Special News

मातृ-शक्ति पूजन: एक शाश्वत परंपरा

मातृ-शक्ति पूजन: एक शाश्वत परंपरा

बचपन की एक घटना अब भी जेहन में ताजी है। उत्तराखंड के अल्मोड़ा से एक साधु हमारे घर आए थे। पिताजी केएक मित्र के वह दोस्त थे। जब वो घर आए तो उनसे परिवार के सभी लोग बातचीत करने लगे। मैं भी आध्यात्म की

जलालत के तीन साल

जलालत के तीन साल

वो रात इंसानियत के सीने पर एक भारी पत्थर की तरह हमेशा चुभती रहेगी। मानवीयता के दामन पर एक काले धब्बे की तरह हमें मुंह चिढ़ाती रहेगी। वो रात न कभी भुलाई जा सकती है, न कभी उसका कलंक मद्धम पड़ सकता है। उसका बस मातम मनाया जा सकता है। मातम उस व्यवस्था का भी जो उस जुर्म का गवाह बना और जिसके सामने 16 दिसंबर और उसके बाद न जाने कितनी निर्भयाओं के नसीब में ज़लालत का दर्द लिखा गया।

जलवायु परिवर्तन: वैश्विक भागीदारी और जिम्मेदारी

जलवायु परिवर्तन: वैश्विक भागीदारी और जिम्मेदारी

जलवायु परिवर्तन को लेकर वर्तमान समय में चर्चा और तापमान दोनों गर्म है। चर्चा बातों से गर्म हो रही है और तापमान ग्रीन हाउस गैसों से। सभी देशों की जिम्मेदारी बनती है कि दुनिया का अस्तित्व मिटाने वाली

दवा में 'ब्रांड' के नाम पर लूट का काला कारोबार

दवा में 'ब्रांड' के नाम पर लूट का काला कारोबार

दवाएं हमारे अनमोल जीवन को बचाने में अहम भूमिका निभाती हैं। लेकिन, जब इन दवाओं में घालमेल होने लगे, कालाबाजारी का साया मंडराने

मुझे अपनी खुद की आवाज़ सुनना पसंद नहीं: लकी अली

मुझे अपनी खुद की आवाज़ सुनना पसंद नहीं: लकी अली

अपनी सूफियाना आवाज से लाखों दिलों की धड़कन पर राज करने वाले लकी अली आजकल फिर सुर्खियों में हैं। फिल्म डायरेक्टर इम्तियाज अली की फिल्म तमाशा में लकी अली का गाना सफरनामा लोगों की जुब

संसद का शीत सत्रः जाल में मोदी, झमेले में जनता

संसद का शीत सत्रः जाल में मोदी, झमेले में जनता

26 नवंबर से संसद का शीत सत्र शुरू होने जा रहा है। 1949 में इसी दिन संविधान को अपनाया गया था। लोकसभा में शानदार बहुमत के साथ सत्ता संचालन की जिम्मेदारी लिए मोदी सरकार करीब डेढ़ साल बीतने के बावजूद ज

मैं चाहती हूं सलमान अंकल की तरह लोग मेरी गाड़ी के पीछे भी भागें: हर्षाली मल्होत्रा

मैं चाहती हूं सलमान अंकल की तरह लोग मेरी गाड़ी के पीछे भी भागें: हर्षाली मल्होत्रा

सुपरहिट फ़िल्म बजरंगी भाईजान में सलमान खान के बाद अगर किसी के बारे में सबसे ज़्यादा बात हुई है तो वो हैं उनकी मुन्नी यानी हर्षाली मल्होत्रा। फ़िल्म में भले ही हर्षाली ने गूंगी लड

बिहार चुनाव के नतीजों में छिपा है भाजपा के लिए संदेश

बिहार चुनाव के नतीजों में छिपा है भाजपा के लिए संदेश

बिहार चुनाव के नतीजों में बीजेपी का हाल टीम इंडिया जैसा हुआ है। जिस तरह टीम इंडिया क्रिकेट मैच में ज्यादातर समय अपनी पकड़ बनाए रखने के बाद अंतिम समय में ऐसा कुछ कर देती ही, जिससे जीती बाजी उसके हाथ

बिहार चुनाव: 'अहंकार' और बड़बोलेपन ने डुबोई NDA की नैया

बिहार चुनाव: 'अहंकार' और बड़बोलेपन ने डुबोई NDA की नैया

एक विचारक ने कहा है कि विनम्रता का मतलब कायरता हर्गिज नहीं होती। विनम्रता सफलता की बुनियाद रखने में सहायक होती है। जो विनम्रता से जीना सीख लेते हैं, उनकी कई परेशानियां खत्म हो जाती हैं। यह मानवीय ग

गाय माता है या मांस

गाय माता है या मांस

गाय का मतलब माता या गाय का मतलब मांस, पूरे देश में ये सवाल आग की तरह फैल रहा है। वैसे ये सवाल कई साल से चल रहा है लेकिन उत्तर प्रदेश के दादरी में हुई एक घटना ने आग में धी डालने का काम किया। आलम ये

जाति एवं विकास तय करेगा किसका होगा बिहार

जाति एवं विकास तय करेगा किसका होगा बिहार

देश भर में यही चर्चा है कि बिहार में किसकी सरकार बनने जा रही है। राज्य में अगली सरकार राजग बनाएगा या महागठबंधन, इसे लेकर अटकलें जारी हैं। जानकारों ने मुकाबला कांटे का बताया है तो भाजपा के नेतृत्व व

'असहिष्णुता' के खिलाफ बढ़ता विरोध

'असहिष्णुता' के खिलाफ बढ़ता विरोध

'असहिष्णुता' को लेकर बढ़ते विरोध और पुरस्कारों को लौटाए जाने को लेकर इन दिनों पूरे देश में घमासान मचा हुआ है। देश में बढ़ती कथित असहिष्णुता के खिलाफ साहित्यकारों, कलाकारों, फिल्मी हस्तियों और वैज्ञ

दाल की बढ़ती कीमतों का रहस्य

दाल की बढ़ती कीमतों का रहस्य

साल 2016 को संयुक्त राष्ट्र संघ ने इंटरनेशन पल्सेज ईयर घोषित किया है । लेकिन कल तक दाल-रोटी से गुजारा करने वाले गरीबों के घर में अब दाल नहीं गल पा रही । सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद दाल की कीमत आ

बीफ पर यह बहस बंद करो

बीफ पर यह बहस बंद करो

जम्मू-कश्मीर एसेंबली का वाकया एक बार फिर मुझे कान के नीचे हाथ सहलाने को मजबूर कर दिया था। इंजीनियर रशीद के दर्द को सिर्फ मैं समझ सकता हूं क्योंकि ऐसी शरारत के कारण मैंने भी जमकर कभी पिटाई खाई थी। ब

रेखा : नहीं बन सकीं, जो बनना चाहती थी

रेखा : नहीं बन सकीं, जो बनना चाहती थी

सिल्वर स्क्रीन पर 1966 से देश ही नहीं पूरी दुनिया में अपनी अदाकारी से जादू बिखेरने चलाने वाली भानुरेखा गणेशन उर्फ रेखा आज 61 साल की हो गईं हैं। बॉलीवुड की बेहतरीन अदाकारा रेखा के बारे में कहा जाता

कटक में क्रिकेट की 'कलंक' कथा

कटक में क्रिकेट की 'कलंक' कथा

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए दूसरे टी-20 मैच के दौरान कटक में बदसलूकी का जो नजारा दिखा उसकी जितनी भी आलोचना की जाए वो कम है। यूं तो क्रिकेट हार और जीत का खेल माना जाता रहा है। हालांकि किसी

जन्मदिन पर गांधी को 125 करोड़ का तोहफा

जन्मदिन पर गांधी को 125 करोड़ का तोहफा

दो अक्टूबर महात्मा गांधी और लालबहादुर शास्त्री का जन्मदिन मनाया जाता है। पिछले साल देशवाशियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अगुवाई में गांधीजी को उनके 150वीं वर्षगांठ (2019 तक) पर एक तोहफा (स्वच्

आरक्षण: सम्मान या अपमान?

आरक्षण: सम्मान या अपमान?

स्वतंत्रता से पहले जब देश पराधीन था तब दासत्व के जीवन का बोध आसानी से हो जाता था। अंग्रेज 'डिवाइड एंड रुल' की नीति अपनाकर भारतवासियों पर 300 वर्ष तक शासन किये। उन्होंने जाति ,धर्म जैसी चीजों को बार

मांस की बिक्री पर संग्राम क्यों?

पिछले कई दिनों से मांस बिक्री को लेकर देश में सियासत गरमा गई है। शायद ऐसा पहली बार होगा जब जैन धर्म के एक धार्मिक पर्व को लेकर कई राज्यों में मांस की बिक्री पर पाबंदी लगाई गई है। सियासत इतनी गरमाई

किसकी राह देख रहा बिहार?

किसकी राह देख रहा बिहार?

बिहार प्रारम्भ से ही क्रांति प्रदेश रहा है। संघर्ष के दौर का हर शुभारंभ बिहार की भूमि से होता आया है। परिवर्तन की चिनगारी यहीं से सुलगी है। इस माटी का रंग चाहे जो हो पर यहां से क्रांति की बुलंदी पर