दक्षिणी हिंद महासागर में मिलीं संदिग्ध वस्तुएं, लापता विमान की तलाश में नया मोड़

Last Updated: Friday, March 21, 2014 - 10:34

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो
बीजिंग/सिडनी/कुआलालंपुर : चीनी नौसेना के पोत ने दक्षिणी हिंद महासागर में आस्ट्रेलिया के तट का रुख किया। आस्ट्रेलिया के अधिकारियों ने इलाके में संदिग्ध वस्तुओं के तैरने की सूचना दी जिसके बाद पोत उस तरफ रवाना हो गया। इस खुलासे से लापता विमान के मामले में नया मोड़ आ गया है।
चीनी नौसेना के प्रवक्ता लिआंग यांग ने बताया कि लापता विमान की तलाश में अभी चीनी नौसेना के दो बेड़े जुटे हुए हैं। जिस जगह पर मलेशियाई विमान के टुकड़े तैरते होने का संदेह जताया गया है वहां से दोनों बेड़े क्रमश: 2300 और 3100 नौटिकल मील दूर हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, चीनी नौसेना ने आस्ट्रेलिया से सूचना मिलने के बाद तलाशी अभियान को तुरंत ही समायोजित कर लिया।
बुधवार की योजना के मुताबिक, मलक्का की खाड़री से अंडमान द्वीप समूह के पास से जहाजी बेड़े को गुजारना था। और दूसरे बेड़े को सुंदा की खाड़ी से सुमात्रा के दक्षिण पश्चिम की तरफ जाना था। मलेशिया एअरलाइन्स का विमान एमएच 370 कुआलालंपुर से 8 मार्च को बीजिंग के लिए उड़ान भरा था और उसके करीब एक घंटे बार रहस्यमय ढंग से लापता हो गया। बोइंग 777-200ईआर के बारे में शुरू में माना जा रहा था कि वियतनाम तट के पास दक्षिण चीन सागर में गिर गया होगा।
विमान को सुबह 6:30 बजे बीजिंग में उतरना था। विमान में सवार 227 यात्रियों में पांच भारतीय, 154 चीनी और 38 मलेशियाई थे। विमान का संपर्क रडार से आधरी रात बाद 1:40 बजे भंग हो गया। उस समय वह वियतनाम के हो ची मिन्ह शहर के वायु यातायात नियंत्रण की सीमा से गुजर रहा था। इससे पहले गुरुवार को अस्ट्रेलिया के समुद्री सुरक्षा प्राधिकरण (एएमएसए) ने कहा कि उपग्रह से करीब 24 मीटर लंबी विशाल वस्तु दक्षिणी हिंद महासागर में तैरती देखी गई है और यह शायद लापता मलेशियाई विमान का टुकड़ा हो सकता है। जिस जगह संदिग्ध वस्तु देखा गया है वह जगह पर्थ से दक्षिणी पश्चिम में करीब 250 किलोमीटर दूर होगा।
कैनबेरा में एएमएसए के अधिकारी जान युंग ने कहा कि यह वस्तु सापेक्षिक रूप से अस्पष्ट है। जो संकेत मुझे मिले हैं वह उसका बड़ा आकार है और संभवत: पानी में बह कर आया है और सतह पर डूब उतरा रहा है। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा 24 मीटर का है और दूसरा उससे छोटा है। आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने टोनी एब्बोट्ट ने भी गुरुवार को संसद को बताया कि नई और विश्वसनीय सूचना ने तलाशी पर नई रोशनी डाली है। प्रधानमंत्री ने कहा कि उपग्रह चित्रों के विशेषा विश्लेषण के बाद तलाशी से संबंधित दो संभावित वस्तुओं की पहचान की गई है। एएमएसए ने कहा कि तैरती वस्तुओं की रिपोर्ट मिलने के बाद चार विमान को इलाके में भेज दिया गया है। रॉयल अस्ट्रेलियन एअर फोर्स के ओरियन लड़ाकू इलाके में करीब 1:50 बजे पहुंच गए थे। आरसीसी आस्ट्रेलिया के तीन और विमान को इलाके में जाने के लिए कहा गया। इसमें रॉयल न्यूजीलैंड एअर फोर्स का ओरियन और अमेरिकी नौसेना का पी8 पोसेइडन विमान शामिल है।
उधर, व्हाइट हाउस ने कहा है कि उसे लापता विमान की तलाश में मलेशिया से पूर्ण सहयोग मिल रहा है और अमेरिका विमान की तलाश एवं जांच में मलेशियाई अधिकारियों की मदद कर रहा है। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जे कार्नी ने संवाददाताओं से कहा कि हम कई तरीकों से मदद कर रहे हैं। हम एफएए, एनटीएसबी और एफबीआई के जरिए मदद मुहैया करा रहे हैं। हमें मलेशियाई सरकार से पूरा सहयोग मिल रहा है। मलेशियाई सरकार ने तलाश और जांच दोनों अभियानों का नेतृत्व किया है। उन्होंने कहा कि विमान में क्या हुआ, इस बारे में अमेरिका के पास मुहैया कराने के लिए कोई नई जानकारी या निष्कर्ष नहीं है। कार्नी ने कहा कि हम स्पष्टत: हिंद महासागर में तलाश करने में मदद कर रहे हैं और यदि आप मुझसे मलबा संबंधी रिपोर्ट के बारे में पूछने जा रहे हैं तो मेरे पास इस बारे में कोई नई जानकारी नहीं है।
पेंटागन के प्रेस सचिव रियर एडमिरल जॉन कार्बी ने कहा कि हमने मलेशियाई सरकार की मदद करने की कोशिश को प्राथमिकता बनाया है। हमें पता है कि 200 से अधिक परिवार दुख में हैं और जवाब चाहते हैं। हम समझते हैं कि हम हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। (एजेंसी इनपुट के साथ)



First Published: Friday, March 21, 2014 - 10:34


comments powered by Disqus