यूएस ओपन: बोपन्ना बाहर, अब पेस और सानिया पर दारोमदार

Last Updated: Monday, September 2, 2013 - 13:32

न्यूयार्क : रोहन बोपन्ना का पुरूष युगल के तीसरे दौर में हार के साथ अमेरिकी ओपन टेनिस टूर्नामेंट में सफर थम गया लेकिन स्टार खिलाड़ी लिएंडर पेस और सानिया मिर्जा ने वर्ष के आखिरी ग्रैंडस्लैम में भारतीय उम्मीदें कायम रखी हैं। बोपन्ना और फ्रांस के एडुआर्ड रोजर वेसलिन की छठी वरीयता प्राप्त जोड़ी को तीसरे दौर में कोलिन फ्लेमिंग और जोनाथन र्मे की 12वीं वरीय ब्रिटिश जोड़ी के हाथों 4-6, 4-6 से हार का सामना करना पड़ा। यह मैच 81 मिनट तक चला।

बोपन्ना और रोजर वेसलिन को छह बार ब्रेक प्वाइंट लेने का मौका मिला लेकिन वह केवल एक बार सफल रहे। इसके अलावा वे केवल 58 अंक ही जीत पाये जबकि ब्रिटिश जोड़ी ने 73 अंक बनाये। पहले सेट में फ्लेमिंग और र्मे को ब्रेक प्वाइंट के तीन मौके मिले जिनमें से वह दो पर अंक बनाने में सफल रहे। दूसरी तरफ से बोपन्ना और रोजर वेसलिन की जोड़ी ने चार में से तीन ब्रेक प्वाइंट गंवाये। दूसरे सेट में उन्होंने कुछ चुनौती पेश की लेकिन वह ब्रिटिश जोड़ी को जीत से नहीं रोक सके। फ्लेमिंग और र्मे क्वार्टर फाइनल में बाब और माइक ब्रायन की शीर्ष वरीयता प्राप्त जोड़ी से भिड़ेगे। बोपन्ना और उनकी जर्मन जोड़ीदार जूलिया जार्जस इससे पहले मिश्रित युगल के पहले दौर में हार गये थे। भारत के लिये खुशी की बात यह रही कि पेस और रादेक स्टेपनेक की जोड़ी पुरूष युगल तथा सानिया और झी झेंग की जोड़ी महिला युगल के क्वार्टर फाइनल में पहुंचने में सफल रही।
पेस और चेक गणराज्य के उनके जोड़ीदार स्टेपनेक ने फ्रांस के माइकल लोड्रा और निकोलस माहूट की फ्रांसीसी जोड़ी को 7-5, 4-6, 6-3 से हराया। सानिया और झेंग की दसवीं वरीय जोड़ी ने जर्मनी की अन्ना लेना ग्रोएनफेल्ड और चेक गणराज्य की क्वेटा पेश्के की जोड़ी को एक घंटा 12 मिनट तक चले मैच में 6-2, 6-3 से हराया। पुरूष युगल में अभी दिविज शरण पर भी उम्मीदें टिकी हैं। दिविज और चीनी ताइपै के उनके जोड़ीदार येन सुन लु को क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने के लिये पाकिस्तान के आयसम उल हक कुरैशी और हालैंड के जीन जुलियन रोजर से भिड़ना होगा। यदि वे यह मुकाबला जीत जाते तो अंतिम आठ में उनका सामना पेस और स्टेपनेक से होगा। (एजेंसी)



First Published: Monday, September 2, 2013 - 13:32


comments powered by Disqus