90000 रुपये मासिक कमाने वाला पारसी गरीब

Last Updated: Tuesday, June 12, 2012 - 20:45

मुंबई : योजना आयोग की नजर में 32 रुपये प्रतिदिन से अधिक कमाने वाला गरीब व्यक्ति की श्रेणी में नहीं आता हो, लेकिन मुंबई में पारसी लोगों के छोटे पर संभ्रांत वर्ग में 90 हजार रुपये प्रति माह तक कमाने वाला व्यक्ति गरीब माना जाता है।
बंबई पारसी पंचायत (बीपीपी) ने कल बंबई हाईकोर्ट को सूचित किया कि उसने गरीब पारसी की परिभाषा में परिवर्तन किया है और अब जो व्यक्ति 90 हजार रुपये प्रति माह तक कमाता है, वह समुदाय के लिए सब्सिडी पर आधारित आवासीय योजना के तहत आवास प्राप्त करने की पात्रता नहीं रखता है। शहर में 45 हजार पारसी समुदाय के लोगों के लिए पांच हजार मकान किराए पर दिए गए हैं।
पूर्व में 50 हजार रुपये प्रति माह कमाने वाले पारसी समुदाय के लोगों को गरीब माना जाता था लेकिन बीपीपी ने अब इसे बढ़ाकर 90 हजार रुपया प्रति माह कर दिया जब उसने उपनगरीय अंधेरी में समुदाय के लोगों को सब्सिडी के आधार पर कुछ फ्लैट बेचने का निर्णय किया।
अदालत ठाणे के दहानु निवासी 65 वर्षीय रोहिंग्टन तारापुरवाला की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। तारापुरवाला ने फ्लैट आवंटन के संबंध में उनके दावे को रद्द करने के बीपीपी के निर्णय को चुनौती दी थी। उन्होंने कहा था कि कुछ लोगों की मासिक आय 50 हजार रुपये से अधिक होने के बावजूद उन्हें फ्लैट आवंटित किए गए। (एजेंसी)



First Published: Tuesday, June 12, 2012 - 20:45


comments powered by Disqus