रिटेल में FDI पर सरकार ने दी सफाई

रिटेल में एफडीआई के मुद्दे पर बढ़ते विरोधों के बीच केंद्रीय वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा ने विपक्षी पार्टियों को चिट्ठी लिखी है।

Updated: Nov 28, 2011, 09:53 AM IST

ज़ी न्यूज ब्यूरो

 

रिटेल में एफडीआई के मुद्दे पर बढ़ते विरोधों के बीच केंद्रीय वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा ने विपक्षी पार्टियों को चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी में खुदरा कारोबार में विदेशी निवेश के फायदे गिनाए गए है।

 

आनंद शर्मा ने यह चिट्ठी रिटेल में एफडीआई का विरोध कर रहे राज्यों के मुख्यमंत्रियों, राजनीतिक दलों को खत लिखकर इसके जरिए कहा है कि खुदरा करोबार में विदेश निवेश का फायदा किसानों और आम उपभोक्ताओं को होगा।

 

केंद्रीय वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा ने अपने खत में कहा है कि किसानों को अब पहले की तुलना में ज्यादा कीमत मिलेगी। उन्होंने कहा खुदरा में विदेशी निवेश का फायदा हर तबके को हागा। साथ ही खुदरा में विदेशी निवेश से रोजगार भी बढ़ेगा।

 

केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने रिटेल में एफडीआई पर मंजूरी के बाद यह दलील दी थी कि किराना व्‍यापार में विदेशी निवेश का कतई बुरा असर नहीं होगा। उन्होंने कहा कि भारत में विदेशी दुकानों के खुलने के बाद इससे कोई बुरा असर नहीं पड़ेगा। इससे सभी को फायदा होगा, खुदरा क्षेत्र में विदेशी निवेश से छोटे किराना व्‍यापारियों को कोई नुकसान नहीं होगा। हालांकि यह निर्णय राज्‍य पर बाध्‍य नहीं होगा।

 

उन्‍होंने यह भी कहा कि कई संस्‍थाओं से चर्चा करने के बाद ही विदेशी निवेश का फैसला किया गया। भारत में विदेशी निवेश का मॉडल यहां की जरूरत के हिसाब से ही तैयार किया गया है।

 

गौरतलब है कि केंद्र सरकार की ओर से मल्‍टी ब्रांड खुदरा कारोबार में 51 प्रतिशत विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) की अनुमति दिए जाने के बाद उसे भारी विरोध का सामना करना पड़ रहा है।