ब्याज दरें बढ़ने की आशंका से सेंसेक्स 60 अंक टूटा

मुद्रास्फीति में तेजी के रुख के बीच रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरें बढ़ाए जाने की आशंका से बैंक शेयरों में बिकवाली हुई जिससे शेयर बाजार में पांच दिनों से जारी तेजी आज थम गई और बीएसई सेंसेक्स 60 अंक टूट गया।

मुंबई : मुद्रास्फीति में तेजी के रुख के बीच रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरें बढ़ाए जाने की आशंका से बैंक शेयरों में बिकवाली हुई जिससे शेयर बाजार में पांच दिनों से जारी तेजी आज थम गई और बीएसई सेंसेक्स 60 अंक टूट गया। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स मजबूती के साथ खुला और कारोबार के दौरान दिन के उच्च स्तर 20,759.58 अंक पर पहुंच गया। हालांकि, बिकवाली दबाव में यह 59.92 अंक नीचे 20,547.62 अंक पर बंद हुआ।
इसी तरह, नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी 23.65 अंक गिरकर 6,089.05 अंक पर जा टिका, जबकि एमसीएक्स स्टाक एक्सचेंज का एसएक्स-40 सूचकांक 41.2 अंक नीचे 12,228.55 अंक पर बंद हुआ।
थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति सितंबर में सात महीने के उच्च स्तर 6.46 प्रतिशत पर पहुंच गई। ब्रोकरों ने कहा कि थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के बढ़कर 7 महीने के उच्च स्तर पर पहुंचने से रेपो दर बढ़ने की आशंका बढ़ गई है। विश्लेषकों का अनुमान है कि आरबीआई रेपो दर में चौथाई प्रतिशत की वृद्धि कर सकता है।
उन्होंने कहा कि निवेशकों ने बैंकिंग व ब्याज दरों को लेकर संवेदनशील शेयरों में बिकवाली की। (एजेंसी)