विकास दर फिर रफ्तार पकड़ेगी: मनमोहन सिंह

Last Updated: Tuesday, June 19, 2012 - 12:47

लॉस कैबोस (मेक्सिको): प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को आश्वस्त किया कि निवेशक भावना में सुधार होगा और अर्थव्यवस्था की विकास दर फिर से रफ्तार पकड़ेगी, क्योंकि जनता उच्च विकास दर के लिए अधीर है।
प्रधानमंत्री ने यहां जी-20 में कहा, "हम ऐसा वातावरण तैयार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो निवेशक भावना को मजबूती प्रदान करेगा और उद्यम व रचनात्मकता के अनुकूल वातावरण को बढ़ावा देगा।"
मनमोहन सिंह ने कहा, "हमारी नीतियां पारदर्शी, स्थिर होगी तथा घरेलू व विदेशी निवेशकों को एक स्तरीय अवसर मुहैया कराने के लिहाज से तैयार की गई होंगी।"
प्रधानमंत्री के अनुसार, भारत की 6.9 प्रतिशत विकास दर बाहरी दुनिया को भले अच्छी लगे, लेकिन नागरिक इससे अधिक की आकांक्षा रखते हैं। उन्होंने कहा कि इन आकांक्षाओं को अधोसंरचना निवेश और निवेशक भावना में सुधार जैसे कदमों के जरिए पूरा किया जाएगा। प्रधानमंत्री ने जी-20 के सामान्य सत्र में कहा, "2011-12 में हमारी विकास दर इसके पहले के वर्ष के 8.4 प्रतिशत से घटकर 6.9 प्रतिशत पर आ गई है। लेकिन दुनिया के बाकी हिस्सों में विकास दर के अनुभवों के मद्देनजर यह आकड़ा ठीकठाक लग सकता है।"
प्रधानमंत्री ने कहा, "लेकिन हमारी जनता उच्च विकास दर पर वापसी करने और तीव्र रोजगार सृजन के लिए अधीर है। भारतीय अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत है और हमें पूरा विश्वास है कि हम फिर से आठ से नौ प्रतिशत वार्षिक विकास दर हासिल कर लेंगे।"
प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि 2008 में जारी किए गए वित्तीय प्रोत्साहन को वापस ले लिया जाएगा और उर्वरक व ईंधन जैसे क्षेत्रों में दी जारी सब्सिडी में कटौती करने के लिए कठोर निर्णय लिए जाएंगे।
प्रधानमत्री ने कहा, "इस संदर्भ में मैं भारत में सभी निवासियों को विशिष्ट पहचान संख्या मुहैया कराने के लिए जारी एक ऐतिहासिक प्रयास का जिक्र करना चाहूंगा।" (एजेंसी)





comments powered by Disqus