Special News

साक्षी, सिंधु 'भारत की बेटी'... और आपकी बेटी ?

साक्षी, सिंधु 'भारत की बेटी'... और आपकी बेटी ?

पिछले हफ्ते का वाक्या है। शाम के वक्त एक व्यक्ति से फ़ोन पर बात हो रही थी। मौका रक्षा बंधन का था और सुबह-सुबह ही ख़बर आ चुकी थी कि हरियाणा की पहलवान साक्षी मलिक ने

पीडीपी-बीजेपी: असमंजस और सियासी खींचतान

पीडीपी-बीजेपी: असमंजस और सियासी खींचतान

मरहूम मुफ्ती साहब कश्मीर की सियासत में एकबार फिर याद किये जाने लगे है। सन 2002 में जब पहली बार पीडीपी की सरकार कश्मीर में बनी तो लोग मेहबूबा की जगह मुफ़्ती साहब को बजीरे आला देखकर हैरान थे क्योंकि क

राजनीतिक जीवन के चौराहे पर मेहबूबा!

राजनीतिक जीवन के चौराहे पर मेहबूबा!

करीब दो दशक पहले अपना राजनीतिक जीवन शुरू करने वाली जम्मू कश्मीर की सबसे ताकतवर महिला नेता मेहबूबा मुफ़्ती को वक्त ने राजनीतिक जीवन के चौराहे पर खड़ा कर दिया है। यह उनके जीवन का अच्छा और बुरा दोनों

सुरक्षा और खुफिया तंत्र इतना लचर क्यों?

सुरक्षा और खुफिया तंत्र इतना लचर क्यों?

पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमला हमारे सुरक्षा और खुफिया तंत्र के वास्तविक हालातों को उजागर करती है। नापाक इरादों वाले पाकिस्तानी आतंकियों का हमला इस बार किसी भीड़ भरे बाजार पर नहीं बल्कि हमारे वजूद और

बिग बॉस का सफर मेरे लिए रोलर कोस्टर राइड की तरह था : दिगंगना सूर्यवंशी

बिग बॉस का सफर मेरे लिए रोलर कोस्टर राइड की तरह था : दिगंगना सूर्यवंशी

वीरा' शो से घर-घर में अपनी पहचान बनाने वाली दिगंगना सूर्यवंशी, बिग बॉस 9 में सबसे कम उम्र की कंटेस्टेंट के रूप में शामिल हुईं। 57 दिनों तक घर में रहने के बाद दिंगगना को एलीमिनेट कर दिया गया। दूसरों के मुकाबले शांत रहने वाली दिगंगना ने आईएमइन (iamin) की संवाददाता ज्योति चाहर के साथ बिग बॉस के अपने सफर के खट्टे मीठे अनुभव साझा किए। पेश हैं दिगंगना के साथ हुई चटपटी बातचीत के प्रमुख अंश:-

वादों और उम्मीदों की कसौटी पर कितने खरे उतरे अखिलेश?

वादों और उम्मीदों की कसौटी पर कितने खरे उतरे अखिलेश?

सत्ता विरासत में मिल तो सकती है पर, बुद्धिजीविता नहीं। सपा प्रमुख मुखिया मुलायम सिंह यादव ने विरासत के तौर पर जब अखिलेश को सत्ता देनी चाही पर, जनता ने नकार दिया था । वहीं दूसरी बार अखिलेश मीडिया और

लालच की लपटों में झुलसती जिंदगी

लालच की लपटों में झुलसती जिंदगी

मैं अपने हाथ की एक सर्जरी के सिलसिले में नोएडा के एक बहुचर्चित अस्पताल में कई बार गया। मेरा जख्म कुछ ऐसा था जो काफी देर से भर रहा था। एक दिन छोड़कर ड्रेसिंग होती थी। स्टिच कटने से एक दिन पहले जब मै

पाकिस्तान से बातचीत क्यों जरूरी है

पाकिस्तान से बातचीत क्यों जरूरी है

भरी दुपहरी में अंधियारा ,सूरज परछाई से हारा अंतरतम का नेह निचोड़े ,बुझी हुई बाती सुलगाएं आओ फिर से दिया जलाएं।

रणबीर की चाहे 50 हज़ार फिल्में क्यों न फ्लॉप हो जाएं, मैं हमेशा ...: इम्तियाज अली

रणबीर की चाहे 50 हज़ार फिल्में क्यों न फ्लॉप हो जाएं, मैं हमेशा ...: इम्तियाज अली

वो अपनी फ़िल्मों में प्यार की नई परतों को कुरेदते हैं, प्यार के लिए खुद के बनाए फ़्रेमवर्क में अलग अलग तरह के किरदारों को रखते हैं, उसके बाद इम्तियाज अली प्यार का अनोखा, अनसुना और अनछुआ सा 'तमाशा'

मातृ-शक्ति पूजन: एक शाश्वत परंपरा

मातृ-शक्ति पूजन: एक शाश्वत परंपरा

बचपन की एक घटना अब भी जेहन में ताजी है। उत्तराखंड के अल्मोड़ा से एक साधु हमारे घर आए थे। पिताजी केएक मित्र के वह दोस्त थे। जब वो घर आए तो उनसे परिवार के सभी लोग बातचीत करने लगे। मैं भी आध्यात्म की

जलालत के तीन साल

जलालत के तीन साल

वो रात इंसानियत के सीने पर एक भारी पत्थर की तरह हमेशा चुभती रहेगी। मानवीयता के दामन पर एक काले धब्बे की तरह हमें मुंह चिढ़ाती रहेगी। वो रात न कभी भुलाई जा सकती है, न कभी उसका कलंक मद्धम पड़ सकता है। उसका बस मातम मनाया जा सकता है। मातम उस व्यवस्था का भी जो उस जुर्म का गवाह बना और जिसके सामने 16 दिसंबर और उसके बाद न जाने कितनी निर्भयाओं के नसीब में ज़लालत का दर्द लिखा गया।

जलवायु परिवर्तन: वैश्विक भागीदारी और जिम्मेदारी

जलवायु परिवर्तन: वैश्विक भागीदारी और जिम्मेदारी

जलवायु परिवर्तन को लेकर वर्तमान समय में चर्चा और तापमान दोनों गर्म है। चर्चा बातों से गर्म हो रही है और तापमान ग्रीन हाउस गैसों से। सभी देशों की जिम्मेदारी बनती है कि दुनिया का अस्तित्व मिटाने वाली

दवा में 'ब्रांड' के नाम पर लूट का काला कारोबार

दवा में 'ब्रांड' के नाम पर लूट का काला कारोबार

दवाएं हमारे अनमोल जीवन को बचाने में अहम भूमिका निभाती हैं। लेकिन, जब इन दवाओं में घालमेल होने लगे, कालाबाजारी का साया मंडराने

मुझे अपनी खुद की आवाज़ सुनना पसंद नहीं: लकी अली

मुझे अपनी खुद की आवाज़ सुनना पसंद नहीं: लकी अली

अपनी सूफियाना आवाज से लाखों दिलों की धड़कन पर राज करने वाले लकी अली आजकल फिर सुर्खियों में हैं। फिल्म डायरेक्टर इम्तियाज अली की फिल्म तमाशा में लकी अली का गाना सफरनामा लोगों की जुब

संसद का शीत सत्रः जाल में मोदी, झमेले में जनता

संसद का शीत सत्रः जाल में मोदी, झमेले में जनता

26 नवंबर से संसद का शीत सत्र शुरू होने जा रहा है। 1949 में इसी दिन संविधान को अपनाया गया था। लोकसभा में शानदार बहुमत के साथ सत्ता संचालन की जिम्मेदारी लिए मोदी सरकार करीब डेढ़ साल बीतने के बावजूद ज

मैं चाहती हूं सलमान अंकल की तरह लोग मेरी गाड़ी के पीछे भी भागें: हर्षाली मल्होत्रा

मैं चाहती हूं सलमान अंकल की तरह लोग मेरी गाड़ी के पीछे भी भागें: हर्षाली मल्होत्रा

सुपरहिट फ़िल्म बजरंगी भाईजान में सलमान खान के बाद अगर किसी के बारे में सबसे ज़्यादा बात हुई है तो वो हैं उनकी मुन्नी यानी हर्षाली मल्होत्रा। फ़िल्म में भले ही हर्षाली ने गूंगी लड

बिहार चुनाव के नतीजों में छिपा है भाजपा के लिए संदेश

बिहार चुनाव के नतीजों में छिपा है भाजपा के लिए संदेश

बिहार चुनाव के नतीजों में बीजेपी का हाल टीम इंडिया जैसा हुआ है। जिस तरह टीम इंडिया क्रिकेट मैच में ज्यादातर समय अपनी पकड़ बनाए रखने के बाद अंतिम समय में ऐसा कुछ कर देती ही, जिससे जीती बाजी उसके हाथ

बिहार चुनाव: 'अहंकार' और बड़बोलेपन ने डुबोई NDA की नैया

बिहार चुनाव: 'अहंकार' और बड़बोलेपन ने डुबोई NDA की नैया

एक विचारक ने कहा है कि विनम्रता का मतलब कायरता हर्गिज नहीं होती। विनम्रता सफलता की बुनियाद रखने में सहायक होती है। जो विनम्रता से जीना सीख लेते हैं, उनकी कई परेशानियां खत्म हो जाती हैं। यह मानवीय ग

गाय माता है या मांस

गाय माता है या मांस

गाय का मतलब माता या गाय का मतलब मांस, पूरे देश में ये सवाल आग की तरह फैल रहा है। वैसे ये सवाल कई साल से चल रहा है लेकिन उत्तर प्रदेश के दादरी में हुई एक घटना ने आग में धी डालने का काम किया। आलम ये

जाति एवं विकास तय करेगा किसका होगा बिहार

जाति एवं विकास तय करेगा किसका होगा बिहार

देश भर में यही चर्चा है कि बिहार में किसकी सरकार बनने जा रही है। राज्य में अगली सरकार राजग बनाएगा या महागठबंधन, इसे लेकर अटकलें जारी हैं। जानकारों ने मुकाबला कांटे का बताया है तो भाजपा के नेतृत्व व



लाइव स्कोर कार्ड