पांच राज्यों में चुनावी तिथि की घोषणा, पहली बार EVM में होगा मत नहीं देने का विकल्प

Last Updated: Friday, October 4, 2013 - 23:28

नई दिल्ली : चुनाव आयोग ने शुक्रवार को दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में विधानसभा चुनावों की घोषणा की जिसके मुताबिक छत्तीसगढ़ में दो चरणों में 11 और 19 नवंबर को वोट डाले जाएंगे, जबकि मध्य प्रदेश में 25 नवंबर, राजस्थान में 1 दिसंबर और दिल्ली तथा मिजोरम में 4 दिसंबर को मतदान होगा।
मुख्य चुनाव आयुक्त वी एस संपत ने यहां भीड़ भरे संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की। सभी राज्यों के लिए मतगणना 8 दिसंबर को कराई जाएगी। चुनाव की घोषणा के साथ ही इन पांचों राज्यों में चुनाव आचार संहिता तत्काल प्रभाव से लागू हो गयी। छत्तीसगढ़ को छोड़कर बाकी चार राज्यों में एक चरण में ही मतदान होगा जबकि छत्तीसगढ में दो चरणों में वोट डाले जायेंगे।
संपत ने चुनाव का ब्यौरा देते हुए बताया कि इन पांच राज्यों में विधानसभा की कुल 630 सीटों पर 11 करोड़ मतदाता करीब 1,30,000 मतदान केंद्रों पर अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे। सभी जगहों पर मतदान इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के माध्यम से होगा।
मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि उच्चतम न्यायालय के फैसले के मद्देनजर इन चुनावों में पहली बार मतदाताओं के लिए ‘इनमें से कोई नहीं’ (एनओटीए) का विकल्प होगा।
उच्चतम न्यायालय ने 27 सितंबर को अपने एक फैसले में मतपत्रों और ईवीएम में एनओटीए का विकल्प उपलब्ध कराने का निर्देश दिया था।
संपत ने बताया कि ईवीएम मशीन में उम्मीदवारों की सूची के सबसे अंत में एनओटीए का बटन होगा जो मतदाता उपरोक्त उम्मीदवारों में से किसी को अपना वोट नहीं देना चाहते वे एनओटीए का बटन दबा सकते हैं।
मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष ढंग से चुनाव संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गये हैं। पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के साथ ही गुजरात और तमिलनाडु में एक एक विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव कराने की भी घोषणा की गयी।
गुजरात की सूरत (पश्चिम) विधानसभा सीट और तमिलनाडु की येरकॉड (सुरक्षित) सीट के लिए 4 दिसंबर को मतदान होगा। 90 सदस्यीय छत्तीसगढ़ विधानसभा में 10 सीटें अनुसूचित जाति (एससी) के लिए और 29 सीटें अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित हैं।
इसी तरह मध्य प्रदेश की 230 सीटों में से 35 सीटें एससी के लिए और 47 सीटें एसटी के लिए, मिजोरम में 40 में से 39 सीटें एसटी के लिए, राजस्थान में 200 सीटों में से 34 एससी के लिए और 25 सीटें एसटी के लिए आरक्षित हैं। जबकि दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से 12 सीटें अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं।
चुनाव कार्यक्रमों के मुताबिक छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 18 सीटों के लिए अधिसूचना 18 अक्तूबर को जारी की जाएगी। नामांकन भरने की अंतिम तिथि 25 अक्तूबर निर्धारित की गयी है। इसके अगले दिन नामांकन पत्रों की जांच होगी और 28 अक्तूबर तक नाम वापस लिये जा सकते हैं। मतदान 11 नवंबर को होगा।
छत्तीसगढ़ में दूसरे चरण में 72 सीटों पर चुनाव के लिए अधिसूचना 25 अक्तूबर को जारी की जाएगी। नामांकन भरने की अंतिम तिथि 1 नवंबर निर्धारित की गयी है। इसके अगले दिन नामांकन पत्रों की जांच होगी और 4 नवंबर तक नाम वापस लिये जा सकते हैं। मतदान 19 नवंबर को होगा।
मध्य प्रदेश की सभी 230 सीटों के चुनाव के लिए अधिसूचना 1 नवंबर को जारी की जाएगी। नामांकन भरने की अंतिम तिथि 8 नवंबर होगी। इसके अगले दिन नामांकन पत्रों की जांच होगी और उम्मीदवार 11 नवंबर तक नाम वापस ले सकेंगे। मतदान 25 नवंबर को होगा।
राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों के चुनाव के लिए अधिसूचना 5 नवंबर को जारी की जाएगी। नामांकन भरने की अंतिम तिथि 12 नवंबर होगी। इसके अगले दिन नामांकन पत्रों की जांच होगी और उम्मीदवार 16 नवंबर तक नाम वापस ले सकेंगे। मतदान 1 दिसंबर को होगा। इसी तरह 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में चुनाव के लिए अधिसूचना 9 नवंबर को जारी होगी। उम्मीदवार 16 नवंबर तक नामांकन दाखिल कर सकेंगे।
नामांकन पत्रों की जांच 18 नवंबर को होगी और 20 नवंबर तक नाम वापस लिये जा सकेंगे। मतदान 4 दिसंबर को होगा। मिजोरम की 40 सीटों के लिए अधिसूचना 9 नवंबर को जारी होगी।
उम्मीदवार 16 नवंबर तक नामांकन दाखिल कर सकेंगे। नामांकन पत्रों की जांच 18 नवंबर को होगी और 20 नवंबर तक नाम वापस लिये जा सकेंगे। मतदान 4 दिसंबर को होगा। (एजेंसी)



First Published: Friday, October 4, 2013 - 17:01


comments powered by Disqus