यूपी में 80 हजार करोड़ की परियोजनाओं की शुरुआत करेंगे पीएम मोदी, लाखों लोगों को मिलेगी नौकरी

इन प्रोजेक्ट पर चालू होने से लाखों लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा.

यूपी में 80 हजार करोड़ की परियोजनाओं की शुरुआत करेंगे पीएम मोदी, लाखों लोगों को मिलेगी नौकरी
ये प्रोजेक्ट इंवेस्टर्स समिट के दौरान किए गए MoU का हिस्सा हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: मकर संक्रांति के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश की जनता को 80 हजार करोड़ रुपये की सौगात देने जा रहेहैं. सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी 20 जनवरी को प्रदेश में 80 हजार करोड़ की परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे. ज्यादातर परियोजनाएं आईटी और इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र से संबंधित हैं, और ये इस साल फरवरी में हुई यूपी इनवेस्टर्स समिट के दौरान योगी आदित्यनाथ सरकार और विभिन्न कंपनियों के बीच हुए 4.68 करोड़ रुपये के एमओयू का हिस्सा हैं.

सहयोगी वेबसाइट ज़ीबिज़ की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने बताया, 'हम इस महीने करीब 1 लाख करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास करने की योजना बना रहे हैं. हमें विश्वास है कि 75000 से 80000 रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास जरूर होगा.' हालांकि राज्य सरकार को अभी भी पीएमओ से प्रधानमंत्री के आने की आधिकारिक पुष्टि का इंतजार है. अधिकारियों का कहना है कि इन प्रोजेक्ट पर चालू होने से लाखों लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा.

बीजेपी गठबंधनों के लिए तैयार है, पुराने मित्रों के साथ दोस्ती निभाती है : पीएम मोदी

हालांकि समाचार पत्र राजस्थान पत्रिका की रिपोर्ट के मुताबिक शिलान्यास समारोह के लिए सरकार ने एलडीए से तैयारी करने के लिए कहा है. उद्योग बंधु द्वारा एलडीए के वीसी को लिखे पत्र में कहा गया है कि आयोजन इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के ज्यूपिटर हॉल में होगा. इसलिए 20 तारीख के आसपास इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में कोई बुकिंग नहीं लेने के लिए कहा गया है.  

यूपी इनवेस्टर्स समिट के दौरान हुए एमओयू को लेकर पहला शिलान्यास पिछले साल जुलाई में हुआ था. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री शामिल हुए थे और इस दौरान 60000 करोड़ रुपये के 80 परियोजनाओं का प्रारंभ हुआ. योगी आदित्यनाथ सरकार बुंदेलखंड डिफेंस कॉरिडोर, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे और झेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर भी तेजी से काम कर रही है. उम्मीद है कि डिफेंस कॉरिडोर में 50000 करोड़ रुपये का निवेश आएगा, जबकि 289 किलोमीटर लंबे बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के लिए 10000 करोड़ रुपये निवेश होंगे.