राजनीति के `मास्टर ब्लास्टर` नरेंद्र मोदी

Last Updated: Friday, May 16, 2014 - 17:13

संजीव कुमार दुबे
दुनिया के महानतम संतों में शुमार होनेवाले स्वामी विवेकानंद को वेद की एक सूक्ति बड़ी प्रिय थी और इसका जिक्र उन्होंने युवाओं को प्रेरित करने के लिए बार-बार किया है। उतिष्ठित, जाग्रत, प्राप्य वरान्निबोधत् यानी उठो जागो और तबतक चलते रहो जबतक की लक्ष्य की प्राप्त नहीं हो जाए। यह सूक्ति वह युवाओं को प्रेरित करने के लिए कहते थे। वेदों की एक और सूक्ति की तरफ चलते हैं - `चरैवेति-चरैवेति` यानी चलते रहो, चलते रहो। यानी जीवन रूकने का नहीं बल्कि चलने का नाम है और मकसद तो चलने से ही हासिल होता है। यानी हर स्थिति और परिस्थिति में आगे ही बढ़ते जाने का नाम जीवन है। जीवन में निराश और हताश होकर लक्ष्य की प्राप्ति नहीं की जा सकती। जो हमारा समय निकल गया उसकी चिंता छोड़े। जो जीवन शेष बचा है उसके बारे में विचार करे।
ये दोनों सूक्तियां आज लोकसभा चुनाव के परिणामों के मद्देनजर सबसे बड़े महारथी, सबड़े बड़े `लड़ैया`, सियासी विजेता नरेंद्र मोदी पर लागू होती है। उन्होंने आज देश की सबसे बड़ी सियासी जीत को हासिल करने के साथ ही यह साबित कर दिया कि उन्हें जीतने और विजय श्री के वरण करने तक रुकने या आराम फरमाने का शौक नहीं है। यह कहना गलत नहीं होगा कि मोदी 65 साल के करीब है लेकिन चुनाव में उन्होंने एक युवा जैसी ऊर्जा से लबरेज होकर लड़ाई लड़ी, चुनाव प्रचार किया और सबको अचंभित कर दिया। अंतत: जीत बीजेपी की हुई और कांग्रेस सत्ता से बाहर हो गई। मोदी के नेतृत्व में बीजेपी केंद्र की सत्ता पर काबिज हो गई ओर भगवा परचम लहरा दिया। 1984 के बाद पहली बार लोकसभा चुनाव में किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिला है। यानी 30 साल बाद किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत हासिल हुई जो यह बताता है कि देश की जनता सही मायने में कांग्रेस से मुक्ति चाहती थी और देश की सियासत में बदलाव लाना चाहती थी।
केंद्र की सियासत में इस प्रचंड ऐतिहासिक जीत के कई मायने है जहां मोदी की अगुवाई में बीजेपी ना सिर्फ सत्ता पर काबिज हुई बल्कि उसने कांग्रेस का घमंड चकनाचूर कर दिया और परिवारवाद की परंपरा को खत्म कर दिया। बीजेपी इस बार के चुनाव में पहली बार अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए बहुमत के आंकड़े को अपने दम पर हासिल कर लिया। एनडीए को मोदी की अगुवाई में इतनी शानदार जीत हासिल होगी यह किसी ने सोचा भी नहीं था। लेकिन मोदी मैजिक और मोदी की लहर का असर इस बार सबपर भारी पड़ा और अंतत: इन सबने मोदी की विजय की पटकथा सियासी पटल पर लिखी दी।
नरेंद्र मोदी ने कई बार अपने चुनावी भाषणों में कहा था कांग्रेस इस बार के चुनाव में खाता तक नहीं खोल पाएगी। राजस्थान, गुजरात और गोवा इन तीन राज्यों में जो मोदी ने कहा वैसा ही हुआ। राजस्थान में 25,गुजरात में 26 और गोवा में 2 सीटों पर बीजेपी ने काबिज होकर कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया। चुनाव में मोदी आंधी की तरह नहीं सुनामी की तरह आए और कांग्रेस को बहाकर सत्ता से किनारे कर दिया।
अपने ताबड़तोड़ चुनाव प्रचार अभियान के दौरान विकास को अपना मुख्य मुद्दा बनाते हुए मोदी ने देश की युवा शक्ति ,मध्यवर्ग और ग्रामीण लोगों को ‘बदलाव की बयार ’ लाने का भरोसा दिलाने के लिए संपर्क साधने की पुरजोर कोशिश की और शायद उनकी यही कोशिश रंग लाई हालांकि बीच बीच में कभी कभार भगवा ताकतों के कुछ पसंदीदा विषयों को उठाकर मतदाताओं का ध्रुवीकरण करने की कोशिशें भी उनके अभियान में दिखीं । एक कुशल योजनाकार मोदी ने ,रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने वाले से लेकर भारत का एक लोकप्रिय नेता बनने तक का सफर बड़ी सफलता से पूरा किया हालाकि उनके बहुत से विरोधी उनके इस दावे से सहमत नहीं हैं कि वे कभी चाय भी बेचा करते थे । भाजपा ने उनके नेतृत्व में जबरदस्त बहुमत प्राप्त करने का ऐसा कारनामा अंजाम दिया है जैसा 1984 में राजीव गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने 400 से ज्यादा सीटों पर जीत दर्ज कर किया था और ऐसा इस बीच कोई भी अन्य दल नहीं कर पाया ।
13 सितंबर 2013 को मोदी को बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का दायित्व पार्टी ने दिया। उसके बाद वह ऐसा जुटे कि विजय गाथा की पटकथा लिखने के बाद ही रुके। 2014 के लोकसभा चुनावों की घोषणा हुई। 26 मार्च 2014 को मां वैष्‍णो देवी के आशीर्वाद के बाद उन्होंने विजय रैली का शुभारंभ किया । मां से उन्होंने आशीर्वाद लिया और जुट गए चुनाव प्रचार के विजय अभियान में। पहली रैली उन्होंने जम्मू-कश्मीर में की और अपनी आखिरी रैली पूर्वी उत्‍तर प्रदेश में बलिया में की जो 1857 की क्रांति के नायक मंगल पांडेय की भूमि है।
एक महीने के भीतर 12 दौर में 1350 स्‍थानों पर 3डी रैलियां संबोधित कीं। इस दौरान रैलिया, 3डी सभायें, चाय पे चर्चा आदि को मिला कर मोदी ने लगभग 5800 कार्यक्रम किये | 3 लाख किलोमीटर की यात्रा कर पूरे भारतवर्ष में 440 कार्यक्रम और रैलियां संबोधित की। इसमें भारत विजय रैलियां भी शामिल हैं जिनकी शुरुआत 26 मार्च 2014 से हुई थी । साथ ही इस दौरान भारत विजय 3डी रैलियों के रूप में एक ओर अभिनव प्रयोग हुआ। 3डी रैलियों के प्रति लोगों का उत्साह गजब का था।
मोदी बिना रुके, बिना थके अनवरत मेहनत करते रहे। आलम यह था कि वह एक दिन में चार से लेकर छह रैलियों तक को संबोधित कर रहे थे। कई हफ्तों तक उनका गला बैठ गया। फिर भी वह सियासात की बेहतरी की खातिर चिल्लाते रहे, गरजते रहे, जनता से वोट देने की अपील करते रहे। उनका चुनावी अभियान किसी मैराथन से कम नहीं था। मोदी ने अपने धुंआधार प्रचार अभियान से लोकसभा चुनाव प्रचार का रिकार्ड ब्रेक कर दिया। मोदी ने इस दौरान देश भर में तीन लाख किलोमीटर से अधिक दूरी तय कर एक अनूठा रिकार्ड बना दिया। कुल 5827 कार्यक्रमों में भाग लिया।
उन्होंने बीते साल सितंबर महीने से अब तक 25 राज्यों में 437 जनसभाओं को संबोधित किया और 1350 3डी रैलियों में शिरकत की। 5827 सार्वजनिक कार्यक्रमों के जरिये मोदी ने करीब 10 करोड़ लोगों तक अपनी पहुंच बनाई। मोदी का यह प्रचार अभियान ‘ऐतिहासिक’ और ‘अभूतपूर्व’ कहा जा सकता है। इस दौरान वह देश के हर राज्य और बड़े शहर में जा पहुंचे। पूरे देश को नाप लिया। मोदी चलते गए, बढ़ते गए और उन्होंने आखिरकार मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री बनकर ही दम लिया।
मोदी ने इस ऐतिहासिक जीत के बाद ट्वीट कर कहा भी- `यह जीत भारत की है और अच्छे दिन आनेवाले हैं।` मोदी की वेबसाइट उनके संकल्प को हर क्लिक पर और हर पल दोहराती नजर आती है- `सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूगा । मै देश नहीं झुकने दूंगा।` अब जनता ने देश का नेतृत्व मोदी के हाथों देकर उन्हें प्रधानमंत्री का दायित्व सौंप दिया है। अब देश की जनता के सामने उम्मीदें मोदी की नीति और नीयत से होंगी। उन मुश्किलों से निजात दिलाने से होंगी जो जनता चाहती है। मोदी हर कसौटी पर खरा उतरेंगे यह उम्मीदें सबको होंगी।



First Published: Friday, May 16, 2014 - 17:09


comments powered by Disqus