आंध्र और बिजली कर्मचारियों की वार्ता विफल, हड़ताल जारी

आंध्र प्रदेश में विद्युत कर्मचारियों की संयुक्त कार्य समिति (जेएसी) और राज्य सरकार के बीच बातचीत विफल रहने के कारण कर्मचारियों की हड़ताल जारी रहेगी।

Updated: Oct 9, 2013, 12:40 AM IST

हैदराबाद : आंध्र प्रदेश में विद्युत कर्मचारियों की संयुक्त कार्य समिति (जेएसी) और राज्य सरकार के बीच बातचीत विफल रहने के कारण कर्मचारियों की हड़ताल जारी रहेगी।
जेएसी ने मुख्यमंत्री एन किरण कुमार रेड्डी के साथ आज देर शाम दूसरे दौर की बातचीत की। यह बैठक दो घंटे से अधिक समय तक चली, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला। कर्मचारियों ने हड़ताल जारी रखने का फैसला किया। राज्य बिजली विभाग के विश्वस्त सूत्रों ने बताया कि वे उपलब्ध बिजली में चीजों को व्यवस्थित कर रहे हैं और यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि हड़ताल से दक्षिणी ग्रिड प्रभावित नहीं हो।
आंध्र प्रदेश विद्युत उत्पादन निगम, आंध्र प्रदेश विद्युत पारेषण निगम, आंध्र प्रदेश दक्षिण विद्युत वितरण कंपनी और आंध्र प्रदेश पूर्वी विद्युत वितरण कंपनी के 30,000 से अधिक कर्मचारियों ने कल बेमियादी हड़ताल शुरू की और अलग तेलंगाना राज्य बनाने के लिए आंध्र प्रदेश को बांटने के केंद्र के कदम को तत्काल वापस लेने की मांग की।
हड़ताल के चलते तटीय आंध्र और रायलसीमा के जिलों में बिजली का संकट गहरा गया है। हैदराबाद शहर में बिजली आपूर्ति बाधित हो रही है। बिजली की कटौती के कारण सबसे ज्यादा असर ट्रेन सेवाओं पर पड़ा है और पूर्वी सीमांत रेलवे को ट्रेनों को या तो निरस्त करना पड़ा है या उनका समय बदलना पड़ा है। जेएसी ने सरकार से स्पष्ट आश्वासन देने की मांग की है कि आंध्र प्रदेश को अविभाजित रखा जाएगा। (एजेंसी)