हिंदू राष्‍ट्र टिप्‍पणी: कई राजनीतिक दलों के निशाने पर भागवत

Last Updated: Monday, August 18, 2014 - 21:44
हिंदू राष्‍ट्र टिप्‍पणी: कई राजनीतिक दलों के निशाने पर भागवत

नई दिल्ली : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत अपनी उस टिप्प्णी को लेकर सोमवार को कांग्रेस और सपा सहित कई राजनीतिक दलों के निशाने पर आए जिसमें उन्होंने कहा है कि भारत एक हिन्दू राष्ट्र है और हिन्दुत्व इसकी पहचान है।

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भागवत पर कड़ा प्रहार करते हुए आरएसएस प्रमुख को ‘हिटलर’’ बताया और कहा कि संघ को राजनीति में धर्म का इस्तेमाल कर भोलेभाले लोगों को बेवकूफ बनाना बंद करना चाहिए। सिंह ने सोशल नेटवकि’ग साइट ट्विटर पर अपनी टिप्पणियों में कहा कि मैं समझता था एक हिटलर बनने जा रहा है लेकिन ऐसा लगता है अब हमारे पास दो हैं। भगवान बचाये भारत को। उन्होंने सवाल किया कि अगर हिन्दुत्व धार्मिक पहचान है तो इसका सनातन धर्म से क्या संबंध है। उन्होंने कहा कि क्या जो व्यक्ति इस्लाम, ईसाई, सिख, बौद्ध, जैन या अन्य धर्म को मानता है वह भी हिन्दू है।

सिंह ने इस बात पर भी आश्चर्य जताया कि क्या वेद, पुराण, गीता उपनिषद या किसी अन्य धार्मिक ग्रंथ में हिन्दू या हिन्दुत्व शब्द का उल्लेख है। उन्होंने कहा कि आरएसएस राजनीति में धर्म का इस्तेमाल कर भोलेभाले लोगों को बेवकूफ बनाना बंद करे। हमें अपने सनातन धर्म और दूसरों के प्रति सहिष्णुता पर गर्व है। समाजवादी पार्टी ने संघ पर नफरत और अलगाववाद की राजनीति करने का आरोप लगाया।

सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि सामाजिक तनाव भड़काने के लिए वे इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करते हैं। माकपा ने भी हिन्दुत्व पर भागवत की टिप्पणी की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि जब से भाजपा की सरकार बनी है इस तरह के भड़काने वाले बयान दिये जा रहे हैं। माकपा पोलित ब्यूरो ने कहा कि हिन्दुत्व एक बहुसंख्यकवादी अवधारणा है जो आरएसएस के संकीर्ण एवं विभाजनकारी एजेंडे का हिस्सा है। पार्टी ने लोगों से ऐसे बयानों को खारिज करने और अपनी एकता बनाए रखने का आह्वान किया।

भागवत की टिप्पणी की आलोचना करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा ने कहा कि सांप्रदायिक आतंक, हिंसा और ध्रुवीकरण के अशुभ संकेत हैं। उन्होंने कहा कि यह इस बात की पुष्टि करता है कि भाजपा और आरएसएस कटु शब्दों का इस्तेमाल करती हैं और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लाल किले से जो भाषण दिया है यह उससे मेल नहीं खाता।

भाषा

First Published: Monday, August 18, 2014 - 21:44


comments powered by Disqus