अदालत के आदेश के बावजूद शरीफ के खिलाफ मामला दर्ज नहीं हुआ

पाकिस्तानी पुलिस ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनके भाई और कुछ शीर्ष कैबिनेट मंत्रियों के खिलाफ हत्या मामला दर्ज करने से इनकार कर दिया है जबकि धर्मगुरू तहिरूल कादरी के 14 समर्थकों की जान लेने वाली हिंसा में कथित भूमिका निभाने को लेकर एक अदालत उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था।

भाषा | अंतिम अपडेट: Aug 18, 2014, 11:23 PM IST
अदालत के आदेश के बावजूद शरीफ के खिलाफ मामला दर्ज नहीं हुआ

लाहौर : पाकिस्तानी पुलिस ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनके भाई और कुछ शीर्ष कैबिनेट मंत्रियों के खिलाफ हत्या मामला दर्ज करने से इनकार कर दिया है जबकि धर्मगुरू तहिरूल कादरी के 14 समर्थकों की जान लेने वाली हिंसा में कथित भूमिका निभाने को लेकर एक अदालत उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था।

17 जून के मॉडल टाउन झड़पों से जुड़े मामले की सुनवाई लाहौर सत्र अदालत कर रही है जिसने शनिवार को पुलिस को उन 21 लोगों के खिलाफ हत्या का एक मामला दर्ज करने को कहा था कि जिन्हें कादरी नीत पाकिस्तान अवामी तहरीक:पीएटी: ने अपनी शिकायत में नाजजद कराया था।

कादरी के मुख्यालय के पास अधिकारियों ने बैरीकेड हटाने की कोशिश की थी जिसके बाद पुलिस के साथ हिंसक झड़प में पीएटी के 14 कार्यकर्ता मारे गए थे और 100 से अधिक घायल हो गए थे। पीएटी के वकीलों का एक दल अधिवक्ता मंसूर रहमान अफरीदी के साथ आज फैसल शहर पुलिस के पास गई और पुलिसकर्मियों को अदालत का आदेश सौंप कर अपनी अर्जी में नामजद लोगों के खिलाफ फौरन मामला दर्ज करने की मांग की।

अफरीदी ने बताया कि अदालती आदेश दिखाने के बावजूद वहां मौजूद अधिकारी ने प्राथमिकी दर्ज करने से इनकार कर दिया और कहा कि थानी प्रभारी की मंजूरी के बगैर वह प्राथमिकी दर्ज नहीं करेंगे। उन्होंने बताया, ‘हमनें थाना प्रभारी का दो घंटे से अधिक समय तक इंतजार किया लेकिन वह नहीं आए।’ अफरीदी ने बताया कि पीएटी पुलिस और पीएमएल एन पंजाब सरकार के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई के लिए अदालत का रूख करेगी।