सुनंदा के दोनों हाथों पर थे दर्जनों चोट के निशान, `जांच` में शामिल हो सकते हैं थरूर!

Last Updated: Thursday, January 23, 2014 - 10:01

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो
नई दिल्ली : सुनंदा पुष्कर की मौत मामले में रहस्‍य गहराता जा रहा है। उनकी मौत के कारणों का अभी तक स्‍पष्‍ट खुलासा नहीं हो सका है। हालांकि, बीते दिन जो पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट सामने आई थी, उसमें यह उल्लेख किया गया कि सुनंदा के दोनों हाथों पर दर्जन भर से अधिक चोट के निशान थे।
इस बीच, पुलिस उनके पति और केंद्रीय मंत्री शशि थरूर से ‘जांच’ में शामिल होने के लिए कह सकती है। एक दिन पहले ही एक मजिस्ट्रेट ने इस हाई प्रोफाइल मामले की हत्या और आत्महत्या दोनों पहलुओं की जांच के लिए कहा था।
गौर हो कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह भी उल्लेख किया गया है कि सुनंदा के दोनों हाथों पर दर्जन भर से अधिक चोट के निशान थे। इसके साथ ही उनके बाएं गाल पर मामूली चोट का निशान का भी उल्लेख है। यद्यपि रिपोर्ट में इन चोटों से मौत होने से इनकार किया गया है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में सुनंदा के शव का पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सकों ने कहा कि उनकी मौत ‘अचानक और अप्राकृतिक’ थी और मौत ‘दवा की अधिक खुराक’ लेने से हुई जिसे दूसरे शब्दों में दवा विषाक्ता कहा जा सकता है।
सूत्रों का कहना है कि जांच अधिकारी एसडीएम की रिपोर्ट की ‘पड़ताल’ कर रहे हैं ताकि आगे के कदम के बारे में फैसला किया जा सके। पोस्टमार्टम रिपोर्ट ‘जहर’ के कारण मौत होने की बात की गई थी। इसके साथ ही 52 साल की सुनंदा की मौत को ‘आकस्मिक और अस्वाभाविक’ बताया गया था। सूत्रों ने कहा कि पुलिस दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 160 के तहत थरूर और 11 अन्य लोगों को जांच में शामिल होने के लिए कह सकती है। इन 11 लोगों में सुनंदा के भाई और बेटा भी शामिल हैं।
यह पूछे जाने पर कि थरूर से पूछताछ की जाएगी तो सूत्रों ने कहा कि पुलिस उन हालात और कारणों की जांच कर रही है जिनसे सुनंदा की मौत हुई तथा अगर जरूरत पड़ी को थरूर से कुछ चीजों को स्पष्ट करने के लिए कहा जा सकता है। उधर, सुनंदा के बेटे शिव मेनन ने अपनी मां की मौत के संबंध में लगाई जा रही विभिन्न तरह की अटकलों को सिरे से खारिज करते हुए बुधवार को कहा था कि वह ‘बहुत मजबूत’ थीं और आत्महत्या नहीं कर सकतीं। मेनन ने कहा कि उनकी मां की मौत मीडिया की खबरों के कारण उत्पन्न दबाव, तनाव और औषधि प्रयोग की गड़बड़ी के दुर्भाग्णूर्ण संयोजन से हुई।
21 वर्षीय मेनन सुनंदा और उनके पूर्व पति के पुत्र हैं। उन्होंने कहा कि शशि थरूर और उनकी मां के बीच ‘कभी कभार होने वाले मतभेदों’ के बावजूद ‘काफी प्रेम’ था। उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि केंद्रीय मंत्री उनकी मां को शारीरिक रूप से नुकसान पंहुचा सकते थे। मेनन ने कहा कि इन अटकलों को तो छोड़ ही दीजिए कि उन्होंने उनकी जान ली होगी, मुझे यह भी यकीन नहीं हो सकता कि शशि उनको नुकसान पहुंचाने में सक्षम थे।
सुनंदा बीते शुक्रवार की रात दक्षिणी दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में मृत पाई गई थी। थरूर के साथ कथित संबंध को लेकर पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार के साथ एक दिन पहले ट्विटर पर उनकी तकरार हुई थी। उधर, सूत्रों ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दो दवाओं के संयोजन की शिनाख्त की गई। इन दवाओं के अधिक सेवन से सुनंदा की मौत हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार सुनंदा के शरीर पर घाव के कई निशान भी थे। रिपोर्ट में इस बात को खारिज किया है कि सुनंदा की मौत इन चोट के कारण हुई। इसमें कहा गया है कि सुनंदा की मौत दिन में अपराह्न एक बजे से शाम सात बजे के बीच हुई।
मामले की जांच कर रहे सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट ने पुलिस को निर्देश दिया था कि वह इस मामले की हत्या और आत्महत्या दोनों पहलुओं से गहन जांच करे।



First Published: Thursday, January 23, 2014 - 10:01


comments powered by Disqus