मीडिया के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे आसाराम, सुनवाई 21 अक्टूबर को

Last Updated: Tuesday, October 8, 2013 - 14:44

जी मीडिया ब्यूरो
नई दिल्ली: नाबालिग लड़की से यौन शोषण मामले में जेल में बंद आध्यात्मिक गुरु आसाराम बापू ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि उन पर चल रहे यौन शोषण मामले में मीडिया द्वारा उनके, उनके परिवार और आश्रम के बारे में अटकलें लगाने तथा काल्पनिक खबरें दिखाने पर रोक लगाई जाए। वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति पी सतशिवम की पीठ के सामने कहा कि कोर्ट की कार्यवाही की सही रिपोर्टिंग पर कोई आपत्ति नहीं है लेकिन आसाराम के आश्रम को वेश्यालय की तरह पेश करने वाली काल्पनिक खबरों को रोका जाना चाहिए।
इस आश्रम में आसाराम से जुड़े लोगों के 10,000 बेटे-बेटियां पढ़ते हैं और मीडिया की खबरों का उन पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। कोर्ट ने कहा कि इस मामले पर सुनवाई 21 अक्टूबर को की जाएगी।
गौरतलब है कि कि दिल्ली पुलिस में आसाराम के खिलाफ एक 16 साल की नाबालिग लडकी ने शिकायत दर्ज करायी कि जोधपुर आश्रम में हाल ही में आसाराम ने उसका कथित यौन उत्पीडन किया। हालांकि आसाराम इन आरोपों से साफ इनकार कर चुके हैं और उन्होंने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है।





comments powered by Disqus