ऊटपटांग एक्शन वाले 7 बॉलर: सचिन-लारा से लेकर विराट-डिविलियर्स तक रहते हैं कंफ्यूज

70 के दशक में बीएस चंद्रशेखर ने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया था. उनका गेंदबाजी एक्शन इतना कन्फ्यूजिंग था कि बल्लेबाजों के लिए उन्हें खेलना लगभग असंभव हो जाता था.

मृदुला भारद्वाज | Updated: Nov 14, 2017, 06:42 PM IST
ऊटपटांग एक्शन वाले 7 बॉलर: सचिन-लारा से लेकर विराट-डिविलियर्स तक रहते हैं कंफ्यूज
श्रीलंका के केविन कोथिगोड़ा नए मिस्ट्री गेंदबाज हैं

नई दिल्ली: इन दिनों श्रीलंका की क्रिकेट टीम एक बार फिर से चर्चा में है. इस बार इस चर्चा का विषय है उनका एक मिस्ट्री गेंदबाज- केविन कोथिगोड़ा. केविन कोथिगोड़ा 18 वर्षीय लेग स्पिनर हैं, जो अंडर 19 टीम का हिस्सा हैं. केविन का गेंदबाजी एक्शन लगभग उसी तरह है, जिस तरह दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाज पॉल एडम्स का था. पूर्व गेंदबाज पॉल बाएं हाथ के चाइनामैन गेंदबाज थे. कहा जा रहा है कि केविन पॉल एडम्स का दाएं हाथ का संस्करण हैं. 

यूं तो श्रीलंका में कई मिस्ट्री गेंदबाज हुए हैं, लेकिन उनके अलावा भी दुनियाभर की क्रिकेट टीमों  में कई ऐसे मिस्ट्री गेंदबाज रहे हैं, जिनका एक्शन बेहद खतरनाक रहा है. 

एक समय था जब बांग्लादेश चार साल के भीतर एक भी मैच नहीं जीता था, लेकिन फिर ऐसा समय आया जब बांग्लादेश ने बांग्लादेश में खेले गए दस मैच जीते. बांग्लादेश ने भारत, पाकिस्तान को पराजित किया. उनकी इस जीत में मुस्ताफिजुर रहमान ने अहम भूमिका निभाई. रहमान बांग्लादेश के नए रहस्यमयी गेंदबाज थे. भारतीय बल्लेबाजों को भी इस गेंदबाज के सामने संघर्ष करते देखा गया. रहमान से पहले भी विश्व क्रिकेट में ऐसे रहस्यमय गेंदबाज आए जिनका गेंदबाजी एक्शन चकित कर देने वाला था और जिनकी रहस्यमय गेंदबाजी ने दिग्गज बल्लेबाजों को भी संघर्ष करने पर मजबूर कर दिया. आइए ऐसी ही कुछ गेंदबाजों पर नजर डालते हैं:

VIDEO : श्रीलंका क्रिकेट की नई सनसनी, बॉलिंग एक्शन देख रह जाएंगे हैरान

1. अजंता मेंडिस: श्रीलंका के अजंता मेंडिस की क्रिकेट में एंट्री ही रहस्यमय गेंदबाज के रूप में हुई. आते ही मेंडिस ने बल्लेबाजों के सामने अपना खौफ पैदा कर दिया. एशिया कप के फाइनल में इस गेंदबाज को भारत के विरुद्ध पहली बार उतारा गया. श्रीलंका के 273 रनों के जवाब में भारत की पूरी टीम 173 रनों पर सिमट गयी. मेंडिस ने सिर्फ 13रन देकर 6विकेट लिये. कैरम बॉल की शुरुआत करने वाले मेंडिस ही थे. बल्लेबाजों को मेंडिस की जादुई गेंदबाजी को समझने में काफी वक्त लगा. मेंडिस ने 19 टेस्ट मैचों की 31 पारियों में 70 विकेट लिए. वन डे में मेंडिस ने 97 मैचों में 152 और 39 टी 20 में 66 विकेट उनके नाम हैं, लेकिन पता नहीं यह रहस्यमयी गेंदबाज कहां गुम हो गया. 

2. सुनील नरेन: शायद दुनिया में बेस्ट मिस्ट्री बॉलर सुनील नरेन रहे हैं. नरेन ने भारतीय बल्लेबाजों को लगातार परेशान किया है चाहे टेस्ट हों वन डे या आईपीएल. आईपीएल में सबसे कम रन देने वाले गेंदबाज हैं नरेन. दुनिया में शायद ही कोई बल्लेबाज हो जो नरेन को आत्म विश्वास से खेल पाता हो. उनकी गेंदबाजी में जितना वेरियएशन देखने को मिलता है वह कम गेंदबाजों में दिखाई पड़ता है. 

3. सईद अजमल: बहुत से लोग हो सकता है सईद अजमल को मिस्ट्री बॉलर में शामिल करने से सहमत न हों. लेकिन सच यह है कि मुरलीधरन के बाद अजमल अकेले ऐसे गेंदबाज हैं जो परफेक्ट दूसरा फेंक सकते हैं. अजमल ने भी भारतीय बल्लेबाजों खासकर युवराज सिंह को बेहद परेशान किया है. 2015 के वर्ल्ड कप में अजमल के एक्शन को गैरकानूनी करार देकर उन्हें प्रतिबंधित कर दिया गया था. इसका बड़ा नुकसान पाकिस्तान को भुगतना पड़ा. 

4. सकलेन मुश्ताक: सकलेन मुश्ताक पाकिस्तान के एक ऐसे गेंदबाज रहे हैं जिन्हें हिट करना किसी भी बल्लेबाज के लिए कठिन होता था. फर्स्ट क्लास में 833 विकेट लेने वाले सकलेन अपने खास एक्शन के लिए भी जाने जाते हैं. 49 टेस्ट में 208, 169 वनडे में 288 विकेट लेने वाले सकलेन मुश्ताक को जब इंग्लैंड का सलाहकार बनाया गया तो पूरी दुनिया चकित रह गई थी. इंग्लैंड को पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज खेलनी थी. सकलन को दूसरा का मास्टर माना जाता है. सकलने की गेंदबाजी ने पाकिस्तान को अनेक मैच जितवाए हैं. सकलेन क्रिकेट जगत में अपने रहस्यमयी एक्शन के साथ साथ अपनी शानदार गेंदबाजी के लिए हमेशा याद किये जाएंगे.

5. बीएस चंद्रशेखर: 70 के दशक में बीएस चंद्रशेखर ने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया था. उनका गेंदबाजी एक्शन इतना कन्फ्यूजिंग था कि बल्लेबाजों के लिए उन्हें खेलना लगभग असंभव हो जाता था. चंद्रशेखर का दायां हाथ बचपन में हुए पोलियो के कारण लगभग बेकार हो चुका है. 58 टेस्ट मैचों में 242 विकेट लेकर चंद्रशेखर ने क्रिकेट जगत में धूम मचा दी थी. 1971 में ओवल में इंग्लैंड के खिलाफ 38 रन देकर चंद्रशेखर ने 6 विकेट लिए थे. विजडन ने इसे सदी की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी माना है. उनकी गेंदबाजी के सामने बल्लेबाजों असहाय से दिखाई पड़ते हैं. 

6. पॉल एडम्स: दक्षिण अफ्रीका के इकलौते मिस्ट्री बॉलर थे पॉल एडम्स. 1995 में इंग्लैंड के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका के कप्तान हैंसी क्रोनिए ने 18 वर्षीय पॉल एडम्स को प्लेइंग 11 में खिलाया. पॉल का गेंदबाजी का एक्शन बेहद अजीब और चौंकाने वाला था. लेकिन एडम्स ने यहां 8 विकेट लेकर अपने कप्तान के फैसले को सही साबित कर दिया. पॉल एडम्स ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 45 टेस्ट मैच खेले और 134 विकेट हासिल किए. 24 वनडे में भी उन्होंने 29 विकेट निकाले. लेकिन उनका क्रिकेट करियर बहुत लंबा नहीं चल पाया. बावजूद इसके पॉल एडम्स अपने अजीबोगरीब एक्शन की वजह से मिस्ट्री बॉलर कहलाए. 

7. मुथैया मुरलीधरन: श्रीलंका के ही सबसे ज्यादा रहस्यमीय गेंदबाज रहे मुथैया मुरलीधरन. उनके अजीबो गरीब गेंदबाजी एक्शन में उनकी आंखों की खास भूमिका थी. गेंदबाजी करते समय वह इस अंदाज में अपनी आंखें बाहर निकालते थे कि बल्लेबाज असहज हो जाता था. मुरलीधरण को सही अर्थों में गेंदबाजी का जादूगर माना जाता है. उनके गेंदबाजी के आंकड़े बताते हैं कि पूरी दुनिया के बल्लेबाज उनसे कितने आतंकित रहे. मुरलीधरन ने 133 टेस्ट मैचों में 800 विकेट लिए, 350 वन डे में 534 विकेट और 12 टी-20 में 13 विकेट लिए. दुनिया को कोई भी बल्लेबाज मुरलीधरन को आसानी से हिट नहीं कर पाया.