ज़ी स्पेशल

डियर जिंदगी : काश ! हम बच्‍चों की तरह जीना सीख लें…

डियर जिंदगी : काश ! हम बच्‍चों की तरह जीना सीख लें…

बच्‍चे कितनी सरलता से माफ कर देते हैं, एक-दूसरे को. एक-दूसरे के प्रति उनके मन में क्रोध तो हो सकता है, लेकिन वह बैर नहीं करते.

दयाशंकर मिश्र | Nov 21, 2017, 01:39 PM IST
डियर जिंदगी : जिससे हम भागते हैं, वही हमारे पीछे पड़ जाता है…

डियर जिंदगी : जिससे हम भागते हैं, वही हमारे पीछे पड़ जाता है…

फिल्म ‘बाज़़ार’ उनको देखनी चाहिए, जो जिंदगी के हर कदम पर निर्णय लेने से डरते हैं. खतरे उठाने से डरते हैं. उनको देखनी चाहिए जो प्रेम करते हैं, लेकिन अभिव्यक्‍त करने का साहस नहीं जुटा पाते.

दयाशंकर मिश्र | Nov 20, 2017, 11:43 AM IST

अन्य ज़ी स्पेशल

ZEE जानकारी : क्यों करती हैं हमारी सरकारें धर्म का इस्तेमाल समाज को बांटने के लिए

ZEE जानकारी : क्यों करती हैं हमारी सरकारें धर्म का इस्तेमाल समाज को बांटने के लिए

आज से शारदीय नवरात्र शुरू हो गए हैं, आज नवरात्र का पहला दिन था. और आज ही के दिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बहुत बड़ा झटका लगा है. आज कलकत्ता हाईकोर्ट ने ममता बनर्जी के उस फैसले को पलट दिया, जिसमें उन्होंने मुहर्रम की वजह से पश्चिम बंगाल में मूर्ति विसर्जन पर रोक लगा दी थी.

| Sep 22, 2017, 10:49 AM IST
संकीर्तन: गाती-नाचती प्रार्थनाएं

संकीर्तन: गाती-नाचती प्रार्थनाएं

घर्षण, मिश्रण और प्रदूषण के इस दौर में दुर्भाग्य से जीवन को शांति और संबल देने वाली भक्ति की लोकतांत्रिक चेष्टा भी काफी हद तक प्रभावित हुई है.

विनय उपाध्याय | Sep 21, 2017, 06:17 PM IST
डियर जिंदगी : सपनों की रेल और जीवन की सुगंध...

डियर जिंदगी : सपनों की रेल और जीवन की सुगंध...

हम 'ग्‍लोबल वार्मिंग' की तख्तियां लिए घूम रहे हैं, धरती की चिंता में घुले जा रहे हैं, लेकिन अपनी ही जड़ों से दूर होते जा रहे हैं.

दयाशंकर मिश्र | Sep 21, 2017, 05:12 PM IST
दुनिया में ‘राजाराम पु. जोशियों’ की भारी कमी है...

दुनिया में ‘राजाराम पु. जोशियों’ की भारी कमी है...

लगातार वर्चुअल दुनिया में सिमटते जा रहे हम लोग जो प्रतिक्रिया देने की जल्दी में तो हैं, लेकिन हमारा मानवीय पहलू तुलनात्मक होता जा रहा है.

पंकज रामेंदु | Sep 21, 2017, 03:32 PM IST
ZEE जानकारी: बेअसर होती एंटीबायोटिक दवाएं

ZEE जानकारी: बेअसर होती एंटीबायोटिक दवाएं

अगर आप छोटी-मोटी बीमारियां होने पर Antibiotic दवाएं खा लेते हैं तो हमारी अगली ख़बर आपके काम की हो सकती है...WHO ने आज एक रिपोर्ट जारी की है जिसके मुताबिक बाज़ार में मिलने वाली ज़्यादातर Antibiotic दवाएं बेअसर साबित हो रही हैं.

| Sep 20, 2017, 11:51 PM IST
ZEE जानकारी: ट्रंप ने कह दिया, अबकी बार, आर या पार

ZEE जानकारी: ट्रंप ने कह दिया, अबकी बार, आर या पार

आपने हिन्दी फिल्मों में अक्सर Hero को एक Dialogue मारते हुए सुना होगा...कि वो खलनायकों को चुन-चुन कर मारेगा. इन दिनों अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति की दुनिया में भी कुछ ऐसे ही हालात पैदा हो गए हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति Donald Trump आजकल North Korea के तानाशाह. किम जोंग उन... को चुन-चुन कर मारने की धमकियां दे रहे हैं. और इसी के साथ दुनिया में तनाव बढ़ गया है.

| Sep 20, 2017, 11:46 PM IST
ZEE जानकारी: रोहिंग्या मुसलमानों को हर तरह की मदद देने वाले लोगों का पर्दाफाश

ZEE जानकारी: रोहिंग्या मुसलमानों को हर तरह की मदद देने वाले लोगों का पर्दाफाश

रोहिंग्या शरणार्थी म्यांमार से भागकर बांग्लादेश आ रहे हैं. और बांग्लादेश में उनकी अच्छी खासी जनसंख्या है. हालांकि ये अलग बात है कि अब बांग्लादेश भी ये कह रहा है कि रोहिंग्या शरणार्थी उनके लिए खतरा हो सकते हैं. 1978 में म्यांमार की सरकार ने देशभर में Operation Dragon King चलाया तो लाखों की संख्या रोहिंग्या शरणार्थी बांग्लादेश चले गए.

| Sep 20, 2017, 11:38 PM IST
डियर जिंदगी : कितना परिवर्तन आया है, आपके जीवन में!

डियर जिंदगी : कितना परिवर्तन आया है, आपके जीवन में!

हम ज्‍यादातर जिंदगी में खुद ही हारते हैं. अपनी वजहों से. खुद से. बार-बार. हर बार. और तब तक हारते रहते हैं, जब तक यकीन न कर लें कि हम खुद ही हार रहे हैं

दयाशंकर मिश्र | Sep 20, 2017, 03:10 PM IST
ZEE जानकारी: अंडरवर्ल्ड, राजनीति और Real Estate से जुड़े लोगों का Nexus

ZEE जानकारी: अंडरवर्ल्ड, राजनीति और Real Estate से जुड़े लोगों का Nexus

अगर आपको इस बात का पता चले कि भारत में मौजूद कोई व्यक्ति, दाऊद इब्राहिम का बिज़नेस पार्टनर है तो आप उस आदमी को किस नज़रिये से देखेंगे ? ज़ाहिर है ऐसे आदमी पर आपको गुस्सा आएगा.. और आप उसे अंडरवर्ल्ड का हिस्सा ही मानेंगे. हमारे देश में ऐसे कई लोग हैं... जो Business Partnership के लिए दाऊद इब्राहिम से हाथ मिलाना चाहते हैं...ये लोग राजनीति और रियल एस्टेट से जुड़े हुए हैं..

| Sep 19, 2017, 11:38 PM IST
ZEE जानकारीः School Bus और Van एक Reality Check

ZEE जानकारीः School Bus और Van एक Reality Check

आपको बताते हैं कि ख़बरों की दुनिया में डर और जानकारी के बीच क्या फर्क होता है ?पिछले कुछ दिनों से देश के ज़्यादातर माता-पिता डरे हुए हैं. स्कूल में 7 साल के एक बच्चे की हत्या के बाद ये डर... देश के हर परिवार को परेशान कर रहा हैं. लोग जैसे ही इस डर से उबरने की कोशिश करते हैं.... वैसे ही हमारा मीडिया प्रद्युम्न की मौत से जुड़ा नया खुलासा करके.. उन्हें और डरा देता है.

| Sep 19, 2017, 11:23 PM IST
ZEE जानकारी: बुज़ुर्गों को सम्मान देने के लिए असम की विधानसभा में 'PRANAM' बिल पास

ZEE जानकारी: बुज़ुर्गों को सम्मान देने के लिए असम की विधानसभा में 'PRANAM' बिल पास

आप और हम एक परिवार की तरह हैं . इसीलिए DNA में हमारी कोशिश ये रहती है कि हम आपके साथ कुछ विषयों पर खुलकर बात करें. ऐसा ही एक विषय है बुज़ुर्ग माता-पिता का सम्मान न करना. हमने भारत में बुजुर्गों के हालात पर बहुत बार विश्लेषण किया है. और हमें बार बार इस विषय को आपके सामने रखने की ज़रूरत महसूस होती है. क्योंकि सोशल मीडिया के इस युग में Like और Retweet करने वाले लोग तो बहुत हैं..

| Sep 19, 2017, 11:16 PM IST
ZEE जानकारी: E-rickshaw सड़क पर अनुशासनहीनता वाला प्रदूषण फैला रहा है

ZEE जानकारी: E-rickshaw सड़क पर अनुशासनहीनता वाला प्रदूषण फैला रहा है

E-rickshaw....वातावरण के लिए भले ही अच्छा हो...लेकिन सड़क पर चलने वाले आम लोगों की ज़िंदगी के लिए हानिकारक है. सड़क दुर्घटनाओं पर आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2016 में 380 लोगों की मौत, E-rickshaw की वजह से हुई. इस रिपोर्ट के मुताबिक, E-rickshaw की वजह से सबसे ज़्यादा मौतें....तेलंगाना में हुई, जहां 71 लोग मारे गए.

| Sep 19, 2017, 11:07 PM IST
ZEE जानकारी: तो क्या हमें E-Rickshaw फ्री शहर बनाने की जरूरत है?

ZEE जानकारी: तो क्या हमें E-Rickshaw फ्री शहर बनाने की जरूरत है?

India Electronics and Semiconductor Association के मुताबिक, इस वक्त भारत की सड़कों पर क़रीब साढ़े 4 लाख E-Rickshaw चल रहे हैं. जिनकी संख्या आने वाले कुछ वर्षों में 45 फीसदी की रफ़्तार से बढ़ने वाली है. लेकिन, पिछले कुछ वर्षों में E-Rickshaw ने देश के आम नागरिकों की मुसीबत कम करने के बजाए...और ज़्यादा बढ़ा दी है.

| Sep 19, 2017, 11:04 PM IST
डियर जिंदगी : जिंदगी, जोखिम और तीन बहाने…

डियर जिंदगी : जिंदगी, जोखिम और तीन बहाने…

बहाने हमें ‘जस का तस’ बने रहने में बड़ी मदद करते हैं. असल में बहाने हमें एक प्रकार का कवच प्रदान करते हैं. हम खुद को हमेशा इस कवच में रखते हैं, ताकि कहीं से भी हमारी जड़ता पर चेतना का कोई प्रहार न हो जाए.

दयाशंकर मिश्र | Sep 19, 2017, 11:14 AM IST
'अ डायलॉग विद जेसी शो' : मोदी सरकार के 40 महीने और 40 फि‍नोमिना

'अ डायलॉग विद जेसी शो' : मोदी सरकार के 40 महीने और 40 फि‍नोमिना

जगदीश चंद्र के मुताबिक मोदी अब इलेक्शन रिफॉर्म की तरफ बढ़ रहे हैं और जल्द ही ये मुमकिन है कि लोकसभा और राज्यों के चुनाव एक साथ हों.

| Sep 18, 2017, 02:08 PM IST
डियर जिंदगी@100 : मन में मत रखिए, बस कह दीजिए!

डियर जिंदगी@100 : मन में मत रखिए, बस कह दीजिए!

प्रेम और क्षमा हमारी जिंदगी के सबसे अधिक करीब रहने वाली दो भावनाएं हैं. इनमें से प्रेम तो अक्‍सर सतह पर तैरता रहता है, लेकिन क्षमा अक्‍सर चेतन से अवचेतन मन की ओर चली जाती है.

दयाशंकर मिश्र | Sep 18, 2017, 12:57 PM IST
डियर जिंदगी : ‘याद’नगर का सफर; क्‍या भूलें, क्‍या याद रखें…

डियर जिंदगी : ‘याद’नगर का सफर; क्‍या भूलें, क्‍या याद रखें…

कुछ लोग हमेशा अतीत की ओर देखते हुए मिल जाएंगे, शायद इसलिए कि उनके पास वर्तमान की कहानियां नहीं हैं. जाहिर है, जिसके पास वर्तमान की कहानी नहीं है, यकीनन उसका आज वैसा तो नहीं है, जैसा उसने सोचा होगा.

दयाशंकर मिश्र | Sep 15, 2017, 05:40 PM IST
ब्‍लू व्‍हेल : इस खूनी खेल से फिलहाल जागरुकता ही बचाव है

ब्‍लू व्‍हेल : इस खूनी खेल से फिलहाल जागरुकता ही बचाव है

गूगल ट्रेंड की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, ये गेम अभी दुनिया में सबसे ज्यादा भारत में सर्च हो रहा है. नॉर्थ राज्य मणिपुर, नगालैंड, मेघालय, केरल और झारखंड में इसे सबसे ज्यादा सर्च और डाउनलोड किया गया.

निदा रहमान | Sep 15, 2017, 04:24 PM IST
आज 15 सितंबर है, हिन्दी दिवस नहीं है!

आज 15 सितंबर है, हिन्दी दिवस नहीं है!

यह स्पष्ट करते हुए कि मैं न तो हिंदी का बहुत बड़ा पैरोकार हूं, न ही अंग्रेजी और दूसरी भाषाओं की खिलाफत करता हूं. भाषाएं मुझे भाती हैं, क्योंकि भाषाओं के जरिए ही दूसरे समाज और संस्कृति को समझ पाते हैं.

ज्ञानयज्ञ की आहुति है भेंट में पुस्तकें देना

ज्ञानयज्ञ की आहुति है भेंट में पुस्तकें देना

क्या सरकार को गीता प्रेस, गोरखपुर की तरह लोगों को सस्ते में किताबें उपलब्ध कराने की कोशिश नहीं करनी चाहिए? इस बारे में मैं यहां गुजरात के भुज में स्थिति “रूरल डवलपमेंट ट्रस्ट” का विशेष रूप से उल्लेख करना चाहूंगा. यह ट्रस्ट गुजराती भाषा की पुस्तकें पाठकों को आधी कीमत पर देता है.

डॉ. विजय अग्रवाल | Sep 14, 2017, 04:51 PM IST