कोलकाता टेस्ट : रोहित ने अपने पहले टेस्ट में जड़ा शतक, भारत को बढ़त

Last Updated: Thursday, November 7, 2013 - 19:12

कोलकाता : सचिन तेंदुलकर के केवल 41 मिनट क्रीज पर बिताने के बाद पगबाधा आउट होने से जब दर्शकों में निराशा घर कर गयी थी तब अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे रोहित शर्मा ने गुरुवार को यहां जाबांज शतकीय पारी खेलकर भारत का पहले टेस्ट क्रिकेट मैच में वेस्टइंडीज पर पलड़ा भारी कर दिया।
रोहित ने नाबाद 127 रन की बेहतरीन पारी खेली। उन्हें रविचंद्रन अश्विन ( नाबाद 92) के रूप में बहुत अच्छा जोड़ीदार मिला जिसके साथ उन्होंने सातवें विकेट के लिये अब तक 198 रन जोड़े हैं। भारत ने दूसरे दिन का खेल समाप्त होने तक छह विकेट पर 354 रन बनाये हैं और इस तरह से उसने पहली पारी में 234 रन बनाने वाले वेस्टइंडीज पर 120 रन की बढ़त बना ली है।
रोहित की इस पराक्रमी पारी से कैरेबियाई आफ स्पिनर शेन शिलिंगफोर्ड (130 रन देकर चार विकेट) का सुबह के सत्र का करिश्माई प्रदर्शन भी फीका पड़ गया। शिलिंगफोर्ड ने सुबह चार विकेट लिये जिससे भारत का स्कोर पांच विकेट पर 83 रन हो गया।
इसके बाद हाल में आस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे में दोहरा शतक जड़ने वाले रोहित ने अपने कौशल और क्रिकेट कला का बेजोड़ नमूना पेश किया। उन्होंने अब तक 228 गेंद का सामना करके 16 चौके और एक छक्का लगाया है। रोहित ने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (42) के साथ छठे विकेट के लिये 73 रन जोड़कर टीम को शुरुआती झटकों से उबारा।
अश्विन ने अपने बल्लेबाजी कौशल से कैरेबियाई गेंदबाजों को हतप्रभ किया। उन्होंने अपनी पारी में अब तक 148 गेंदों का सामना करके दस चौके लगाये हैं। रोहित ने हालांकि साबित किया कि वह इस बल्लेबाज का स्थान लेने के सच्चे दावेदार हैं।
उन्होंने बेहद अनुशासित बल्लेबाजी की और ढीली गेंदों पर करारा शाट जमाये। रिकार्ड 108 वनडे खेलने के बाद टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले मुंबई के इस 26 वर्षीय बल्लेबाज ने शिलिंगफोर्ड पर भारतीय पारी का एकमात्र छक्का भी लगाया। उन्होंने शेल्डन कोटरेल पर लगातार दूसरा चौका जड़कर अपना शतक पूरा करने के बाद खुशी में मुट्ठी हवा में भींची।
इसके लिये उन्होंने 194 गेंद खेली तथा 12 चौके लगाये। रोहित भारत की तरफ से पदार्पण मैच में शतक जड़ने वाले 14वें भारतीय और ईडन गार्डन्स पर यह कारनामा करने वाले दुनिया के पांचवें बल्लेबाज हैं। इससे पहले सुबह शिलिंगफोर्ड ने भारत की मशहूर बल्लेबाजी लाइनअप को झकझोरने में कोई कसर नहीं छोड़ी।
उन्होंने तेंदुलकर का कीमती विकेट भी लिया। इसमें कोई संदेह नहीं कि शिलिंगफोर्ड ने संन्यास की घोषणा कर चुके तेंदुलकर को अपने दूसरा से चकमा दिया लेकिन गेंद उनकी जांघ के उपरी हिस्से में लगी थी। टीवी रीप्ले से लग रहा था कि गेंद उनके स्टंप के उपर से निकल सकती थी।
भारत ने सुबह बिना किसी नुकसान के 37 रन से आगे खेलना शुरू किया और दिन के तीसरे ओवर में ही शिखर धवन के रूप में अपना पहला विकेट गंवा दिया। उन्होंने बाहर जाती गेंद अपने स्टंप पर खेली। ऐसे समय में धर्य बनाये रखने की जरूरत थी लेकिन शिलिंगफोर्ड की गेंद खेलने के लिये विजय आगे निकल गये और बाकी काम रामदीन ने कर दिया।
तेंदुलकर जब क्रीज पर आये तो 30 हजार दर्शकों ने सचिन सचिन की गूंज के साथ उनका स्वागत किया। टिनो बेस्ट ने उनके स्टंप को निशाने पर रखा लेकिन तेंदुलकर पर इसका असर नहीं पड़ा और उन्होंने प्वाइंट पर एक रन लेकर अपना खाता खोला। उन्होंने शिलिंगफोर्ड की गेंद चार रन के लिये भेजी और फिर इसी गेंदबाज पर लेग ग्लांस से एक और खूबसूरत चौका लगाया। दर्शक जब तेंदुलकर के हर शाट का जश्न मना रहे थे तभी अंपायर की उंगली उठ गयी। इस बीच अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे शेल्टन कोटरेल ने भी खाता खोला।
चेतेश्वर पुजारा (17) ने उनकी उठती गेंद विकेटकीपर के सिर के उपर से खेलनी चाही लेकिन वह बल्ले का किनारा लेकर रामदीन के पास चली गयी। विराट कोहली (3) भी तेंदुलकर के पीछे पवेलियन लौट गये। शिलिंगफोर्ड की गेंद अच्छी फार्म में चल रहे इस बल्लेबाज के बल्ले और पैड से लगकर कीरेन पावेल के पास पहुंची। लंच के बाद टिनो बेस्ट ने धोनी को आउट करके वेस्टइंडीज को छठी सफलता दिलायी। धोनी ने गलत शाट खेलकर विकेट के पीछे कैच दिया। (एजेंसी)



First Published: Thursday, November 7, 2013 - 18:25


comments powered by Disqus