वैज्ञानिकों ने खोजा राज, आखिर क्यों भड़कती है धार्मिक हिंसा

वैज्ञानिकों ने एक आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस या कृत्रिम बुद्धिमता प्रणाली विकसित की है जो यह बेहतर तरीके से समझा सकती है कि धार्मिक हिंसा किस वजह से भड़कती है.

वैज्ञानिकों ने खोजा राज, आखिर क्यों भड़कती है धार्मिक हिंसा

लंदन: वैज्ञानिकों ने एक आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस या कृत्रिम बुद्धिमता प्रणाली विकसित की है जो यह बेहतर तरीके से समझा सकती है कि धार्मिक हिंसा किस वजह से भड़कती है. जर्नल फॉर आर्टीफिशियल सोसाइटीज एंड सोशल स्टिमुलेशन में प्रकाशित यह अध्ययन हिंसा के दो मामलों पर ध्यान केंद्रित करता है, पहले में, संघर्ष को सामान्य रूप से ‘नदर्न आयरलैंड ट्रबल्स’ के तौर पर संदर्भित किया गया जिसे आयरिश इतिहास के सबसे हिंसक दौर के तौर पर देखा जाता है. ब्रिटिश सेना और विभिन्न रिपब्लिकन और लॉयलिस्ट अर्धसैनिक समूहों के बीच करीब तीन दशक तक चले संघर्ष में करीब 3,500 लोगों की जान गई और 47,000 लोग जख्मी हुए थे.

दूसरे मामले में यद्यपि 2002 में गुजरात दंगों के दौरान तनाव की काफी छोटी अवधि भी लगभग उतनी ही खौफनाक थी.  गुजरात दंगों के दौरान 2000 से ज्यादा लोगों की जान गई थी. ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और अमेरिका की बोस्टन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने दिखाया कि लोग प्राकृतिक रूप से शांतिप्रिय प्रकृति के होते हैं.

संकट के समय जैसे प्राकृतिक आपदा के दौर में भी लोग साथ आते हैं. व्यापक संदर्भों में से वे हिंसा को अपनाने के इच्छुक होते हैं- खासतौर पर जब दूसरे लोग उन मूल मान्यताओं के खिलाफ जाते हैं जो उनकी पहचान को परिभाषित करती है. यह शोध स्पष्ट रूप से हिंसा का अनुकरण नहीं करता लेकिन इसके बजाए अज्ञात लोगों से डर की सामाजिक बेचैनी के दो विशिष्ट कालों की परिस्थितियों पर ध्यान केंद्रित करती है, जो बाद में चरम शारीरिक हिंसा में बढ़ जाती है.

इसमें कहा गया कि सिर्फ जब लोगों की मूल मान्यता प्रणाली को चुनौती दी जाती है या जब उन्हें महसूस होता है कि उनकी अपनी मान्यताओं के प्रति प्रतिबद्धता को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं, तब यह बेचैनी या व्याकुलता पैदा होती है. इन परिदृश्यों में बेचैनी सिर्फ 20 प्रतिशत में हिंसा का सबब बनती है- इन परिदृश्यों की शुरुआत या तो समूह के बाहर के लोगों द्वारा होती है या उसके अंदर के लोगों से ही जो समूह की मूल मान्यताओं और पहचान के खिलाफ जाते हैं.

शोधकर्ताओं ने कहा, ‘‘आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस से हमें धार्मिक हिंसा को बेहतर तरीके से समझने और प्रभावी तरीके से उसके नियंत्रण में मदद मिल सकती है. ’’ 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close