गणेश चतुर्थी 2018: इस मुहूर्त में होगी बप्पा की स्थापना, जानें चतुर्थी की महिमा

भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश चतुर्थी के नाम से मनाया जाता है. चतुर्थी पर क्यों होता है गणेश पूजन और इस त्योहार की क्या है महिमा जानें यहां. 

वंदना यादव | Sep 12, 2018, 17:08 PM IST

देश भर में गणेश चतुर्थी का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है. भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश चतुर्थी के नाम से मनाया जाता है. इस साल चतुर्थी का त्योहार 13 सितंबर 2018 को पड़ रहा है. अगर इस दिन की पूजा सही समय और मुहूर्त पर की जाए तो हर मनोकामना की पूर्ति होता है. चतुर्थी पर क्यों होता है गणेश पूजन और इस त्योहार की क्या है महिमा जानें यहां. 

1/7

भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश चतुर्थी होती है

Ganesha Chaturthi also known as Vinayaka Chaturthi

भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश चतुर्थी के नाम से मनाया जाता है. इस साल चतुर्थी का त्योहार 13 सितंबर 2018 को पड़ रहा है. ऐसा माना जाता है कि गणपति जी का जन्म मध्यकाल में हुआ था इसलिए उनकी स्थापना इसी काल में होनी चाहिए.

2/7

मध्याह्न पूजा का समय गणेश-चतुर्थी पूजा मुहूर्त के नाम से ही जाना जाता है

Ganesha Chaturthi 2018

भगवान गणेश का जन्म दोपहर में हुआ था, इसलिए इनकी पूजा दोपहर में होती है. वैसे गणेश जी का पूजन प्रातःकाल, दोपहर और शाम में से किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन चतुर्थी के दिन मध्याह्न 12 बजे का समय गणेश-पूजा के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया है. 

3/7

चतुर्थी तिथि गुरुवार 13 सितंबर

Vinayaka Chaturthi 2018

मध्याह्न पूजा का समय गणेश-चतुर्थी पूजा मुहूर्त के नाम से ही जाना जाता है, इसीलिए पूजा का शुभ मुहूर्त दोपहर 12 बजे से रात 12 बजे तक होता है. चतुर्थी तिथि गुरुवार 13 सितंबर को पूरे दिन रहेगी इसलिए गणेश जन्मोत्सव की पूजा और स्थापना इस दिन कभी भी कर सकते हैं. 

4/7

गणपति को लड्डुओं का भोग लगाएं

Shubh muhurat of Ganesh Chaturthi

चतुर्थी के दिन प्रातः काल उठकर सोने, चांदी, तांबे और मिट्टी के गणेश जी की प्रतिमा स्थापित कर षोडशोपचार विधि से उनका पूजन करते हैं. पूजन के बाद चंद्रमा को अर्घ्य देकर ब्राह्मणों को दक्षिणा देते हैं. मान्यता के अनुसार इन दिन चंद्रमा की तरफ नहीं देखना चाहिए. इस पूजा में गणपति को 21 लड्डुओं का भोग लगाने का विधान है.

5/7

पूजन के बाद चंद्रमा को अर्घ्य देकर ब्राह्मणों को दक्षिणा दें

Ganesh Sthapana Puja on Chaturthi 2018

गणेश चतुर्थी पर जीवन के सारे विघ्न बाधाएं दूर करने के लिए संध्याकाल में गणेश जी की पूजा जरूर करें. घी का दीपक जलाकर दूर्वा और लडडू का प्रसाद चढ़ाएं. इसके बाद गणेश जी की आरती करके प्रसाद सभी में बांट दें. गणेश चतुर्थी पर यथाशक्ति बप्पा की सेवा करने से जीवन से कष्टों का निवारण होता है.

6/7

गणेश जी की आरती करके प्रसाद बांटेंं

Ganesh Chaturthi Puja 2018

भगवान गणेश भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी करते हैं. गणेश चतुर्थी 10 दिनों तक चलने वाला त्योहार है. इसे गणेश महोत्सव भी कहा जाता है. इस साल यह त्योहार 13 सितबंर से शुरू हो रहा है और 23 सितम्बर तक चलेगा. 

7/7

13 सितबंर से शुरू होकर 23 सितम्बर तक चलेगा

Ganesh Chaturthi 2018 Chauth Chandra

पुराणों के अनुसार गणेश चतुर्थी के दिन ही गणपति का जन्म हुआ था. कई प्रमुख जगहों पर भगवान गणेश की बड़ी प्रतिमा स्थापित की जाती है.महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close