अभिनेत्री दिया मिर्जा का खुलासा - इस वजह से पीरियड के दौरान नहीं करती सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल

Dec 07, 2017, 23:28 PM IST
1/5

doesn't use sanitary napkins during periods: Dia Mirza

doesn't use sanitary napkins during periods: Dia Mirza

बॉलीवुड एक्ट्रेस दिया मिर्जा को भारत की ओर से सयुंक्त राष्ट्र पर्यावरण सद्भावना दूत नियुक्त किया गया है. हाल ही उन्होंने एक सनसनीखेज खुलासा किया. अभिनेत्री का कहना है कि उन्होंने उन सभी चीजों का इस्तेमाल बंद कर दिया है जो पर्यावरण को क्षति पहुंचाती है. उन्होंने कहा कि वह पीरियड के दौरान सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल नहीं करती. अभिनेत्री ने इसके पीछे एक खास वजह का भी जिक्र किया.

2/5

Dia Mirza says, she doesn't use sanitary napkins during periods

Dia Mirza says, she doesn't use sanitary napkins during periods

दिया ने एक अखबार को दिए साक्षात्कार में कहा कि सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करना एक जरूरत है लेकिन यह जानने के बाद कि इनसे पर्यावरण को नुकसान होता है, उन्होंने इनका इस्तेमाल करना बंद कर दिया है.

3/5

doesn't use sanitary napkins during periods

doesn't use sanitary napkins during periods

उन्होंने कहा कि हमारे देश में स्त्रियों की स्वास्थ सुरक्षा के लिए उपलब्ध सैनिटरी नैपकीन और डाइपर बहुत बड़े पैमाने पर पर्यावरण और वातावरण को प्रदूषित कर रहे हैं इसलिए मैं अपने मासिक धर्म के दिनों में सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करना बंद कर चुकी हूं.

 

4/5

Dia Mirza reveals about sanitary napkins during periods

Dia Mirza reveals about sanitary napkins during periods

अभिनेत्री ने कहा, "एक ऐक्टर होने के नाते मेरा यह कहना बहुत बड़ी बात है क्योंकि हम सैनिटरी नैपकिन का प्रचार भी करते हैं. मुझे जब भी कभी सैनिटरी नैपकिन के प्रचार के लिए कोई ऑफर आता भी है तो मैं साफ तौर पर इनकार कर देती हूं.'  

5/5

Dia Mirza talks about sanitary napkins during periods

Dia Mirza talks about sanitary napkins during periods

दिया ने आगे कहा कि 'अब मैंने सैनिटरी नैपकिन की जगह बॉयोडीग्रेडेबल नैपकिन का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है जो कि 100 प्रतिशत प्राकृतिक रूप से नष्ट होने वाला उत्पाद है. हमारे देश में सदियों से महिलाएं मासिक धर्म के दिनों में कॉटन का उपयोग करती थीं, लेकिन अब नई तकनीक की वजह से ऐसी चीजें आ गई हैं जो पर्यावरण को किसी भी तरह का कोई नुकसान न पहुंचाए.'

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close