छत्तीसगढ़ चुनाव : नक्सलियों का बहिष्कार बेअसर, पहले चरण में 67% मतदान

छत्तीसगढ़ में हो रहे विधानसभा चुनाव में पहले चरण के मतदान के लिए राज्य के नक्सल प्रभावित बस्तर और राजनांदगांव क्षेत्र के 13 सीटों पर आज तीन बजे मतदान खत्म हो गया। वहीं पांच सीटों पर मतदान जारी है। दोपहर बाद तीन बजे तक लगभग 70 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया है।

Updated: Nov 12, 2013, 12:19 AM IST

नई दिल्ली : चुनाव आयोग के मुताबिक छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में राज्य के नक्सल प्रभावित बस्तर और राजनांदगांव क्षेत्र के आठ जिलों की कुल 18 सीटों के लिए सोमवार को हुए मतदान में तकरीबन 67 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया ।
उप चुनाव आयुक्त आर बालाकृष्णन ने मतदान की समाप्ति के बाद यहां संवादददाताओं को बताया कि बस्तर क्षेत्र की 12 तथा राजनांदगांव की एक विधानसभा सीट पर सुबह सात बजे से मतदान प्रारंभ हुआ जो दोपहर बाद तीन बजे तक चला। वहीं, पांच अन्य सीटों पर सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक मतदान हुआ।
उन्होंने कहा कि अभी तक उपलब्ध जानकारी के मुताबिक 67 प्रतिशत मतदान होने की सूचना है। उन्होंने कहा कि यह आंकड़ा अंतिम नहीं है और मतदान के प्रतिशत के बारे में सही आंकड़ा पोलिंग पार्टी के वापस लौटने के बाद ही मिल सकेगा।
उन्होंने कहा कि नक्सलियों के बहिष्कार और धमकियों के बावजूद लोगों में मतदान के प्रति काफी उत्साह देखा गया। उन्होंने बताया कि राज्य में शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गये थे और बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया था। आज के मतदान के साथ कुल 143 उम्मीदवारों का राजनीतिक भविष्य इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों में बंद हो गया।
उपचुनाव आयुक्त ने बताया कि पहले चरण के चुनाव में 29 लाख 33 हजार दो सौ मतदाता थे जिनके लिए कुल 4142 मतदान केंद्र स्थापित किये गये थे। इनमें से 1517 मतदान केंद्रों को संवेदनशील तथा 1311 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया था। किसी प्रकार की आपात स्थिति से निपटने के लिए राजधानी रायपुर में एक एयर एंबुलेंस की भी व्यवस्था की गई थी।
उन्होंने बताया कि राज्य के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों के हमले में सीआरपीएफ के एक जवान की मौत हो गई है। उन्होंने बताया कि राज्य के कांकेर जिले में नक्सली हमले के कारण पोलिंग पार्टी के नहीं पहुंचने की वजह से मतदान केंद्र क्रमांक 115 छोटे पखांजूर और मतदान केंद्र क्रमांक 118 सीतारमैया में मतदान प्रारंभ नहीं हो सका। यहां मतदान की तिथि बाद में घोषित की जायेगी।
उन्होंने बताया कि कोंडागांव जिले के बलिंगा मतदान केंद्र के पीठासीन अधिकारी राजेंद्र महापात्र का आज सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। आयोग ने यहां अन्य अधिकारी को तैनात कर दिया।
उन्होंने बताया कि नक्सलियों ने बीजापुर के मनकेली मतदान केंद्र में गोलीबारी की थी लेकिन सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई के बाद वे वहां से फरार हो गए। वहीं बस्तर क्षेत्र के अन्य जिलों से भी नक्सलियों द्वारा गोलीबारी की सूचना मिली है।
छत्तीसगढ विधानसभा चुनाव के अगले चरण में 72 सीटों के लिए 19 नवम्बर को मतदान होगा। मतगणना आठ दिसम्बर को होगी। (एजेंसी)