भारतीय मुक्केबाजी ने लय खो दी है : विजेंदर

भारतीय मुक्केबाजी के पोस्टर ब्वॉय विजेंदर सिंह ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में मिले कांस्य पदक के बाद खेल की लोकप्रियता में इजाफे का फायदा नहीं उठा पाने पर अफसोस जताते हुए कहा कि वह लय टूट गई है और एक मौका भी हाथ से निकल गया।

Updated: Oct 11, 2013, 04:07 PM IST

नई दिल्ली : भारतीय मुक्केबाजी के पोस्टर ब्वॉय विजेंदर सिंह ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में मिले कांस्य पदक के बाद खेल की लोकप्रियता में इजाफे का फायदा नहीं उठा पाने पर अफसोस जताते हुए कहा कि वह लय टूट गई है और एक मौका भी हाथ से निकल गया।
कजाखस्तान के अलमाटी में 14 अक्तूबर से शुरू हो रही विश्व चैम्पियनशिप के लिये रवानगी से पहले विजेंदर ने कहा, ‘यह सही है कि अब वैसी हाइप नहीं रही। जब मैं 2009 में मिलान विश्व चैम्पियनशिप के लिये गया तो काफी उत्साह था। हम सभी को लग रहा था कि हम कहां पहुंच गए हैं लेकिन अब वह लय खो दी है।’
उन्होंने कहा, ‘हमने मौका गंवा दिया। बीजिंग के बाद हम जिस शिखर पर थे, उससे बेहतर करना चाहिये था।’ भारतीय मुक्केबाजी महासंघ एक साल से निलंबित है। अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ ने चेताया है कि दिसंबर के पहले सप्ताह तक यदि आईबीएफ फिर चुनाव नहीं कराता है तो भारतीय मुक्केबाज किसी टूर्नामेंट में भाग नहीं ले सकेंगे।
विजेंदर ने कहा,‘मैं महासंघ पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा लेकिन इतना ही कहूंगा कि मुक्केबाजी भारत में बड़ा खेल हो सकता था। हमारे लड़कों की उपलब्धियों के मुताबिक हमें प्रायोजक नहीं मिले। हमने अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन उसे भुनाया नहीं जा सका।’ (एजेंसी)