प्रियंका के हमले के जवाब में नरेंद्र मोदी ने खेला `जाति कार्ड`, बोले-क्या नीची जाति में पैदा होना गुनाह है

Last Updated: Tuesday, May 6, 2014 - 15:39

डुमरियागंज (उत्तर प्रदेश) : ‘नीच राजनीति’ संबंधी प्रियंका गांधी की टिप्पणी के जवाब में भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जाति का कार्ड खेलते हुए पूछा कि क्या निचली जाति से संबंधित होना अपराध है और कहा कि उन्होंने चाय बेची है, देश को नहीं बेचा।
यहां एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि निचली जाति के लोगों को हेय दृष्टि से देखा जाता है और बाहर बैठने को मजबूर किया जाता है। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने कहा कि आप जितना चाहे उतना मोदी का अपमान करें, आप उसे फांसी पर चढ़ा दें। लेकिन निचली जाति के लोगों का अपमान नहीं करें। मेरे ऊपर हमला किया गया और चाय बेचने वाला कहा गया जैसे कि मैंने कोई अपराध किया हो। ऐसे सवाल उठाये गए कि वह (मोदी) कैसे देश चलाएगा। मैंने चाय बेची है, देश नहीं। परमात्मा ऐसे लोगों को सद्बुद्धि दे।
नरेंद्र मोदी ने डुमरियागंज सीट से भाजपा प्रत्याशी जगदम्बिका पाल के समर्थन में आयोजित चुनावी जनसभा में कहा कि कल मैंने कांग्रेस परिवार का ब्यौरा दिया था लेकिन कांग्रेस के एक नेता ने बहुत हल्का शब्द प्रयोग किया है कि ना मेरा संस्कार है और ना ही चरित्र है। अगर हकीकत को बयान करना गुनाह है तो उसकी सजा भी मुझे मंजूर है। उन्होंने कहा कि मैंने कहा था कि हैदराबाद के एयरपोर्ट पर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री टी. अंजैया का अपमान किया गया था। अगर यह गलत है तो मोदी का अपमान ठीक है लेकिन सच पचा नहीं पाने के कारण आपने कह दिया कि हम ‘नीच’ राजनीति कर रहे है। क्या नीची जाति में पैदा होना गुनाह है। मैंने क्या नीची जाति में पैदा होकर कभी किसी का अपमान किया है। मुझ पर इतना गंदा आरोप लगा दिया गया है।
मोदी ने चुनाव आयोग से उनके उपर ऐसे हमलों को रोकने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की। उन्होंने कहा कि क्या चुनाव आयोग कार्रवाई कर सकता है? मैं नहीं जानता। उनकी मजबूरी उन्हें मुबारक। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने करारा प्रहार करते हुए कहा कि साठ साल की आजादी के बाद भी ये लोग कैसी मन:स्थिति में जी रहे हैं। ऐसे लोगों को परमात्मा सद्बुद्धि दे। मैं तो और कुछ कह भी क्या सकता हूं। चुनाव के बाद इस परिवार की राजनीति का इतिहास बनने की शुरुआत हो जाएगी। गौरतलब है कि प्रियंका ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार पर ‘निचले स्तर की राजनीति’ करने का आरोप लगाया था।
प्रियंका ने कहा था कि मोदी ने अमेठी की धरती पर मेरे शहीद पिता का अपमान किया है। अमेठी की जनता इस हरकत के लिए उन्हें कभी माफ नहीं करेगी। इनकी नीच राजनीति का जवाब मेरे बूथ कार्यकर्ता देंगे..अमेठी के एक-एक बूथ से जवाब आएगा। बहरहाल, मोदी ने अपने तेवर और तल्ख करते हुए कहा कि यह तो इतिहास की सचाई है कि मैं नीची जाति में पैदा हुआ लेकिन मैं देश को भरोसा देता हूं कि मेरी राजनीति निम्न स्तर की नहीं है। मेरा सपना है एक भारत, श्रेष्ठ भारत। उन्होंने कहा कि नीची जाति के लोगों के पूर्वजों ने आपकी (नेहरू-गांधी परिवार) शानोशौकत भरी जिंदगी की सलामती, सुख और चेहरे की चमक के लिये आप पर जिंदगी न्यौछावर कर दी लेकिन आपने हमें अपने दरवाजों के बाहर बैठाया, अपमानित किया, नीचा दिखाया मगर हमने कभी बुरा नहीं माना। आपको मोदी को जितनी गालियां देनी है, दें ,लेकिन मेरे नीच जाति के भाइयों का अपमान मत कीजिए।
मोदी ने कहा कि हमने सदियों से झेला है। आगे भी झेलने को तैयार हैं। हम कोई बदला नहीं चाहते लेकिन लोकतंत्र में हमें जीने का अधिकार तो दो। क्या गुनाह है हमारा। यह हिम्मत उनकी है कि हमें यह कहें कि हम नीच जाति के हैं, इस तरह हमें गाली दें। मोदी ने कहा कि अगर हिंदू मुसलमान से और मुसलमान हिंदू से लड़ेगा तो क्या दोनों को कुछ मिलेगा। किसी का भला होगा क्या। लेकिन हिंदू और मुसलमान की एक ही मुसीबत है और वह है गरीबी। उन्होंने पूछा कि हम हिन्दू और मुसलमानों को मिलकर गरीबी से लड़ना चाहिये कि नहीं। हम मिलकर गरीबी से लड़ें। बांटो और कुर्सी सम्भालो की राजनीति अब बहुत हो चुकी। अब तो एक ही मंत्र होना चाहिये कि भाई को भाई से, बिरादरी को बिरादरी से गांव को गांव से जोड़ो और विकास करो। आइये, विकास की राजनीति करें।
उन्होंने कहा कि यह सपा, बसपा और कांग्रेस 60 सालों में क्या आपकी जिंदगी में बदलाव लाए हैं। मैं आज उत्तर प्रदेश से कहने आया हूं कि एक बार विकास की राजनीति को अपना लीजिये, आपकी जिंदगी बदल जाएगी। इससे पहले प्रियंका के जवाब में मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा कि चूंकि मैं सामाजिक रूप से पिछड़ी जाति से संबंध रखता हूं इसलिए वे मेरी राजनीति को नीच राजनीति मानते हैं। मोदी ने कांग्रेस की स्टार प्रचार प्रियंका पर हमला और तेज करते हुए ट्वीट किया कि कुछ लोग (गांधी परिवार के लोग) यह देख नहीं सकते कि पिछड़े वर्ग के लोगों के त्याग, बलिदान और कड़े परिश्रम के कारण ही देश मौजूदा स्थिति में पहुंचा है। उन्होंने कहा कि यह ‘नीच राजनीति’ हजारों लोगों के आंसू पोंछेगी और देश को 60 वर्ष के कुशासन और वोट बैंक की राजनीति से स्वतंत्रता दिलाएगी।



First Published: Tuesday, May 6, 2014 - 15:39


comments powered by Disqus