जापान में इस नाम से मशहूर हैं बप्पा, विदेशों में भी पूजे जाते हैं गणपति

भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश चतुर्थी के नाम से मनाया जाता है. देश भर में गणेश चतुर्थी का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है. 

वंदना यादव | Sep 12, 2018, 12:28 PM IST

भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश चतुर्थी के नाम से मनाया जाता है. देश भर में गणेश चतुर्थी का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है. गणपति के भक्त सिर्फ देश में ही नहीं विदेशों में भी हैं. जापानी उन्हें कांगितेन के नाम से जानते हैं और इसके अलावा थाईलैंड, कंबोडिया, इंडोनेशिया, अफगानिस्तान, नेपाल और चीन में भी इन्हें अलग-अलग रूपों में पूजा जाता है.

 

1/7

गणेश चतुर्थी 2018

the festive spirit of Ganesh Chaturthi

देश भर में गणेश चतुर्थी का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है. भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश चतुर्थी के नाम से मनाया जाता है. इस साल चतुर्थी का त्योहार 13 सितंबर 2018 को पड़ रहा है. अगर इस दिन की पूजा सही समय और मुहूर्त पर की जाए तो हर मनोकामना की पूर्ति होता है. 

2/7

इस साल चतुर्थी का त्योहार 13 सितंबर 2018

Ganesh Chaturthi 2018

दस दिन तक चलने वाले गणेश चतुर्थी त्योहार को पूरे देश में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. मूसक पर सवार बुद्ध‍ि और समृद्ध‍ि के देव को लड्डू का भोग बहुत पसंद है. शिव शंभू और मां पार्वती के पुत्र गणेश प्रथम निवेदन में ही भक्त की मनोकामनाओं को पू्र्ण करते हैं. भगवान गणेश के जीवन की ये बातें सभी को आमतौर पर पता ही हैं लेकिन प्रभु से जुड़ी भी कई बातें हैं जिन्हें शायद ही आप जानते हों. 

 

3/7

गणेश चतुर्थी त्योहार को पूरे देश में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है

these things you do not know about lord ganesh

गणेश चतुर्थी महाराष्ट्र में काफी धूमधाम से मनाई जाती है. 1893 में लोकमान्य तिलक ने इस समारोह को निजी से सामूहिक आयोजन में तब्दील कर दिया. उनका उद्देश्य जात-पात के फासलों को मिटाने का था और यह बात अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन को बढ़ावा देने के भी बहुत काम आई.

4/7

गणेश जी का वाहन चूहा है

Japanees Named ganesh as Kangiten

मान्यता है कि गणेश जी का वाहन चूहा है लेकिन अगर मुद्गल पुराण की मानें तो शेर, मोर, सांप के अलावा जैन पुस्तकों में गणेश जी के वाहन हाथी, भेंडा और कछुआ भी माना गया है.

5/7

जापानी बप्पा को कांगितेन के नाम से जाना जाता है

Ganesh is the remover of obstacles

पुराने लोगों की मानें तो पुराने जमाने में भारतीय कारोबारी सफर के दौरान अपने साथ भगवान गणेश की मूर्ति साथ ले जाया करते थे और इस तरह दूसरे देशों में भी बप्पा का आगमन हुआ. जापानी उन्हें कांगितेन के नाम से जानते हैं और इसके अलावा थाईलैंड, कंबोडिया, इंडोनेशिया, अफगानिस्तान, नेपाल और चीन में भी इन्हें अलग-अलग रूपों में पूजा जाता है.

 

6/7

गणेश जन्मोत्सव की पूजा और स्थापना

Most Interesting Facts About Lord Ganesha

उत्तर भारत में कहा जाता है कि म‍हाभारत वेद व्यास ने प्रभु को सुनाई थी और भगवान गणेश ने पन्नों पर उसे लिखा था. भारत में लिखित विधा की तुलना में किस्सागोई तभी से चली आ रही है. 

 

7/7

चतुर्थी तिथि 13 सितंबर को पूरे दिन

unknown facts about Lord Ganesha

इस साल चतुर्थी तिथि गुरुवार 13 सितंबर को पूरे दिन रहेगी इसलिए गणेश जन्मोत्सव की पूजा और स्थापना इस दिन कभी भी कर सकते हैं. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close