अगले 24 घंटे में काफी तीव्र होगा चक्रवाती तूफान ‘फैलिन’

Last Updated: Thursday, October 10, 2013 - 18:22

भुवनेश्वर : चक्रवात ‘फैलिन’ पश्चिमोत्तर की ओर बढ़ते हुए गंभीर तूफान में बदल गया और यह ओडिशा के पारादीप क्षेत्र से 800 किलोमीटर दूर केंद्रित है । इस तूफान के दो दिन बाद संभवत: ओडिशा के गोपालपुर और आंध्रप्रदेश के उत्तर से प्रवेश करने की बात कही जा रही थी।
मौसम विभाग के ताजा बुलिटेन के अनुसार, चक्रवात अभी कलिंगपट्टनम से 870 किलोमीटर और विशाखापट्टनम से 900 किलोमीटर दूर केंद्रित है और अगले 24 घंटे में यह काफी तीव्र चक्रवात में बदल जायेगा।’’ आईएमडी भुवनेश्वर के निदेशक सरत साहु ने कहा कि यह 12 अक्तूबर की शाम को कलिंगपट्टनम और पारादीप के बीच ओडिशा तट के गोपालपुर के करीब और उत्तरी आंध्रप्रदेश को 175-185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की हवाओं के साथ पार करेगा।’’ उन्होंने कहा कि कल सुबह में ओडिशा और आंध्रप्रदेश के उत्तर में तेज हवाएं 44 से 55 से लेकर 65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से प्रवेश करेगी।
साहु ने कहा कि दक्षिणी ओडिशा और उत्तरी आंध्रप्रदेश के तटीय जिलों में प्रवेश करने के बाद इसकी रफ्तार बढ़ेगी और यह 175 से 185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक हो सकती है। उन्होंने कहा कि ओडिशा और उत्तरी आंध्रप्रदेश के तटीय क्षेत्र में स्थिति काफी खराब हो सकती है और 12 अक्तूबर को यह प्रचंड रूख अख्तियार कर सकती है।
साहु ने कहा, ‘चक्रवाती तूफान के कारण ओडिशा के गंजम, खुर्दा, पुरी और जगतसिंहपुर जिले और आंध्रप्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में 1.5 से 2 मीटर उंचा खगोलीय ज्वार उत्पन्न हो सकता है।’ यह पूछे जाने पर कि क्या चक्रवात के सुपर चक्रवात में तब्दील होने की आशंका है, साहु ने कहा, ‘ अभी उपग्रह से जो आंकड़े प्राप्त हुए है, उसके अनुसार गंभीर चक्रवातीय तूफान उत्पन्न हो सकता है और यह जमीन पर 12 अक्तूबर को प्रभावी होगा।’
ओडिशा और आंधप्रदेश को चेतावनी जारी करते हुए मौसम विभाग ने कहा कि इसके कारण तटीय ओडिशा और उत्तर तटीय आंध्रप्रदेश में 12 अक्तूबर से भारी बारिश होगी। यह 13 अक्तूबर की सुबह से आंतरिक ओडिशा और पश्चिम बंगाल के गंगेय क्षेत्र के तटीय इलाकों में जारी रहेगी।
मौसम विभाग ने कहा कि 13 अक्तूबर से पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्र में रूक रूक कर भारी से काफी भारी बारिश होगी। साहु ने कहा कि इस अवधि में पश्चिम बंगाल के तट के इर्द गिर्द समुद्र में स्थिति काफी खराब होगी। गहरे समुद्र में गए मछुआरों को तत्काल तट पर लौटने को कहा गया है। समुद्र में 12 घंटों के बाद कठिन से बेहद कठिन परिस्थितियां रहेंगी।
चक्रवात के ओडिशा के तट की ओर बढने के मद्देनज़र राज्य सरकार ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है और 14 जिले में कर्मचारियों की दशहरे की छुट्टियां रद्द कर दी हैं। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कलेक्टरों से लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है। बालेश्वर, भद्रक, मयूरभंज, क्योंझर, ढेंकनाल, जाजपुर, कटक, केन्द्रपाड़ा, जगतसिंहपुर, पुरी, खुरदा, नयागढ़, गंजम और गजपति जिलों में अलर्ट जारी किया गया है। (एजेंसी)



First Published: Thursday, October 10, 2013 - 18:22


comments powered by Disqus