चैंपियंस ट्रॉफी : हॉकी इंडिया की पहली भिड़ंत इंग्लैंड से

Last Updated: Friday, November 30, 2012 - 18:29

मेलबर्न : लंदन ओलम्पिक के निराशाजनक प्रदर्शन को भुलाकर भारतीय टीम 34वें अंतर्राष्ट्रीय पुरुष हॉकी चैम्पियंस ट्रॉफी में अपने अभियान की शुरुआत इंग्लैंड के खिलाफ शनिवार को करेगी। ओलम्पिक के बाद यह पहला मौका है जब भारतीय टीम किसी बड़े आयोजन में शिरकत कर रही है जहां उसके खिलाड़ियों की मानसिक मजबूती, शारीरिक क्षमता और खेल सम्बंधी कौशल की अग्नि परीक्षा होने वाली है।
एक से नौ दिसम्बर तक आस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में आयोजित होने वाले इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में आठ टीमें हिस्सा लेंगी। भारत को इंग्लैंड, जर्मनी और न्यूजीलैंड के साथ पूल-ए में रखा गया है जबकि पूल-बी में मेजबान आस्ट्रेलिया, बेल्जियम, नीदरलैंड्स और पाकिस्तान की टीमें हैं। चैम्पियंस ट्रॉफी में भारतीय टीम छह वर्ष बाद वापसी कर रही है। इससे पहले, भारत ने अंतिम बार वर्ष 2005 में इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था।
हाल में आस्ट्रेलिया के पर्थ में आयोजित नाइन-ए-साइड लैंको सुपर सीरीज में भारत ने हिस्सा लिया था। सुपर सीरीज में भारत ने लीग मैचों में अपने चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 5-2 से पराजित किया था। भारतीय टीम में अनुभवी खिलाड़ियों के अनुपस्थिति के बावजूद कोच माइकल नॉब्स और कप्तान सरदार सिंह अच्छे प्रदर्शन के प्रति आश्वस्त हैं।
बकौल नॉब्स, `हम अपना पहला मुकाबला इंग्लैंड के खिलाफ खेलेंगे। यह हमारी युवा टीम के लिए इम्तिहान होगा। हमारे पास चार खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण करना है जबकि दो अन्य खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने केवल दो अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले हैं। हमने अपनी टीम भविष्य को ध्यान में रखकर चुनी है, जिसमें कई खिलाड़ी नए हैं। अक्षदीप सिंह सबसे युवा खिलाड़ी हैं। उनकी उम्र 17 वर्ष है।`
भारतीय टीम अपने दूसरे मुकाबले में रविवार को न्यूजीलैंड से जबकि तीसरे मुकाबले में चार दिसम्बर को जर्मनी से भिड़ेगी। नॉब्स ने कहा, `गुरमेल सिंह राइट हाफ जबकि मनप्रीत सिंह और कोथाजीत लेफ्ट हाफ सम्भालेंगे। इन सभी युवा खिलाड़ियों ने हाल में सुल्तान जोहोर कप में अपनी काबिलियत साबित की थी।` (एजेंसी)



First Published: Friday, November 30, 2012 - 18:29


comments powered by Disqus