MP: चंदेरी में सलामत है विरासत, वरुण-अनुष्‍का की 'सुई-धागा' में दिखेगा साड़ियों का शहर

पिछले कुछ दिनों से फिल्‍म 'सुई-धागा' की शूटिंग की वजह से मध्‍य प्रदेश का चंदेरी शहर चर्चा में है. 

Jul 12, 2018, 15:44 PM IST

पिछले कुछ दिनों से फिल्‍म 'सुई-धागा' की शूटिंग की वजह से मध्‍य प्रदेश का चंदेरी शहर चर्चा में है. 

 

1/7

unknown facts about chanderi city

unknown facts about chanderi city

मध्‍य प्रदेश का चंदेरी मालवा और बुंदेलखंड की सीमा पर बसा है. 11वीं सदी में ये शहर मध्य भारत का प्रमुख व्यापार केंद्र था. पिछले कुछ दिनों से फिल्‍म 'सुई-धागा' की शूटिंग की वजह से प्रदेश का चंदेरी शहर चर्चा में है. फिल्‍म की शूटिंग के बाद से लोग कायस लाग रहे हैं कि फिल्‍म की कहानी यहां की मशहूर चंदेरी सिल्‍क के काम पर आधारित हो सकती है. चंदेरी मध्य प्रदेश के अशोक नगर जिले में स्थित एक ऐतिहासिक नगर है. चंदेरी बुन्देलखंडी शैली की साड़ियों के लिए काफी प्रसिद्ध है. पारंपरिक हस्तनिर्मित साड़ियों का यह एक प्रसिद्ध केंद्र है.

2/7

facts about chanderi city

facts about chanderi city

बॉलीवुड एक्‍टर वरुण धवन और अनुष्का शर्मा की आने वाली फिल्म सुई धागा की शूटिंग इसी शहर में हुई है. बता दें कि इसी साल अनुष्का ने जनवरी में अपनी एक तस्वीर शेयर की थी, जिसमें वो कढ़ाई करते नजर आ रही थीं. वरुण ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर सिलाई करते हुए तस्वीर पोस्ट की थी. फिल्म को शरत कटारिया डायरेक्ट कर रहे हैं. फिल्‍म की कहानी यहां की मशहूर चंदेरी सिल्‍क के काम पर आधारित हो सकती है. 

3/7

chanderi city Madhya Pradesh

chanderi city Madhya Pradesh

चंदेरी पर गुप्त, प्रतिहार, गुलाम, तुगलक, खिलजी, अफगान, गौरी, राजपूत और सिंधिया वंश ने शासन किया है. राणा सांगा ने चंदेरी को महमूद खिलजी से जीता था. जब सभी प्रदेशों पर मुगल शासक बाबर का आधिपत्य था तो 1527 में एक राजपूत सरदार ने चंदेरी पर अपनी पताका लहराई. इसके बाद इसके शासन की बागडोर जाट पूरनमल के हाथों में गई. अंत में शेरशाह ने छल से पूरनमनल को हराकर इस किले पर कब्जा किया. यहां पर 9वीं और 10वीं सदी के कई जैन मंदिर स्थित हैं. इसकी वजह से यहां जैन तीर्थयात्री बड़ी संख्या में पहुंचते हैं.

4/7

chanderi city Varun dhawan Anuskha Sharma

chanderi city Varun dhawan Anuskha Sharma

मध्य प्रदेश पूरे विश्व में अपने चंदेरी की साड़ियों के लिए मशहूर है. चंदेरी में साड़ी बनाने के कारोबार की शुरुआत लगभग सात सौ वर्ष पहले हुई थी. कहा जाता है कि, दूसरी शताब्दी से ही यह बुनकरों का केंद्र रहा है. विंध्यांचल का यह इलाका बुनकरी के लिए तब से ही जाना जाता रहा है. चंदेरी साड़ियां, तीन तरह के मशहूर एवं शुद्ध फैब्रिक प्योर सिल्क, चंदेरी कॉटन और सिल्क कॉटन से निर्मित की जाती हैं.

5/7

Varun dhawan Anuskha Sharma Starer Sui Dhaga

Varun dhawan Anuskha Sharma Starer Sui Dhaga

सन 1890 में, जब बुनकरों के हाथों से निर्मित यॉर्न के स्थान पर मिल द्वारा निर्मित यॉर्न से कपड़ा बुना जाने लगा. इस प्रकार चंदेरी के विकास की सर्वप्रथम शुरुआत हुई. चंदेरी फैब्रिक के निर्माण के लिए मिलमेड यॉर्न के उपयोग के बाद अंग्रेज, मैनचेस्टर से कोलकाता होते हुए सूती धागा चंदेरी लेकर आए. यह चंदेरी फैब्रिक के इतिहास में एक बड़ा बदलाव लेकर आया.

6/7

facts about chanderi city Madhya Pradesh

facts about chanderi city Madhya Pradesh

चन्देरी काम के लिए मशहूर इस शहर में पर्यटन के लिहाज से बुंदेला राजपूतों द्वारा बनावाया गया यह चंदेरी किला प्रमुख आकर्षण है. किले के मुख्य द्वार को खूनी दरवाजे के नाम से जाना जाता है. इसके अलावा कोशक महल जिसे महमूद खिलजी ने बनवाया था घूमने की अच्‍छी जगह है. परमेश्वर ताल को बुंदेला राजपूत राजाओं ने बनवाया था इस ताल के समीप एक मंदिर है. ईसागढ़ चंदेरी से लगभग 45 किलोमीटर दूर है जहां कई खूससूरत मंदिर हैं जो दसवीं शताब्दी की शैली में बनाए गए हैं. यहां एक क्षतिग्रस्त बौद्ध मठ भी देखा जा सकता है. जामा मस्जिद मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी मस्जिदों में शुमार है. देवगढ़ किला चंदेरी से 25 किलोमीटर दूर स्थित है. इस किले में कई जैन मंदिर हैं. जहां कुछ अतिप्राचीम मूर्तियां देखी जा सकती हैं. 

7/7

chanderi Madhya Pradesh

chanderi Madhya Pradesh

ग्वालियर यहां से सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है जो करीब 227 किलोमीटर दूर स्थित है. निकटतम रेलवे स्टेशन अशोक नगर, ललितपुर हैं. यहां से नियमित अंतराल पर चंदेरी के लिए बसें चलती हैं. इसके अलावा झांसी, ग्वालियर, टीकमगढ़ से भी सड़क मार्ग के जरिए यहां पहुंचा जा सकता है. बता दें कि श्रृद्धा कपूर और राजकुमार राव स्‍टारर फिल्‍म 'स्‍त्री' की शूटिंग भी चंदेरी में हुई है.  (फोटो साभार: @pinterest/MPTourism)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close