सोने की चमक को देखते हैं - सोने का भारतीय संस्कृति में बहुत महत्व है. ऋग्वेद में भी इसका उल्लेख मिलता है. आज हमने इस संबंध में एक पुस्तक पढ़ी. इस किताब का शीर्षक है - भारतीय संस्कृति और हिंदी प्रदेश. इसके Volume 1... इसके पेज नंबर 117 और 118 में ऋग्वेद के कुछ अंश दिए गए हैं. 

इसमें लिखा है कि जिस हिरण्य-गर्भ से ये सारा संसार उत्पन्न हुआ है, वो भी सूर्य के समान है. जो सूर्य में है, वही मनुष्य में है. स्वर्णिम आभा वाला सूर्य सभी चीज़ों को उत्पन्न करता है, उसका प्रकाश अक्षय है. सोने के समान चमकने वाले इस तेज को कोई नष्ट नहीं कर सकता. 

यहां इस बात पर ज़ोर दिया गया है कि संसार को चलाने वाली सबसे बड़ी शक्ति सूर्य है और सूर्य की चमक सोने की चमक से मिलती जुलती है. शायद यही वजह है कि सोने के प्रति भारत का विशेष लगाव है. अब आपको ये बताते हैं कि पूरी दुनिया के पास और ख़ासतौर पर भारत के पास कितना सोना है? दुनिया के किस देश के पास कितना सोना है, इसकी कोई आधिकारिक जानकारी तो नहीं है. लेकिन वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के मुताबिक पूरी दुनिया की खदानों से अब तक 1 लाख 90 हज़ार टन सोना निकाला जा चुका है. और इसमें से दो तिहाई सोना 1950 के बाद निकाला गया. 

इसमें से करीब 48% सोना यानी 90 हज़ार 700 टन सोना... ज़ेवर और आभूषण के रूप में मौजूद है. फिलहाल चीन एक साल में सबसे ज्यादा सोने का उत्पादन और उपयोग करता है. 2017 में चीन ने 426 टन सोने का उत्पादन किया और 1 हज़ार 89 टन सोने का उपयोग किया. जबकि सोने के उपयोग में भारत दूसरे नंबर पर है. 2017 में भारत में 727 टन सोने का उपयोग हुआ था. अमेरिका तीसरे नंबर पर है, जहां 2017 में 170 टन सोने का उपयोग हुआ था. 

ऐसा अनुमान है कि भारत में इस वक़्त करीब 24 हज़ार टन सोना है. और इसमें भी भारतीय महिलाओं के पास 21 हज़ार टन सोना है. भारतीय लोगों को सोने से विशेष प्रेम है. एक औसत भारतीय परिवार की कुल संपत्ति में 11% हिस्सा सोने का होता है. तमिलनाडु को सोने से सबसे ज़्यादा लगाव है, वहां एक परिवार की कुल संपत्ति में औसतन 28% हिस्सा सोने का होता है.

भारत पूरी दुनिया में हर साल सोने का सबसे ज्यादा आयात करता है. यानी भारत में सोने की मांग इतनी ज़्यादा है कि विदेशों से सोना मंगवाना पड़ता है. World Gold Council की रिपोर्ट के अनुसार भारत के मंदिरों के पास 2 से 4 हज़ार टन सोना है. और इसमें भी सबसे ज्यादा सोना केरल के पद्मनाभ स्वामी मंदिर के पास है. अकेले इस मंदिर में 1300 टन सोना है.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close