खून से बनाई बापू की तस्वीर

एक पाकिस्तानी चित्रकार ने अपने खून से महात्मा गांधी की तस्वीर बनाई है. अहिंसा के पुजारी का यह चित्र भारत में उनको समर्पित एक संग्रहालय में लगाया जाएगा

अंतिम अपडेट: Oct 3, 2011, 03:00 PM IST

 

लाहौरः विश्व भर में शांति और सौहार्द का जिक्र होने पर सबसे पहले महात्मा गांधी का नाम आता है. बापू सत्य और अहिंसा के बल पर अंग्रेजों को देश से भगाने में सफल रहे. गांधी और उनके विचारों को पसंद करने वालों की आज भी कोई कमी नहीं है. ऐसे में दूसरे मुल्क का कोई व्यक्ति अगर अपने खून से महात्मा गांधी की तस्वीर बनाया हो तो कतई हैरत नहीं होना चाहिए.

एक पाकिस्तानी चित्रकार ने अपने खून से महात्मा गांधी की तस्वीर बनाई है. अहिंसा के पुजारी का यह चित्र भारत में उनको समर्पित एक संग्रहालय में लगाया जाएगा.

पेंटर बाबू के नाम से चर्चित वसील का भारतीयों से कहना है कि उनके जैसे आम पाकिस्तानी शांतिप्रिय हैं. साथ ही वसील ने यह भी कहा कि महात्मा गांधी का चित्र अपने खून से इसलिए बनाया ताकि वह दुनिया को शांति और प्रेम का संदेश दे सकें. वसील हमेशा से ऐसा कुछ करना चाहते थे जिससे कि दुनिया में वे अपनी अलग पहचान बना सके. दो साल पहले अपने दोस्तों के साथ बातचीत में वसील ने सोचा कि महान नेताओं की तस्वीरें वह अपने खून से बनाएंगे.

वसील ने बताया कि उन्होंने सबसे पहले अपने खून से बापू की तस्वीर बनाई. इसके बाद उन्होंने पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना, प्रख्यात शायर अल्लामा मोहम्मद  इकबाल, दिवंगत प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो और दक्षिण अफ्रीकी नेता नेलसन मंडेला के चित्र इसी तरह अपने खून से बनाए.

वसील का कहना है कि इस तस्वीर के जरिए  उन्होंने बापू को अपने खून से श्रद्धांजलि दी है.