डॉ. हर्षवर्धन

Last Updated: Monday, November 11, 2013 - 14:10

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2013 के लिए प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने नाक, कान और गले के रोगों के विशेषज्ञ डॉ. हर्षवर्धन को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया है। वे कृष्णानगर विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं।
पेशे से डॉक्टर हर्षवर्धन को दिल्ली में 1993-98 में भाजपा की सरकार में स्वास्थ्य मंत्री बनाया था। इसके अलावे उन्हें कानून मंत्री और शिक्षा मंत्री भी बनाया गया था। हर्षवर्धन दिल्ली विधानसभा चुनाव के इतिहास में कभी नहीं हारे हैं। वे भाजपा के टिकट पर 1993 में कृष्णा नगर विधानसभा क्षेत्र से दिल्ली की पहली विधानसभा के सदस्य बने। 1996 में ये शिक्षा मन्त्री बने। राज्य के स्वास्थ्य मंत्रालय में अपने समय के दौरान इन्होंने अक्टूबर 1994 में पोलियो उन्मूलन योजना का शुभारम्भ किया था। कार्यक्रम सफल रहा और फिर इसे केंद्र सरकार ने पूरे देश भर में लागू किया। वे 1998 और 2003 में फिर से कृष्णा नगर से विधानसभा के लिए चुने गए। 2008 विधानसभा चुनाव में अपनी मुख्य प्रतिद्वन्द्वी कांग्रेस की पार्षद दीपिका खुल्लर को 3,204 मतों से हराने के बाद चौथी बार विधायक बने।

बचपन से ही हिन्दू राष्ट्रवादी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) सदस्य रहे हर्षवर्धन का जन्म का जन्म 13 दिसम्बर 1954 को दिल्ली में ओम प्रकाश गोयल और स्नेहलता देवी के घर हुआ। वे वैश्य समुदाय से सम्बन्ध रखते हैं। इनकी शिक्षा दीक्षा एंग्लो संस्कृत विक्टोरिया जुबली सीनियर सेकेण्डरी स्कूल, दरियागंज से हुई है और गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज, कानपुर से इन्होंने आयुर्विज्ञान और सर्जरी में स्नातक की डिग्री प्राप्त की, साथ ही इसी कॉलेज से ओटोलर्यनोलोजी में मास्टर ऑफ सर्जरी अर्जित की।
डॉ. हर्षवर्धन ने अपनी पार्टी भाजपा में सभी चुनौतियों से पार पाते हुए मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवारी तो हासिल कर ली है। लेकिन असली चुनौती तो उन्हें कांग्रेस के अलावा पहली बार चुनावी मैदान में उतरी नई पार्टी आम आदमी पार्टी से है। सर्वे का अनुसार इस नई पार्टी का जनाधार दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।



First Published: Monday, November 11, 2013 - 13:24


comments powered by Disqus
Live Streaming of Lalbaugcha Raja