अमेरिकी ड्रोन हमले में मारा गया तालिबान सरगना और खूंखार आतंकी हकीमुल्ला महसूद

Last Updated: Saturday, November 2, 2013 - 10:28

पेशावर/इस्लामाबाद : पाकिस्तान में शुक्रवार को हुए अमेरिकी ड्रोन हमले में पाकिस्तानी तालिबान सरगना हकीमुल्ला महसूद सहित छह आतंकवादी मारे गए। मारे गए लोगों में महसूद, उसका रिश्तेदार तारिक महसूद और चालक अब्दुल्ला महसूद शामिल हैं। सीआईए द्वारा परिचालित खुफिया विमान के जरिए उत्तरी वजीरिस्तान एजेंसी दांडी दारपाखेल इलाके में हमला किया गया।
तालिबान सूत्रों ने महसूद के मारे जाने की पुष्टि की है और कहा कि आज दिन में तीन बजे मीरानशाह में उसे दफन किया जाएगा। इससे पहले ‘डॉन’ ने खुफिया सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के ड्रोन विमानों ने उत्तरी वजीरिस्तान एजेंसी के दांडी दारपाखेल में एक परिसर को निशाना बनाया जिसमें महसूद सहित छह लोग मारे गए। जियो न्यूज ने भी महसूद के मारे जाने की खबर दी है।
सूत्रों का कहना है कि परिसर ‘पूरी तरह नष्ट’ हो गया है। उस पर दो मिसाइलें दागी गई थीं। हमले के वक्त पाकिस्तानी तालिबान की महत्वपूर्ण बैठक चल रही थी। सूत्रों ने बताया कि हमले में तालिबान के अन्य प्रमुख कमांडर अब्दुल्ला और महसूद का अंगरक्षक तारिक महसूद भी मारे गए हैं। महसूद के मारे जाने के संबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। यदि इसकी पुष्टि होती है तो यह तालिबान के लिए बड़ा झटका होगा।
पाकिस्तानी और अंतरराष्ट्रीय मीडिया में महसूद के मारे जाने से जुड़ी खबरें कई बार आ चुकी हैं, लेकिन कुछ समय बाद वह फिर से सक्रिय नजर आने लगा। गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तथा कुछ दूसरे नेताओं से आज के हमले को लेकर चर्चा करने के लिए बात की।
खान ने दावा किया कि इस हमले का मकसद देश में शांति स्थापित करने के प्रयासों को नुकसान पहुंचाना है। इस ड्रोन हमले से कुछ दिन पहले अमेरिका के विशेष सुरक्षा बलों ने टीटीपी के उप सरगना लतीफ महसूद को अफगानिस्तान से पकड़ा। बीते दो दिनों में यह दूसरा ड्रोन हमला था। पिछले गुरूवार को हुए ड्रोन हमले में तीन संदिग्ध आतंकवादी मारे गए। हकीमुल्ला महसूद ने अगस्त, 2009 में बैतुल्ला महसूद के मारे जाने के बाद टीटीपी की कमान संभाली थी। बैतुल्ला महसूद भी ड्रोन हमले में मारा गया था। (एजेंसी)



First Published: Saturday, November 2, 2013 - 09:16


comments powered by Disqus