ज़ी स्पेशल

डियर जिंदगी : चलो कुछ 'धीमा' हो जाए...

डियर जिंदगी : चलो कुछ 'धीमा' हो जाए...

पहले पड़ोसी का सुख देखकर मन में अपने प्रति आशा और उसके प्रति स्‍नेह का भाव आता था. चलो अच्‍छा हुआ, उसके दिन फि‍रे. लेकिन अब सबसे पहला तनाव उसके घर में सुख के स्‍वर मिलते ही आ जाता है.

दयाशंकर मिश्र | Apr 24, 2018, 07:29 AM IST
Opinion: क्या रेप पर मौत की सजा देने से अपराध कम होंगे?

Opinion: क्या रेप पर मौत की सजा देने से अपराध कम होंगे?

आज भी देश में टीएफटी यानी टू फिंगर टेस्ट जैसी यातना भरी प्रक्रिया बलात्कार पीड़ित के साथ कई जगह दोहराई जा रही है. जबकि 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि टू फिंगर टेस्ट पीड़ित को उतनी ही पीड़ा पहुंचाता है जितनी बलात्कार के दौरान होती है.

पंकज रामेंदु | Apr 23, 2018, 11:05 PM IST

अन्य ज़ी स्पेशल

बच्चे चंदा मांगने आए, पर ‘होली’ का नहीं!

बच्चे चंदा मांगने आए, पर ‘होली’ का नहीं!

नन्हें बच्चों ने ऐसे सारे लोगों की मदद के लिए अपने समूह को खोल दिया है जिन्हें वास्तव में कठिन वक्त में जरूरत होती है. बुजुर्ग, विधवा महिलाएं, विधवा महिलाओं के बच्चे, दिव्यांग बच्चे.

डियर जिंदगी: मौन के मायने

डियर जिंदगी: मौन के मायने

मौन का अर्थ, चुप्‍पी नहीं है. चुप रह जाना नहीं है. क्रोध और गुस्‍से को भीतर दबाए रहना नहीं है. मौन का अर्थ है, अपने भीतर शांति रखना. अशांति का प्रवेश वर्जित कर देना.

दयाशंकर मिश्र | Mar 5, 2018, 07:14 PM IST
Opinion: ‘सोवियत संघ के विघटन’ जैसा त्रिपुरा चुनाव परिणाम

Opinion: ‘सोवियत संघ के विघटन’ जैसा त्रिपुरा चुनाव परिणाम

त्रिपुरा में भाजपा की ऐतिहासिक जीत इस मायने में बेहद खास है कि जहां पिछले विधानसभा चुनावों में पार्टी अपना खाता तक नहीं खोल पाई थी. वहीं अब पार्टी के ‘कांग्रेस-मुक्त भारत’ के सपने को भी एक नयी उड़ान मिली है क्योंकि रुझानों के अनुसार कांग्रेस का त्रिपुरा में खाता भी नहीं खुल पाया है.

पवन चौरसिया | Mar 3, 2018, 03:30 PM IST
जनाधार के बिना BJP को पूर्वात्तर में आखिर कैसे मिली कामयाबी

जनाधार के बिना BJP को पूर्वात्तर में आखिर कैसे मिली कामयाबी

त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय के चुनाव नतीजों के बाद एक बड़ा सवाल उठता है – आखिर भारतीय जनता पार्टी ऐसा क्या कर रही है कि उसे ऐसे राज्यों में भी सफलता मिल रही है जहां उसका कोई जनाधार कुछ साल पहले तक नहीं था? 

रतनमणि लाल | Mar 3, 2018, 03:22 PM IST
Opinion: आदिवासियों के साथ और विकास की बात से बीजेपी को सफलता

Opinion: आदिवासियों के साथ और विकास की बात से बीजेपी को सफलता

उत्तर-पूर्व के राज्यों में पिछले कई सालों से सत्ता पर काबिज सरकारों ने आदिवासियों के लिए बातें तो बहुत कीं, लेकिन उनके लिए कुछ ठोस निकलकर नहीं आ पाया है.

पंकज रामेंदु | Mar 3, 2018, 03:06 PM IST
माता-पिता के कांपते हाथों को ठुकराएं नहीं, उन्हें थामें

माता-पिता के कांपते हाथों को ठुकराएं नहीं, उन्हें थामें

थाम लें उन कोमल, निरीह, कांपते हाथों को जिन्होंने तुम्हारे हौसलों को उड़ानें दी हैं, जिन्होंने तुम्हारी जिंदगी को दिशा दी है. अपने समय को भरपूर जी लेने वाले उन दीन-हीन माता-पिता की संतान कहलाने वाले, वक्त के हाथों मजबूर होते उन कमजोर माता-पिता के भाग्य की लकीरें बन जाओ.

रेखा गर्ग | Mar 3, 2018, 02:25 PM IST
Opinion : नई सरकार के बीच नागालैंड के जरूरी सवाल

Opinion : नई सरकार के बीच नागालैंड के जरूरी सवाल

जब एनएनसी नेताओं ने दिल्ली में नेहरू जी से मुलाकात की तो उस दौरान नेहरू जी ने उनकी स्वायत्ता देने की बात पर तो सहमति दर्ज की लेकिन उनकी आज़ादी की मांग को नकार दिया था.

पंकज रामेंदु | Mar 3, 2018, 12:54 PM IST
बुरा क्यों न मानें ऐसी होली का

बुरा क्यों न मानें ऐसी होली का

दिल्ली के पॉश इलाकों मे जिस तरह से सीमन से भरे गुब्बारे छात्राओं को मारे गए वो हुड़दंगियों का घिनौना चेहरा सामने लाता है. होली के दिन लड़कियों का ज़रूरी काम से निकलना भी दूभर होता है.

निदा रहमान | Mar 2, 2018, 01:13 PM IST
मन की सफाई का त्योहार है होली

मन की सफाई का त्योहार है होली

इस त्योहार को यदि साहित्यिक शब्दावली में आप अप-संस्कृति का त्योहार कहें, तो शायद बहुत गलत नहीं होगा.

डॉ. विजय अग्रवाल | Mar 2, 2018, 10:47 AM IST
जब जेलों में लिखी गई देश की तकदीर

जब जेलों में लिखी गई देश की तकदीर

जेल में भगत सिंह करीब 2 साल रहे. इस दौरान वे लेख लिखकर अपने क्रान्तिकारी विचार व्यक्त करते रहे.

वर्तिका नंदा | Mar 2, 2018, 10:25 AM IST
जब युद्धों की कीमत 949000 अरब रुपए हो, तो गरीबी कैसे मिटेगी?

जब युद्धों की कीमत 949000 अरब रुपए हो, तो गरीबी कैसे मिटेगी?

वर्ष 2030 तक प्रभावी स्तर तक सभी तरह की हिंसा और गैर-कानूनी हथियारों के व्यापार में कमी लाना. सवाल यह है कि जब हथियारों का 'वैध कारोबार' का आकार ही इतना बड़ा है, तो हम शांतिपूर्ण समाज की स्थापना के लक्ष्य को हासिल कैसे कर पायेंगे?

सचिन कुमार जैन | Mar 1, 2018, 04:38 PM IST
भ्रष्टाचार पर जोरदार प्रहार करने का मोदी सरकार के पास ऐतिहासिक मौका

भ्रष्टाचार पर जोरदार प्रहार करने का मोदी सरकार के पास ऐतिहासिक मौका

लोकतांत्रिक राजनीति में वही कार्रवाई सफल हो सकती है, जिसके पीछे जनता का समर्थन हो. राजनीति विज्ञान में यह माना भी जाता है कि लोकतंत्र की सफलता समाज की राजनीतिक संस्कृति पर निर्भर करती है.

सत्येंद्र सिंह | Mar 1, 2018, 02:58 PM IST
मध्यप्रदेश उपचुनाव के नतीजों से उभरे संकेत

मध्यप्रदेश उपचुनाव के नतीजों से उभरे संकेत

इन उपचुनावों के परिणाम का असर दो हफ्ते के भीतर ही मध्यप्रदेश में दोनों प्रतिद्वंदी दलों के संगठन और उनकी भावी रणनीति में देखने को मिलेगा ही मिलेगा.

जयराम शुक्ल | Feb 28, 2018, 05:17 PM IST
डियर जिंदगी: बच्‍चे हमारे उपदेश से नहीं, हमसे सीखते हैं...

डियर जिंदगी: बच्‍चे हमारे उपदेश से नहीं, हमसे सीखते हैं...

परिवार होता ही इसलिए है कि एक-दूसरे को संभाला जाए. एक-दूसरे का साथ तब भी दिया जाए जब ऐसा करना बेहद मुश्किल हो. परिवार में विशेषकर बच्‍चों के मामले में क्षमा, स्‍नेह और गुस्‍से का खास ख्‍याल रखने की जरूरत है.

दयाशंकर मिश्र | Feb 28, 2018, 05:12 PM IST
नीतीश सरकार के गले की फांस बनती शराबबंदी

नीतीश सरकार के गले की फांस बनती शराबबंदी

मुजफ्फरपुर में एक सड़क दुर्घटना में 9 बच्चों के मारे जाने के बाद यह सवाल एक बार फिर खड़ा हो गया है. कहा जा रहा है कि गाड़ी चलाने वाला शराब के नशे में था.

सत्येंद्र सिंह | Feb 27, 2018, 06:39 PM IST
डियर जिंदगी- परीक्षा पार्ट 4: बच्‍चों से अधिक तनाव अभिभावकों में है!

डियर जिंदगी- परीक्षा पार्ट 4: बच्‍चों से अधिक तनाव अभिभावकों में है!

जिस तनाव की नदी में हम बच्‍चों को जबरन तैरने के लिए फेंक रहे हैं, उससे जो भी वह हासिल करेंगे, उसका सबसे अधिक असर हम पर ही होगा. इसलिए, इस पागलपन को छोड़िए. अपने बच्‍चों और खुद को अपेक्षा के खारे पानी से बाहर निकालिए.

दयाशंकर मिश्र | Feb 27, 2018, 05:29 PM IST
क्या श्रीदेवी ने एक महिला सुपरस्टार होने की कीमत मौत से चुकाई?

क्या श्रीदेवी ने एक महिला सुपरस्टार होने की कीमत मौत से चुकाई?

एक्ट्रेस श्रीदेवी का आकास्मिक निधन साल 2018 की शॉकिंग न्यूज में से एक है, जिसने एक बार फिर हमारा ध्यान खोखले होते समाज और उसके मूल्यों पर केंद्रित कर दिया है.

आकांक्षा स्वरूप | Feb 27, 2018, 04:55 PM IST
स्मृति शेष: पं. ओमप्रकाश चौरसिया; सुरीली ख्वाहिशें और कुछ कतरे रोशनी के

स्मृति शेष: पं. ओमप्रकाश चौरसिया; सुरीली ख्वाहिशें और कुछ कतरे रोशनी के

पंडित ओमप्रकाश चौरसिया की शख्सियत के कई पहलू रहे. सुरीला कंठ उन्हें प्रकृति ने दिया और इसी के चलते बचपन में ही गायन के प्रति रुझान हो गया. सागर में फिल्मी गीत और भजन गाते हुए परिवार के लोगों को उन्होंने इस बात के लिए राज़ी कर लिया था कि उन्हें गायन के विधिवत प्रशिक्षण के लिए रास्ता चुनना चाहिए.

विनय उपाध्याय | Feb 27, 2018, 12:48 PM IST
डियर जिंदगी- परीक्षा पार्ट 3: जीवन नकद है, उधार नहीं!

डियर जिंदगी- परीक्षा पार्ट 3: जीवन नकद है, उधार नहीं!

परीक्षा के दिनों में बच्‍चों पर अत्‍यधिक दबाव डालने, उनकी मदद करने की जगह उन्‍हें नंबरों के चक्रव्‍यूह में उलझाने वाले माता-पिता के लिए असल में वह आशा का चंद्रयान हैं. जिनमें उन्‍हें अपने सुनहरे भविष्‍य का अंतरिक्ष दिखाई देता है.

दयाशंकर मिश्र | Feb 26, 2018, 03:23 PM IST
चुनावी मुद्दों की शर्तें : क्या 2019 का मुख्य मुद्दा किसान होगा?

चुनावी मुद्दों की शर्तें : क्या 2019 का मुख्य मुद्दा किसान होगा?

चुनावी मुद्दे की पहली शर्त है कि वह ऐसा हो जिसका सरोकार अधिकतम मतदाताओं से हो. इसीलिए यह ढूंढा जाता है कि देश में अधिसंख्य लोग कौन हैं.

सुविज्ञा जैन | Feb 26, 2018, 01:07 PM IST