ज़ी स्पेशल

दक्षिणपंथ जेएनयू में वामपंथ से निपट सकता है बशर्ते...

दक्षिणपंथ जेएनयू में वामपंथ से निपट सकता है बशर्ते...

वामपंथ का दूसरा मजबूत मोर्चा है, मीडिया. भले ही चार साल से आप सुन रहे होंगे कि मीडिया पर सरकार ने कब्जा कर लिया है, संघ या भाजपा उसे डिक्टेट कर रही है, लेकिन यह सरकार इस मोर्चे पर बहुत बुरी तरह असफल रही है. 

व्यालोक | Sep 19, 2018, 03:19 PM IST
डियर जिंदगी : बच्‍चों के निर्णय!

डियर जिंदगी : बच्‍चों के निर्णय!

दिलों में प्रेम तो है लेकिन वह रिवाजों के जाल में कहीं बंध गया है. ऐसे में थोड़े सा स्‍नेह जिंदगी के सारे तनाव को बिसार सकता है. 

दयाशंकर मिश्र | Sep 19, 2018, 09:13 AM IST

अन्य ज़ी स्पेशल

गुंडों के डर से अपनी बात कहना मत छोड़िएगा स्वामी अग्निवेश

गुंडों के डर से अपनी बात कहना मत छोड़िएगा स्वामी अग्निवेश

स्वामी अग्निवेश संगठित और प्रायोजित भीड़ की हिंसा का सरे बाजार शिकार बन गए.

पीयूष बबेले | Jul 18, 2018, 01:50 PM IST
डियर जिंदगी: सबकुछ सुरक्षित होने का ‘अंधविश्‍वास'

डियर जिंदगी: सबकुछ सुरक्षित होने का ‘अंधविश्‍वास'

हमारी सोच-समझ और विश्‍वास धीमे-धीमे बनते हैं, लेकिन उनकी जड़ें बरगद जैसी होती हैं. एक बार उनके बन जाने पर मनुष्‍य की चेतना में परिवर्तन लगभग असंभव जैसा होता है. 

दयाशंकर मिश्र | Jul 18, 2018, 09:14 AM IST
डियर जिंदगी: बस एक दोस्‍त चाहिए, जिससे सब कहा जा सके...

डियर जिंदगी: बस एक दोस्‍त चाहिए, जिससे सब कहा जा सके...

कम से कम एक दोस्‍त, हमख्‍याल बनाइए, जिससे सबकुछ कहा जा सके. जो हर हाल में आपके साथ रहे. भले दुनिया मुंह फेर ले. भले कोई आवाज न दे. लेकिन उसके पास आपकी आवाज सुनने का वक्‍त रहे और आप तक उसकी आवाज आती रहे!

दयाशंकर मिश्र | Jul 17, 2018, 07:21 AM IST
डियर जिंदगी : आत्‍महत्‍या 'रास्‍ता' नहीं, सजा है…

डियर जिंदगी : आत्‍महत्‍या 'रास्‍ता' नहीं, सजा है…

जीवन संघर्ष, तनाव, रिश्‍ते से दुखी, अपराधबोध से भीगे मन तेजी से आत्‍महत्‍या की ओर बढ़ रहे हैं. बाहर से सफल, सुखी दिखने वाले मन के भीतर उमड़-घुमड़ रहे डिप्रेशन और अकेलेपन को समझना सहज नहीं.

दयाशंकर मिश्र | Jul 16, 2018, 07:30 AM IST
उसकी झूमती आंखों ने मुझे 'ठग' लिया

उसकी झूमती आंखों ने मुझे 'ठग' लिया

यह कहानी ज़रा पुरानी है. इतनी पुरानी नहीं कि आदम के ज़माने की सैर करा लाये. इतनी सच्ची भी नहीं कि झूठ के लिए जगह ही न हो. फिल्म सिटी से चार कदम की दूरी पर डिजिटल युग का मेट्रो स्टेशन है.

ललित फुलारा | Jul 15, 2018, 02:49 PM IST
फीफा वर्ल्डकप में बड़े नाम रहते हैं फीके, इसीलिए कोई टीम नहीं बना सकी ये रिकॉर्ड

फीफा वर्ल्डकप में बड़े नाम रहते हैं फीके, इसीलिए कोई टीम नहीं बना सकी ये रिकॉर्ड

अप्रत्याशित परिणाम, खिलाडियों का चमत्कारिक प्रदर्शन, देशवासियों का जुनून, फुटबाल विश्वकप की लोकप्रियता को अन्य खेलों के मुकाबले अलग रखता है. पिछले वर्षों की तुलना में इस वर्ष खेलप्रेमियों ने टेलीविजन पर बड़ी संख्या में मैचों का आनंद उठाया.

डियर जिंदगी : 'तेरे-मेरे सपने एक रंग नहीं हैं…'

डियर जिंदगी : 'तेरे-मेरे सपने एक रंग नहीं हैं…'

सपनों के प्रति सतर्क रहें. उनके लिए पागल बनें. दूसरों के लिए उनको दांव पर न लगाएं, बल्कि उनके हिसाब से ‘दूसरी’ चीजें तय करें.

दयाशंकर मिश्र | Jul 13, 2018, 08:06 AM IST
जातीय समीकरणों में घिरती मप्र कांग्रेस की राजनीति

जातीय समीकरणों में घिरती मप्र कांग्रेस की राजनीति

एक दृष्टि से यह तर्क दिया जा रहा है कि सारे दल भी तो यही कर रहे हैं. वे जातीय आधार पर पूरी राजनीति केन्द्रित किए जा रह हैं.

पंकज शुक्ला | Jul 12, 2018, 08:24 PM IST
सोशल मीडियाः कह दिया मतलब कह दिया

सोशल मीडियाः कह दिया मतलब कह दिया

फेसबुक, वॉट्सएप को कम्यूनिकेशन की दुनिया की सबसे बड़ी क्रांति के रूप में देखा जाता है. लेकिन ये माध्यम एकतरफा संप्रेषण का सबसे बड़ा मंच बन कर उभरे हैं .

पंकज रामेंदु | Jul 12, 2018, 07:57 PM IST
डियर जिंदगी : जो माता-पिता को ‘आश्रम‘ छोड़ने जा रहे हैं…

डियर जिंदगी : जो माता-पिता को ‘आश्रम‘ छोड़ने जा रहे हैं…

बच्‍चे असल में बच्‍चे नहीं होते. वह तो हमारा विस्‍तार हैं. हमारी समझ, सोच और संवेदना का. किसी बड़े से कुछ छिप सकता है, लेकिन उस घर के बच्‍चे से नहीं. 

दयाशंकर मिश्र | Jul 12, 2018, 07:28 AM IST
डियर जिंदगी : शुक्रिया, एंटोइन ग्रीजमैन!

डियर जिंदगी : शुक्रिया, एंटोइन ग्रीजमैन!

जिस विनम्रता, कृतज्ञता का उन्‍होंने बेहद जुनूनी, उत्‍तेजना के पल में परिचय दिया वह बेमिसाल है. उन्होंने साबित किया कि जीवन मूल्‍य अगर आत्‍मा तक उतरे हों, तो बाहर 'चादर' कैसी भी हो, वह कभी मैले नहीं होते. 

दयाशंकर मिश्र | Jul 11, 2018, 07:08 AM IST
टी-20 में भारत को हराना मुश्किल है

टी-20 में भारत को हराना मुश्किल है

इस टी-20 श्रृंखला में भी पैसा जमकर बरसा. फुटबॉल के मौसम में भी क्रिकेट की टीआरपी अगर नहीं गिरी, तो इससे यह भी साबित हो गया कि भारतीय मूलत: क्रिकेट पसंद लोग हैं. 

सुशील दोषी | Jul 10, 2018, 05:55 PM IST
सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही का सीधा प्रसारण - कब दिखेगी न्यायिक क्रांति?

सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही का सीधा प्रसारण - कब दिखेगी न्यायिक क्रांति?

सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही का सीधा प्रसारण - कब दिखेगी न्यायिक क्रांति?

विराग गुप्ता | Jul 10, 2018, 04:59 PM IST
डियर जिंदगी : थोड़ा वक्‍त उनको, जिन्होंने हमें खूब दिया...

डियर जिंदगी : थोड़ा वक्‍त उनको, जिन्होंने हमें खूब दिया...

नीम का पेड़ लगाने से नीम और आम का पेड़ तैयार करने से आम होता है. यह प्रकृति का शास्‍वत नियम है. सब पर बिना भेदभाव लागू होता है.

दयाशंकर मिश्र | Jul 10, 2018, 07:47 AM IST
संस्कृति और राष्ट्रवाद का नाम लेकर महिलाओं को गाली देने वाले इस देश को तबाह कर देंगे

संस्कृति और राष्ट्रवाद का नाम लेकर महिलाओं को गाली देने वाले इस देश को तबाह कर देंगे

सोशल मीडिया पर जिस तरह ट्रोल गुंडों की फौज खड़ी हो गई है, वह अपने आपमें बहुत खतरनाक है. ये कोई अकेले सिरफिरे लोग नहीं हैं, जो, जो मन में आए लिख देते हैं.

डियर जिंदगी : ‘बीच’ में कौन आ गया!

डियर जिंदगी : ‘बीच’ में कौन आ गया!

सोशल मीडिया पर संबंध उनके लिए हैं, जिनके पास शायद असली जिंदगी में रिश्‍ते, दोस्‍तों की कमी है. उनके लिए नहीं जो इसकी कीमत पर असली संबंधों को ही तबाह किए जा रहे हैं. 

दयाशंकर मिश्र | Jul 9, 2018, 07:42 AM IST
यादें शेष: लोकमन में भीगा अमृत छलका गए वेगड़

यादें शेष: लोकमन में भीगा अमृत छलका गए वेगड़

पुण्य सलिला नर्मदा का यह मानस पुत्र छः जुलाई की सुबह नौ दशक की आयु पूरी कर महायात्रा पर निकल पड़ा. 

विनय उपाध्याय | Jul 7, 2018, 09:08 PM IST
अमृतलाल वेगड़ : चला गया नर्मदा का एक और प्रेमी

अमृतलाल वेगड़ : चला गया नर्मदा का एक और प्रेमी

वेगड़ जी हम लेखकों की तरह नहीं थे. न ही छायावादियों जैसे स्वप्नदर्शी और स्वप्नजीवी ही. तब भी उनके पास सपने तो थे, जिन्हें वे उसी जीवन को मथकर उसी में रमकर निकालते थे.

श्रद्धांजलि अमृतलाल वेगड़ : आज नर्मदा निपूती हो गई...

श्रद्धांजलि अमृतलाल वेगड़ : आज नर्मदा निपूती हो गई...

वेगड़जी के पीछे आज नर्मदा भी सोचती तो जरूर होगी कि आखिर यह उसका कैसा बेटा था, जो उससे कुछ नहीं मांगता था. न पानी, न रेत, न पुण्य, न मोक्ष. बस अपनी मां को निहारता था और उसके सौंदर्य को शब्दों में पिरोता रहता था...

पीयूष बबेले | Jul 6, 2018, 03:15 PM IST

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close