‘भारत-पाक संबंध में प्रगति की उम्मीद’

अमेरिका ने भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के बीच दिल्ली में हुई मुलाकात का स्वागत किया है और उम्मीद जताई है कि दोनों दक्षिण एशियाई देश वार्ता प्रक्रिया जारी रखेंगे।

अंतिम अपडेट: Apr 10, 2012, 08:45 AM IST

वाशिंगटन : अमेरिका ने भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के बीच दिल्ली में हुई मुलाकात का स्वागत किया है और उम्मीद जताई है कि दोनों दक्षिण एशियाई देश वार्ता प्रक्रिया जारी रखेंगे। विदेश विभाग की प्रवक्ता विक्टोरिया नूलैंड ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा कि हम भारत व पाकिस्तान के सम्बंधों में प्रगति व आगे भी दोनों देशों के बीच इस तरह की मुलाकातें होने की उम्मीद करते हैं।

 

उन्होंने कहा कि अमेरिका रविवार को हुई दोनों नेताओं की मुलाकात व सिंह की ओर से जरदारी का निकट भविष्य में पाकिस्तान यात्रा का निमंत्रण स्वीकार किए जाने से बहुत खुश है। नूलैंड ने कहा कि अमेरिका का मानना है कि दोनों देशों के सम्बंधों में विस्तार होने से न केवल उनके पड़ोसियों बल्कि पूरे क्षेत्र को ही मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि इससे पड़ोसी देशों के लाखों नागरिकों को एक अधिक सुरक्षित व शांतिपूर्ण क्षेत्र में रहने का अवसर मिलेगा। नूलैंड ने कहा कि हम इस मुलाकात का स्वागत करते हैं।

 

सियाचीन के मुद्दे पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस मामले में अमेरिका मदद के लिए तैयार है लेकिन भारत सरकार व पाकिस्तान सरकार के बीच बातचीत से विवाद को अच्छी तरह सुलझाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमने दोनों देशों के सामने स्पष्ट किया है कि हम किसी भी तरह से मदद के लिए तैयार हैं लेकिन हमें लगता है कि इस मुद्दे को दोनों पक्षों के बीच बातचीत से सुलझाया जा सकता है। करीब 6,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित सियाचीन ग्लेशियर को दुनिया का सबसे अधिक ऊंचाई वाला युद्ध क्षेत्र कहा जाता है, जहां अप्रैल 1984 से ही भारतीय व पाकिस्तानी सेनाएं आमने-सामने हैं।

(एजेंसी)