रेल बजट 2014 : 72 नई ट्रेनों का ऐलान, यात्री किराए में कोई बदलाव नहीं

Last Updated: Wednesday, February 12, 2014 - 16:43

ज़ी मीडिया ब्यूरो
नई दिल्ली : रेल मंत्री मल्लिकार्जुन खड़गे ने बुधवार को अगले कारोबारी साल के लिए अंतरिम रेल बजट पेश किया। उन्होंने किराए या मालभाड़े में वृद्धि नहीं की। साथ ही 72 नई रेलगाड़ियां चलाने और पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों को रेल नेटवर्क से जोड़ने का प्रावधान किया। यह उनका प्रथम और वर्तमान संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार का आखिरी रेल बजट है। खड़गे ने किराया तय करने के लिए एक नया निकाय बनाने का वादा किया और कहा कि पूर्वी तथा पश्चिमी माल ढुलाई गलियारे पर काम अच्छी तरह से चल रहा है।
रेल मंत्री ने कुल मिलाकर 14 मिनट में अपने अंतरिम बजट भाषण का एक हिस्सा पढ़ा और उसके बाद अंतरिम रेल बजट तथा संबंधित दस्तावेजों को सदन के पटल पर रख दिया। उन्होंने 72 नई रेलगाड़ियां शुरू करने की घोषणा की, जिसमें शामिल होंगी 17 प्रीमियम रेलगाड़ियां, 38 एक्स्प्रेस रेलगाड़ियां, 10 पैसेंजर रेलगाड़ियां, चार उपनगरीय रेल सेवा और तीन मध्य दूरी की अंतरशहरी डीजल लोकोमोटिव।
उन्होंने कहा कि वित्तीय कठिनाइयों के बाद भी वर्तमान कारोबारी साल के लक्ष्य पूरे हो गए। उन्होंने कहा कि अगले कारोबारी साल में अरुणाचल प्रदेश और मेघालय को रेल नेटवर्क से जोड़ा जाएगा। अंतरिम रेल बजट में माल ढुलाई का लक्ष्य आगामी कारोबारी साल में 110 करोड़ टन रखा गया है, जो वर्तमान कारोबारी साल के संशोधित लक्ष्य से 4.97 करोड़ टन अधिक है।
विद्युतीकरण के मामले में वर्तमान कारोबारी साल में 4,500 किलोमीटर मार्ग के लक्ष्य की जगह 4,556 किलोमीटर मार्ग का विद्युतीकरण पूरा हुआ। गेज दोहरीकरण भी 2,000 किलोमीटर के लक्ष्य की जगह 2,227 किलोमीटर पूरा हुआ।
उधमपुर-कटरा खंड पर सेवा जल्द शुरू होगी। इस सेवा से यात्री वैष्णो देवी के अधिकतम निकट तक पहुंच सकेंगे। उन्होंने कहा कि तीन नए कारखाने 2013-14 में शुरू हुए। ये हैं बिहार के छपरा जिले में रेल पहिया संयंत्र, उत्तर प्रदेश के रायबरेली में रेल कोच कारखाना और पश्चिम बंगाल के डानकुनी में डीजल कंपोनेंट कारखाना। सुरक्षा के बारे में मंत्री ने कहा कि एक भी मानव रहित रेल फाटक शेष नहीं रहा। पैंट्री कार में खाना पकाने के लिए इंडक्शन का उपयोग शुरू किया गया है और रेल फाटकों पर आने वाली रेलगाड़ियों की जानकारी के लिए बेहतर ऑडियो-विडियो प्रणाली शुरू की गई है।
रेल बजट 2014 की मुख्य बातें
-यात्री किराए में कोई बदलाव नहीं।
-17 नई ऐसी ट्रेनें शुरू करने का ऐलान।
- रेल कश्मीर को कन्याकुमारी से जोड़ती है- रेल मंत्री
-राष्ट्र के निर्माण में रेल का बड़ा योगदान है-रेल मंत्री
-कटरा और वैष्णवदेवी के बीच पैसेंजर रेल सेवा जल्द शुरू होगी।
-रेल बजट के दौरान लोकसभा में जोरदार हंगामा।
-2207 किलोमीटर की नई लाइनें बिछाई।
-2500 सवारी डिब्बों में जैव शौचालय की व्यवस्था पूरी, इन्हें और बढ़ाया जायेगा।
- चुनिंदा मार्गो पर 160 से 200 किलोमीटर प्रति घंट की रफ्तार के लिए कम लागत वाले विकल्पों की खोज की जा रही है।
-गाड़ियों की सही स्थिति तथा उनके चालन का पता लगाने के लिए आनलाइन ट्रैकिंग की व्यवस्था होगी ।
-दूध की ढुलाई बढ़ाने के लिए पार्सल संबंधी नयी नीति और पार्सल कारोबार के लिए ‘हब एंड स्पोक’ की नयी अवधारणा।
-4456 किलोमीटर का विद्युतीकरण किया गया।
-बनिहाल टनल रेलवे की बड़ी उपलब्धि।
-बनिहाल से काजीगुंड तक टनल बना।
-असम में सामरिक महत्व के 510 किलोमीटर लम्बे रंगिया-मुरकोंगसेलेक लाइन का आमान परिवर्तन इस वर्ष में पूरा किया जायेगा।
-इस वित्त वर्ष में मेघालय राज्य और अरूणाचल प्रदेश की राजधानी रेलवे मानचित्र में शामिल होगी।
-लक्ष्य से ज्यादा रेल लाइनें बनी।
-रेलवे ने छठे वेतन को लागू किया।
-रेलवे में निवेश पर ध्यान देना जरूरी।
-मेघालय भी रेलवे के दायरे में ।
-पैंट्री कार में इंडक्शन कुकर का इस्तेमाल होगा।



First Published: Wednesday, February 12, 2014 - 12:04
comments powered by Disqus