SSC CGL, CHSL 2017 का पेपर रद्द हुआ तो 60 लाख परीक्षार्थियों पर पड़ सकता है असर!

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को साल 2017 में हुई एसएससी की परीक्षाओं को निरस्त कर दोबारा कराने की हिमायत की. सभी पक्षों की बात सुनने के बाद सोमवार को शीर्ष अदालत ने कहा, छात्रों के हितों में राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) या सीबीएसई नए सिरे से इनका आयोजन कर सकती है.

SSC CGL, CHSL 2017 का पेपर रद्द हुआ तो 60 लाख परीक्षार्थियों पर पड़ सकता है असर!

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को साल 2017 में हुई एसएससी की परीक्षाओं को निरस्त कर दोबारा कराने की हिमायत की. सभी पक्षों की बात सुनने के बाद सोमवार को शीर्ष अदालत ने कहा, छात्रों के हितों में राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) या सीबीएसई नए सिरे से इनका आयोजन कर सकती है. कोर्ट ने केंद्र सरकार को फटकार लगाते हुए इस पर जवाब भी मांगा. अदालत ने केंद्र से कहा कि पूरे मामले की रिपोर्ट तैयार करे और 13 नवंबर तक अपना जवाब दाखिल करें कि गलती कहां और किससे हुई है.

अदालत ने परीक्षा परिणाम पर लगा दी थी रोक
इससे पहले अगस्त 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने सख्त कदम उठाते हुए एसएससी संयुक्त स्नातक स्तर परीक्षा 2017 (SSC CGL) और एसएससी संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा, 2017 (SSC Combined Senior Secondary Level Exams 2017) का रिजल्ट जारी करने पर रोक लगा दी थी. शीर्ष अदालत ने कहा था, पहली नजर में पूरी एसएससी परीक्षा प्रक्रिया और परीक्षा में गड़बड़ी नजर आ रही है. कोर्ट ने सोमवार को यह भी कहा कि हमने परीक्षा के नतीजों पर रोक लगा दी थी क्योंकि ऐसा करने के लिए पहली नजर में सामग्री थी.

सुप्रीम कोर्ट की तरफ से आदेश नहीं दिया गया
हालांकि इस पूरे मामले में सुप्रीम कोर्ट की तरफ से कोई आदेश नहीं दिया गया है. सोमवार को शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि परीक्षा में हुई अनियमितताओं के कारण असली लाभार्थी का पता लगाना मुश्किल है, इसलिए इसे रद्द करना ही बेहतर होगा. अगर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की तरफ से पेपर रद्द करने की हिमायत पर अमल किया तो इससे करीब 60 लाख परीक्षार्थियों पर असर पड़ सकता है. आपको बता दें कि एसएससी सीजीएल 2017 में करीब 30 लाख 26 हजार परीक्षार्थियों ने आवेदन किया था. इसके अलावा करीब इतने ही आवेदकों ने SSC CHSL 2017 के लिए फॉर्म भरा था.

सात दिन तक चला था प्रदर्शन
परीक्षा देने वाले हजारों परीक्षार्थियों ने एसएससी एग्जाम में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए सीबीआई जांच कराने की मांग की थी. परीक्षार्थियों की मांग थी कि 17 से 22 फरवरी 2018 के बीच हुए सभी पेपर की सीबीआई जांच हो. सात दिन तक चले परीक्षार्थियों के प्रदर्शन के बाद मार्च में केंद्र ने सीबीआई जांच की मांग को मान लिया था. सीबीआई ने अपनी जांच के आधार पर मई में 17 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली. जिन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई, उनमें 10 कर्मचारी सिफी टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के भी थे. जांच में सिफी टेक्नोलॉजी का भी पेपर लीक मामले से संबंध सामने आया था.

SSC CGL, SSC CHSL 2017, ssc senior secondary level, ssc cgl 2017, exam result, SSC exam, jobs

20 मिनट पहले ही वायरल हुआ था प्रश्नपत्र
सीबीआई ने जांच में पाया था कि एसएससी की सीजीएल टियर-2 की परीक्षा 17 फरवरी 2018 से 22 फरवरी 2018 के बीच दो बैच में होनी थी. पहले बैच की परीक्षा का समय सुबह 10:30 बजे और दूसरे बैच की परीक्षा का समय दोपहर 2:30 बजे से था. 21 फरवरी 2018 को परीक्षा के लिए चेन्‍नई स्थि‍त सिफी टेक्‍नोलॉजी के हेडक्‍वाटर ने मुंबई स्थिति डाटा सेंटर से सुबह 9:30 बजे से सुबह 10 बजे के बीच सभी प्रश्‍न पत्रों को सभी परीक्षा सेंटर के सिस्‍टम में अपलोड कर दिया.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close