PHOTOS: पुल निर्माण का काम पड़ा है अधूरा, इसलिए जान जोखिम में डालकर स्कूल जाते हैं बच्चे

खास बात तो यह है कि नदी पर पुल निर्माण का काम लंबे समय से बंद पड़ा हुआ है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Sep 11, 2018, 13:54 PM IST

मध्य प्रदेश के दमोह के मदियादो गांव में बच्चों को स्कूल जाने के लिए अपनी जान खतरे में डालना पड़ रहा है. क्योंकि गांव से स्कूल जाने वाले के लिए कोई सड़क नहीं है. ऐसे में बच्चों को नदी पार कर स्कूल जाना पड़ता है. वैसे तो नदी पर पुल निर्माण का काम चल रहा है, लेकिन खास बात तो यह है कि नदी पर पुल निर्माण का काम लंबे समय से बंद पड़ा हुआ है. जिसके चलते कई बार नदी में उफान होने पर बच्चों को अपनी जान पर खेलकर इस अर्धनिर्मित पुल को पार करना पड़ता है. प्रदेश में जहां सरकार एक ओर विकास के नए-नए आयामों की बात कर रही है तो वहीं इस तरह की तस्वीरें कहीं न कहीं मन को विचलित करती हैं. (फोटो साभारः ANI)

1/7

स्कूल जाना मुश्किल

going to school is a difficult thing

मादियोदो गांव से हटा पढ़ने जाने वाले बच्चों का कहना है कि 'तेज बारिश के दौरान स्कूल जाना मुश्किल हो जाता है. कई बार नदी में पानी का बहाव तेज होने के चलते हमें इसी पुल को पार कर स्कूल जाना पड़ता है. (फोटो साभारः ANI)

2/7

एक-दूसरे का हाथ पकड़कर पार करते हैं नदी

Student risking their lives

तेज बारिश के बाद हम एक-दूसरे का हांथ पकड़कर नदी पार करते हैं, लेकिन वह भी खतरे से खाली नहीं होता. छोटे बच्चे तो इस दौरान स्कूल जाने का सोच ही नहीं सकते. (फोटो साभारः ANI)

3/7

पुल का निर्माण

Bridge construction work

नदी पर पुल नहीं होने से हम कभी-कभी स्कूल भी नहीं जा पाते. इसलिए हम चाहते हैं कि जल्द से जल्द पुल का निर्माण पूरा हो. जिससे कि हम बिना किसी डर के स्कूल जा सकें और अपनी पढ़ाई कर सकें.' (फोटो साभारः ANI)

4/7

ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर

Block Education Officer

वहीं पुल निर्माण को लेकर ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर का कहना है कि 'कॉन्ट्रेक्टर की लापरवाही की वजह से पुल का निर्माण अटका पड़ा है. (फोटो साभारः ANI)

5/7

जिला पंचायत सीईओ को लिखा पत्र

letter to Zila Panchayat CEO

पुल का निर्माण अधूरा होने की वजह से ग्रामीणों को काफी समस्याएं हो रही हैं. इसलिए स्कूल के प्रिंसिपल ने जिला पंचायत सीईओ को इस संबंध में पत्र भी लिखा है.' (फोटो साभारः ANI)

6/7

दुर्घटना की आशंका

Accident

बता दें नदी पर प्रवाह तेज होने पर बच्चों को एक-दूसरे का हांथ पकड़कर यह पुल पार करना पड़ता है. ऐसे में हमेशा ही यह खतरा बना रहता है कि अगर किसी एक का भी हांथ या पैर फिसला तो कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती है. (फोटो साभारः ANI)

7/7

पुल न होने से पढ़ाई का नुकसान

Loss of Education

स्कूली बच्चों के मुताबिक स्कूल जाने के लिए उन्हें रोज खतरों से जूझना पड़ता है. अगर किसी दिन तेज बारिश हो गई तो फिर तो स्कूल जाने का सवाल ही नहीं उठता. ऐसे में हमारी पढ़ाई का भी काफी नुकसान होता है. (फोटो साभारः ANI)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close