काली पट्टी बांध हॉकी खिलाड़ियों ने दिया शहीदों को सम्मान, हासिल की पाकिस्तान पर सबसे बड़ी जीत

 हरमनप्रीत सिंह, तलविंदर सिंह और आकाशदीप सिंह के दो-दो गोलों की मदद से भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रविवार को वल्र्ड लीग सेमीफाइनल्स के अपने तीसरे पूल मैच में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 7-1 से मात दी. इस जीत के साथ ही भारत ने क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Jun 19, 2017, 02:33 PM IST
काली पट्टी बांध हॉकी खिलाड़ियों ने दिया शहीदों को सम्मान, हासिल की पाकिस्तान पर सबसे बड़ी जीत
हॉकी वर्ल्ड लीग सेमीफाइनल्स में भारत ने पाकिस्तान को 7-1 से हराया (PIC : Hockey india)

लंदन :  हरमनप्रीत सिंह, तलविंदर सिंह और आकाशदीप सिंह के दो-दो गोलों की मदद से भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रविवार को वल्र्ड लीग सेमीफाइनल्स के अपने तीसरे पूल मैच में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 7-1 से मात दी. इस जीत के साथ ही भारत ने क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है.

भारतीय खिलाड़ियों ने पाकिस्तान को बुरी तरह रौंद कर 7-1 से इस मैच को जीत लिया. मगर, क्रिकेट के उलट हॉकी के इस खेल में एक और बात थी, जिसने देश के सम्मान को तरजीह दी. वह थी कि इस मैच में भारतीय खिलाड़ियों ने सीमा पर देश की रक्षा में जुटे सैनिकों के प्रति सम्मान दिखाते हुए बांह पर काली पट्टी बांधी और पाकिस्तानी हमलों में शहीद हुए सैनिकों के लिए शोक जताया. 

इतना ही नहीं, भारतीय टीम के समर्थन में स्टाफ ने भी काली पट्टी बांधी. वहीं, क्रिकेट के मामले में यह संवेदना नहीं दिखी. 

हरमनप्रीत ने (13वें और 33वें), तलविंदर (21वें और 24वें) तथा आकाशदीप (47वें और 59वें) मिनट में गोल किए. प्रदीप मोर ने भी 49वें मिनट में गोल किया. भारत की यह लगातार तीसरी जीत है और उसका सामना 20 जून को नीदरलैंड से होगा. दूसरी ओर, पाकिस्तान की यह लगातार तीसरी हार है.

दूसरे मिनट में पाकिस्तान के पेनाल्टी कॉर्नर पर गोल के अवसर को नाकाम करते हुए भारत ने 13वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर पर गोल कर अपना खाता खोला. टीम के लिए यह गोल हरमनप्रीत ने किया.

इसके बाद 21वें मिनट में तलविंदर सिंह ने फील्ड गोल दागकर भारतीय टीम को पाकिस्तान पर 2-0 से बढ़त दिलाई. इस बीच, मनदीप सिंह को ग्रीन कार्ड दिखाया गया.

पाकिस्तान की सभी कोशिशों को नाकाम करते हुए 24वें मिनट में तलविंदर ने एक बार फिर आगे बढ़कर फील्ड गोल दागा. इस गोल के दम पर भारत ने 3-0 की बढ़त बनाई.

तीसरे क्वार्टर की शुरूआत के बाद दूसरे ही मिनट में चिंग्लेसाना सिंह ने भारत के लिए पेनाल्टी कॉर्नर हासिल किया और 33वें मिनट में हरमनप्रीत ने इस अवसर को गोल में तब्दील कर भारतीय टीम को 4-0 से आगे किया. 

पाकिस्तान टीम की ओर से 36वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर पर गोल की कोशिश को आकाश चिकते ने शानदार तरीके से विफल किया. इसके बाद सरदार सिंह से मिले पास को 47वें मिनट में आकाशदीप सिंह ने सफल रूप से पाकिस्तान के खेमे में डाला और स्कोर 5-0 किया. दो मिनट बाद प्रदीप मोर (49वें मिनट) ने टीम के लिए छठा गोल किया. 

पाकिस्तान के लिए 57वें मिनट में मुहम्मद उमर बुट्टा ने पेनाल्टी कॉर्नर की बदौलत एकमात्र गोल किया. इसके एक मिनट बाद ही आकाशदीप ने भारत के लिए सातवां गोल किया और इस प्रकार भारतीय टीम ने पाकिस्तान पर 7-1 से जीत दर्ज की. 

मैच के बाद भारतीय टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने कहा, "खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया और अब हमारा ध्यान अगले मैच पर है जो नीदरलैंड के खिलाफ होगा. नीदरलैंड बहुत मजबूत और अच्छी टीम है." 

विश्व रैंकिंग में नीदरलैंड चौथे स्थान पर है और भारत छठे स्थान पर. 

मनप्रीत ने कहा, "इस मैच के लिए स्टेडियम में काफी दर्शक मौजूद थे और आशा है कि नीदरलैंड के खिलाफ खेले जाने वाले मैच में भी हमें दर्शकों का ऐसा ही समर्थन मिलेगा."

दिग्गजों ने ऐसे दी बधाई 

गौरतलब है कि हॉकी खिलाड़ी भारतीय सैनिकों के गर्व और सम्मान में खुलकर सामने आते रहे हैं. खिलाड़ी अक्सर सोशल मीडिया पर भी सैनिकों के गर्व और सम्मान के बारे में लिखते रहे हैं और देश के लिए शहीद होने वाले जवानों के साथ होने वाली बर्बरता का खुलकर विरोध करते हैं.

भारतीय हॉकी खिलाड़ी अक्सर देश के लिए शहीद होने वाले जवानों के प्रति शोक संवेदना जाहिर करते रहे हैं. पीआर श्रीजेश ने 2016 में हुई एशियन चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पाकिस्तान को हराने के बाद टीम की जीत को सैनिकों को समर्पित की थी, जिसमें भारत ने पाकिस्तान को हराया था. हॉकी इंडिया के जनरल सेक्रटरी मोहम्मद मुश्ताक अहमद ने कहा कि भारतीय हॉकी टीम के खिलाड़ियों ने सीमा पर हमारी रक्षा में जुटे सैनिकों को हमेशा सपोर्ट किया है. सैनिक देश के गौरव हैं और हम उनके बलिदान से प्रेरित होते हैं.

उन्होंने कहा कि काला फीता हाथ में बांधने का फैसला एकमत से सभी ने लिया था. इसके जरिये हम सैनिकों की शहादत पर शोक संवेदना व्यक्त करते हैं और जम्मू-कश्मीर में शांति के बने रहने की कामना करते हैं. हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने कहा कि हम आज यह मैच हर हालत में जीतना चाहते थे. हम पूरी दुनिया को इस खेल के जरिए यह दिखाना चाहते थे कि हम जिस पर विश्वास करते हैं, उसके लिए संघर्ष करते हैं.