बेटा है मोदी सरकार में मंत्री, बाप ने कर्नाटक में सरकार बनाने पर BJP को यूं कोसा

यशवंत सिन्‍हा बीजेपी के एक कद्दावर नेता रह चुके हैं और 1990 में चंद्रशेखर की सरकार में देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं. पिछले महीने पटना में आयोजित एक कार्यक्रम में सिन्हा ने बीजेपी से सभी तरह के संबंधों को खत्‍म करने की घोषणा की थी.

बेटा है मोदी सरकार में मंत्री, बाप ने कर्नाटक में सरकार बनाने पर BJP को यूं कोसा
फोटो सभार - DNA

नई दिल्‍ली: कुछ महीनों पहले बीजेपी से अपनी राहें अलग करने वाले दिग्‍गज नेता रहे यशवंत सिन्‍हा ने एक बार फिर बीजेपी के खिलाफ अपना मुंह खोला है. कर्नाटक में चले रहे सियासी ड्रामे पर बालते हुए यशवंत सिन्‍हा ने कहा है कि 'अच्‍छा हुआ मैंने बीजेपी छोड़ दी..' यशवंत सिन्‍हा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, 'मैं खुश हूं कि मैंने उस पार्टी को छोड़ दिया जो कर्नाटक में इतनी बुरी तरह से लोकतंत्र की धज्‍ज‍ियां उड़ा रही है. लेकिन यदि यह पार्टी अगले साल लोकसभा में बहुमत नहीं पा सकेगी तो ऐसा ही यहां भी करेगी. आप मेरे शब्‍दों को ध्‍यान रखिएगा.' बता दें कि यशवंत सिन्‍हा के बेटे जयंत सिन्‍हा मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं.

बीजेपी के वित्त मंत्री रह चुके हैं सिन्‍हा
यशवंत सिन्‍हा बीजेपी के एक कद्दावर नेता रह चुके हैं और 1990 में चंद्रशेखर की सरकार में देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं. पिछले महीने पटना में आयोजित एक कार्यक्रम में सिन्हा ने बीजेपी से सभी तरह के संबंधों को खत्‍म करने की घोषणा की थी. इसके साथ ही उन्होंने सक्रिय राजनीति से भी संन्यास लेने की घोषणा कर दी थी. पटना में राष्ट्रीय मंच के एक कार्यक्रम में उन्होंने यह घोषणा की. उन्होंने कहा, "लंबे अरसे से भारतीय जनता पार्टी के साथ जो मेरा संबंध है आज मैं वो संबंध विच्छेद कर रहा हूं." उन्होंने अपने फैसले की मूल वजह ये बताई की आज देश मे लोकतंत्र खतरे में है. कुछ देर पहले किए गए अपने ट्वीट में उन्‍होंने लिखा, 'जो आज कर्नाटक में हो रहा है, वह अगले साल दिल्‍ली में होने वाले घटनाक्रम की रिहर्सल है.'

 

बता दें कि कर्नाटक चुनावों में जहां बीजेपी को 104 सीटें मिली हैं, वहीं कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली हैं. सबसे ज्‍यादा सीटों के बाद भी बीजेपी बहुमत से दूर है, जबकि वहीं कांग्रेस-जेडीएस ने मिलकर 117 का आंकड़ा पाकर बहुमत साबित करने का दावा किया. लेकिन बीजेपी के गर्वनर वजुभाई वाला ने बीजेपी को सरकार बनाने का पहला मौका दे दिया है. आज सुबह राज्‍यपाल वजुभाई वाला ने येदियुरप्‍पा को सीएम पद की शपथ दिला दी है. अब बीजेपी को सदन में अपना बहुमत साबित करना है.

B.S. Yeddyurappa

सुप्रीम कोर्ट पहुंची कांग्रेस
एक तरफ बीजेपी के सीएम उम्मीदवार शपथ ली है तो दूसरी तरफ कांग्रेस ने राज्यपाल पर आरोप लगाते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) का रुख किया है और तत्काल सुनवाई करने का आग्रह किया है. कांग्रेस की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एके सीकरी, अशोक भूषण और एसए बोडबे की खंडपीठ ने आधी रात के बाद पौने दो बजे कांग्रेस-जेडीएस की याचिका पर सुनवाई शुरू की और सुबह पांच बजे य‍ह फैसला सुना दिया. सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सुनवाई में कहा कि व‍ह राज्‍यपाल के संवैधानिक अधिकारों में दखल नहीं दे सकती, इसलिए येदियुरप्‍पा पहले से तय कार्यक्रम के मुताबिक आज ही शपथ लेंगे. याचिकाकर्ता कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी ने अर्जी दी थी कि शाम तक इस शपथ ग्रहण समारोह को टाल दिया जाए, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया है.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close