तूफान `फैलिन` का असर: ओडिशा में बाढ़ में फंसे 2.5 लाख लोग, बिहार में भारी बारिश

Last Updated: Tuesday, October 15, 2013 - 12:59

ज़ी मीडिया ब्यूरो
भुवनेश्वर/पटना : चक्रवात फैलिन का कहर अभी खत्म नहीं हुआ है। ओडिशा, आंध्रप्रदेश में तबाही मचाने के बाद यह तूफान झारखंड और बिहार में अपना रौद्र रुप दिखा रहा है। ओडिशा में अभी भी तेज बारिश हो रही है, इस प्रदेश के पांच जिले भद्रक, क्योंझर, बालासोर जाजपुर और मयूरभंज बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। इन प्राकृतिक आपदाओं से सबसे ज्यादा बालेश्वर जिले के 930 गांवों में ढाई लाख लोग प्रभावित हुए हैं। लेकिन भद्रक, क्योंझर, बालासोर जाजपुर और मयूरभंज स्थिति खतरनाक स्तर तक पहुंच गई है। राज्य में अभी तक इन दोनों आपदाओं से 1.2 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं जबकि मरने वालों की संख्या 25 पहुंच गई है।
ओडिशा राजस्व और आपदा प्रबंधन मंत्री एसएन पात्र ने कहा कि मयूरभंज और भद्रक जिलों में और चार लोगों के मरने के साथ ही घटनाओं में मरने वालों की संख्या 25 पहुंच गई है। 21 लोगों की जान लेने वाला चक्रवात भले ही चला गया हो लेकिन यहां लगातार भारी वष्रा हो रही है। पात्र ने बताया कि सुबर्णरेखा, बुढ़ाबलांग, बैतरणी और जलाका नदियों में जलस्तर बढ़ने के कारण बालेश्वर के अलावा चार जिले मयूरभंज, भद्रक, जाजपुर और क्योंझार भी प्रभावित हुए हैं। विशेष राहत आयुक्त पीके महापात्र ने कहा कि चक्रवात और उसके कारण आयी बाढ़ के दोहरे प्राकृतिक आपदा से 1.2 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं और राज्य में 10.13 लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है।
बिहार में बाढ़ की स्थिति
वहीं चक्रवात फैलिन अब नेपाल से सटे भारतीय राज्यों में अपना असर दिखा रहा है। खासकर बिहार में भारी बारिश हो रही है। जिससे प्रदेश बाढ़ जैसे हालात हो गए है। भारी बारिश के कारण कई नदियों का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर पहुंच गया है। कोशी और गंडक नदी उफान पर है।
मौसम विभाग ने बताया कि बिहार में भारी बारिश होगी। राज्य सरकार ने भारी बारिश की संभावना को देखते हुए प्रदेश भर में हाई अलर्ट जारी किया। एनडीआरएफ की टीम पूरी तरह से मुस्तैद है।
बेगुसराय, पुर्णिया, खगड़िया, मुजफ्फरपुर, कटिहार और वैशाली में पिछले 24 घंटे से भारी बारिश जारी है। पटना में भारी बारिश से कई इलाकों में जलजमाव हो गया है।



First Published: Tuesday, October 15, 2013 - 11:09


comments powered by Disqus