चुनाव बदल सकता है देश का भाग्य: रामदेव

Last Updated: Tuesday, October 8, 2013 - 23:43

मनेंद्रगढ़ (छत्तीसगढ़) : देश और प्रदेशों में मतदाताओं को जागरूक करने निकले योगगुरु स्वामी रामदेव ने केंद्र की संप्रग सरकार को `लुटेरी` बताते हुए देश और प्रदेश से कांग्रेस को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया और कहा कि चुनाव देश और मतदाताओं का भाग्य बदल सकता है।
मतदाता जागरण अभियान एवं योग दीक्षा जनसभा के दौरान बाबा रामदेव ने कहा कि हमें एक ऐसा हिंदुस्तान बनाना है जहां किसी की मौत बीमारी से न हो। देश को रोग मुक्त बनाना है, इसके लिए स्वस्थ शरीर रखने के लिए प्रतिदिन योग एवं प्राणायाम करना आवश्यक है।
उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार से कमाया हुआ धन लंबे समय से सरकार ने बैठे लोगों ने कालेधन के रूप में विदेशी बैंकों में जमा कर रखा है। हमारा हक कुछ मुट्ठी भर लोग मार रहे हैं। 67 साल से दिल्ली की गद्दी में बैठी सरकार ने देश को इतना लूटा है जितना 1000 साल में विदेशियों ने भी नहीं लूटा। रामदेव ने कहा कि हमारे देश का एक लाख करोड़ रुपया विदेशी बैंकों में कालेधन के रूप में जमा है। यदि विदेशी बैंको में जमा यह कालाधन हमारे देश में वापस आ जाए तो भारत दुनिया का सरताज देश बन सकता है। सवां सौ करोड़ की आबादी वाले इस विशाल देश को एक ही खानदान ने दोनों हाथों से लूटा है।
उन्होंने कहा कि भारत हमारी मातृभूमि है और इसके लुटेरों को हम बख्शेंगे नहीं। देश में चारों ओर भ्रष्टाचार सरकारी धन की लूट, अपराध जैसी तबाही का मंजर है, चारों ओर अराजकता फैली है। स्वामी रामदेव ने कहा कि विदेशी मैडम और उसके राजकुमार ने इस देश को लूट लिया है। हम हिंदू, मुस्लमान, सिक्ख, ईसाई सब मिलकर देश को बचाएंगे। देश को बचाने के लिए सक्षम नेतृत्व चाहिए। देश को सुशासन देने के लिए नरेंद्र मोदी सक्षम नेतृत्व दे सकते हैं। जब देश ही नहीं रहेगा तो हम कहां रहेंगे। इसलिए भ्रष्टाचारियों को सरकार से उखाड़ फेंकना हर मतदाता का कर्तव्य है।
उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी अच्छे प्रधानमंत्री हो सकते हैं। छत्तीसगढ़ में भी अच्छी सरकार को फिर से मौका देना चाहिए। उन्होंने मतदाताओं का आह्वान करने हुए कहा कि वोट डालने सभी मतदाता जरूर जाएं, ताकि एक भी बेईमान, भ्रष्ट, लुटेरा चुनकर न आने पाए। चुनाव का एक दिन देश और मतदाता का भाग्य बदल सकता है। (एजेंसी)



First Published: Tuesday, October 8, 2013 - 23:43


comments powered by Disqus