VIDEO: बेस्ट टीम के सवाल पर उलझे विराट कोहली, जानिए सीरीज हार पर क्या कहा

ओवल टेस्ट में हार के बाद कोहली ने सीरीज हार पर खुल कर बात की. एक सवाल ने उन्हें थोड़ा परेशान कर दिया.

VIDEO: बेस्ट टीम के सवाल पर उलझे विराट कोहली, जानिए सीरीज हार पर क्या कहा
सीरीज हार के बाद विराट कोहली टीम इंडिया के प्रदर्शन से निराश नहीं हैं. (फोटो: PTI)

लंदन:  इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 4-1 से हारी टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का कहना है कि ऐसे परिणाम भारतीय टेस्ट टीम को मजबूत बनाएंगे. कोहली ने कहा कि जब तक उनकी टीम अहम पलों पर ध्यान देना शुरू नहीं करती, तब तक भारत विदेशी जमीं पर टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाएगा. 

भारत को इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच में 118 रनों से हार का सामना करना पड़ा और इस कारण कोहली की टीम पांच मैचों की यह सीरीज गंवा बैठी. इंग्लैंड की तुलनात्मक रूप से कमजोर मानी जा रही टीम सारीज के दौरान अधिकांश मौकों पर भारत पर भारी पड़ी. मेजबान टीम भी हालांकि अपनी बल्लेबाजी को लेकर पूरी सारीज में परेशान रही.

अच्छी शुरुआत करनी होगी
इस बारे में कप्तान कोहली ने कहा, "अगर हमें सीरीज में विरोधी टीम पर दबाव बनाना है, तो हमें सीरीज की अच्छी शुरुआत करनी होगी. पहला टेस्ट मैच हमेशा महत्वपूर्ण होता है. इसके लिए हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि हम सभी सही मानसिक स्थिति में हों." कोहली ने कहा कि भारतीय टीम विरोधी खिलाड़ियों पर अपने दबाव को बरकरार नहीं रख पाती है. इसी कारण इंग्लैंड ने इस सीरीज में भारत से नियंत्रण को छीन लिया.

कप्तान ने कहा, "निश्चित तौर पर हम विदेशी जमीन पर खेल सकते हैं, लेकिन हमें अहम पलों पर प्रतिद्वंद्वी टीम से बेहतर ध्यान देने की जरूरत है. इस सीरीज में हम ऐसा नहीं कर पाए. अगर हम ऐसा कर पाने में सक्षम नहीं होते हैं, तो हम विदेशों में सीरीज नहीं जीत सकते."

हार स्वीकारना मुश्किल नहीं 
 कोहली ने स्वीकार किया कि कुछ कमियां हैं लेकिन उन्होंने जोर देकर कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सारीज में 1-4 की हार को स्वीकार करना इतना मुश्किल नहीं है और उनकी टीम में आमूलचूल बदलाव लाने की जरूरत नहीं है. 

कोहली ने कहा, ‘‘हम समझ सकते हैं कि यह सारीज जिस ओर गई वह क्यों गई और हमें काफी बड़ा हिस्सा ऐसा नजर नहीं आता जिसमें बदलाव की जरूरत है. अगर आप प्रत्येक मैच में प्रतिस्पर्धा पेश कर रहे हैं और प्रत्येक मैच में कभी ना कभी आपका पलड़ा भारी रहा है तो इसका मतलब है कि आप कुछ सही कर रहे हैं.’’ 

रवैया ज्यादा मायने रखता है
इंग्लैंड में हार से विदेशी सरजमीं पर भारत के खराब रिकार्ड में और इजाफा हुआ है. इससे पहले भारत को इसी साल दक्षिण अफ्रीका दौरे पर भी हार का समाना करना पड़ा था. कोहली ने कहा, ‘‘बिलकुल भी मुश्किल नहीं है (दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे की हार को स्वीकार करना) क्योंकि मेरे लिए यह मायने रखता है कि आप किस रवैये के साथ क्रिकेट खेलते हो. चौथे मैच के बाद हमने कहा था कि हम हार नहीं मानेंगे और हमने नहीं मानी.’’ 

टीम की जो कमजोरियां उजागर हुई उन पर बात करते हुए कोहली ने कहा कि इसमें सबसे महत्वपूर्ण यह है कि टीम मजबूत स्थितियों का फायदा उठाने में नाकाम रही. कोहली ने कहा, ‘‘हमने दबाव बनाया. हम बल्ले से पर्याप्त समय तक दबाव बनाने में नाकाम रहे और गेंद से भी. उन्होंने (इंग्लैंड ने) इन हालात का फायदा हमारी तुलना में बेहतर तरीके से उठाया.’’ 

एक सवाल से परेशान हो गए विराट
रवि शास्त्री ने मैच से पहले कहा था कि यह विदेशी दौरा करने वाली भारत की सर्वश्रेष्ठ टीम है जब कप्तान से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘हमें यह विश्वास करना होगा, आखिर क्यों नहीं. आपको क्या लगता है.’’ इसके जवाब में जब सवाल पूछने वाले पत्रकार ने कहा ‘‘मैं पक्के तौर पर नहीं कह सकता.’’ तो कोहली ने कहा, ‘‘यह आपका नजरिया है. धन्यवाद.’’ 

कोहली ने हालांकि स्वीकार किया कि उनकी टीम हालात का पूरी तरह से फायदा उठाने में नाकाम रही जबकि इंग्लैंड ने इनका पूरा फायदा उठाया.

कैसे थी यह सीरीज टीम इंडिया के लिए अलग
उन्होंने कहा, ‘‘आपको पता है कि इस सारीज में हम हमेशा पीछे नहीं रहे और इस सारीज में हमने वापसी की. हम इस सारीज को ऐसी सारीज के तौर पर नहीं देख रहे जहां हमें लगे कि हम विदेशी हालात में नहीं खेल सकते. लेकिन क्या हम महत्वपूर्ण लम्हों को विरोधी टीम से बेहतर तरीके से भुना सकते हैं. फिलहाल, नहीं, हम ऐसा नहीं कर पाए.’’ कोहली ने कहा, ‘‘हमारा लक्ष्य सारीज जीतना था, कोई एक टेस्ट जीतकर खुश होना नहीं. सारीज के नतीजे से निश्चित तौर पर हम खुश नहीं हैं लेकिन हम सही रवैये और प्रत्येक मैच में जीत की इच्छा के साथ खेले.’’

सारीज के दौरान अच्छा और प्रतिस्पर्धी माहौल रहा
कोहली ने सारीज में सर्वाधिक रन बनाए लेकिन भारत को हार से नहीं बचा पाए. इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन के साथ संघर्ष पर कोहली ने इसे मजेदार बताया. उन्होंने कहा, ‘‘हमारे बीच कोई बहस नहीं हुई. पूरी सारीज के दौरान अच्छा और प्रतिस्पर्धी माहौल रहा. कुछ शब्द बोले गए लेकिन ये व्यंग्यपूर्ण थे, गंभीर नहीं. उसके जैसे खिलाड़ी हमेशा आपकी परीक्षा लेते हैं.’’

(इनपुट आईएएनएस/भाषा)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close