MP: आश्रम पहुंचा भय्यूजी महाराज का पार्थिव शरीर, अंतिम दर्शन के लिए उमड़ा जन सैलाब

ताजा खबर के मुताबिक भय्यूजी महाराज का आज (बुधवार) दोपहर 3 बजे उन्‍‍‍‍‍हीं के आश्रम सूर्योदय में अंतिम संस्कार किया जाएगा.  

Jun 13, 2018, 12:07 PM IST

ताजा खबर के मुताबिक भय्यूजी महाराज का आज (बुधवार) दोपहर 3 बजे उन्‍‍‍‍‍हीं के आश्रम सूर्योदय में अंतिम संस्कार किया जाएगा.  

1/5

funeral of bhayyuji maharaj

funeral of bhayyuji maharaj

आध्‍यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज का आज (बुधवार) दोपहर 1 बजे विजय नगर स्थित सयाजी मुक्ति धाम में अंतिम संस्कार होगा. अंतिम संस्‍कार से पहले भय्यूजी महाराज का पार्थिव शरीर उनके इंदौर स्थित आश्रम में रखा गया है. उनके अतिम संस्कार में सीएम शिवराज समेत कई वीआईपी शामिल होंगे. 

2/5

mortal remains of spiritual leader Bhaiyyuji Maharaj

mortal remains of spiritual leader Bhaiyyuji Maharaj

न्‍यूज एजेंसी ANI में आई खबर के मुताबिक भय्यूजी महाराज के पार्थिव शरीर को उनके इंदौर निवास में लाया गया है. लोगों में भय्यूजी महाराज के इस तरह हमेशा के लिए चले जाने का गम तस्‍वीरों में साफ नजर आ रहा है. 

3/5

dead body of Bhaiyyuji Maharaj taken to native village Indore

dead body of Bhaiyyuji Maharaj taken to native village Indore

आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज का पार्थिव शरीर इंदौर में उनके आश्रम पर दोपहर 12.30 बजे तक उनका अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा. ताजा खबर के मुताबिक भय्यूजी महाराज का दोपहर 3 बजे उन्‍‍‍‍‍हीं के आश्रम सूर्योदय में अंतिम संस्कार किया जाएगा.  भय्यूजी महाराज के अंतिम दर्शन के लिए प्रदेश सहित पूरे देश से VVIP और नेताओं के पहुंचने की उम्मीद है. इसे देखते हुए इंदौर पुलिस ने भय्यूजी महाराज के आश्रम के आसपास की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है. 

 

4/5

before funeral of bhayyuji maharaj the body kept for last visit by followers

before funeral of bhayyuji maharaj the body kept for last visit by followers

भय्यू महाराज का असली नाम उदय सिंह देशमुख था. भय्यू महाराज का सदगुरु दत्त धार्मिक ट्रस्ट नाम का ट्रस्ट भी चलता है. उनका ट्रस्ट स्कॉलरशिप बांटता है, कैदियों के बच्चों पढ़ाता है. किसानों को खाद-बीज मुफ्त बांटता है. भय्यूजी महाराज ग्लोबल वॉर्मिंग से भी चिंतित थे. इसीलिए गुरु दक्षिणा के नाम पर एक पेड़ लगवाते थे. अब तक 18 लाख पेड़ उन्होंने लगवाए थे. लोग उन्‍हें उनके किए सामाजिक कार्यों की वजह से काफी मान-सम्‍मान देते थे और दूसरों गुरुओं से अलग भय्यू महाराज की छवि आम लोगों के बीच खासी प्रसिद्ध है.

5/5

funeral of bhayyuji maharaj in Indore Madhya Pradesh

funeral of bhayyuji maharaj in Indore Madhya Pradesh

बता दें कि मंगलवार को भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी. बॉम्बे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. उनकी मौत के बाद से उनके अनुयायी और पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई है. भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था. भय्यूजी महाराज ने एक पन्‍ने के सुसाइड नोट में लिखा कि वो जिंदगी के तनाव से परेशान हो चुके हैं. मेरी मौत के लिए कोई जिम्‍मेदार नहीं है.  (फोटो साभार: ANI)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close