IPL 2018: हैदराबाद को हराकर प्लेऑफ की उम्मीदें कायम रखना चाहेगी बेंगलुरु

विराट कोहली की कप्तानी वाली बेंगलुरु के लिए यह सत्र कठिन रहा जिसने 12 में से सात मैच गंवाए लेकिन पिछले दो नतीजों से उसकी उम्मीदें जगी है बशर्ते दूसरे मैचों के नतीजे भी उसके अनुकूल रहे.

IPL 2018: हैदराबाद को हराकर प्लेऑफ की उम्मीदें कायम रखना चाहेगी बेंगलुरु
विराट कोहली और केन विलियमसन होंगे आमने-सामने (PIC : IANS)
Play

बेंगलुरु: प्लेऑफ में पहुंचने की जद्दोजहद में जुटी बेंगलुरु आज (17 मई) आईपीएल के महत्वपूर्ण मुकाबले में हैदराबाद से खेलेगी तो उसका इरादा जीत की लय कायम रखने का होगा. दिल्ली और पंजाब पर लगातार मिली जीत से बेंगलुरु की प्लेऑफ की उम्मीदें फिर जीवित हो गई है. दूसरी ओर 12 में से नौ मैच जीतकर हैदराबाद पहले ही प्लेऑफ में पहुंच चुके हैं. बेंगलुरु आठ टीमों में सातवें स्थान पर है जबकि हैदराबाद 18 अंक लेकर शीर्ष पर है. इस मैच में विराट कोहली का सामना ऐसी टीम से है जिसे हराना इस सीजन में सभी टीमों के लिए अभी तक टेढ़ी खीर साबित हुआ है. 

विराट कोहली की कप्तानी वाली बेंगलुरु के लिए यह सत्र कठिन रहा जिसने 12 में से सात मैच गंवाए लेकिन पिछले दो नतीजों से उसकी उम्मीदें जगी है बशर्ते दूसरे मैचों के नतीजे भी उसके अनुकूल रहे.

मेजबान टीम बहुत हद तक कोहली और दक्षिण अफ्रीका के एबी डिविलियर्स पर निर्भर है. उसे मोईन अली और कोरे एंडरसन से भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद होगी. विराट कोहली अभी तक 12 मैचों में 514 रन बना चुके हैं जबकि डिविलियर्स ने 10 मैचों में 358 रन बनाए हैं. गेंदबाजी में उमेश यादव 17 विकेट ले चुके हैं. ऐसा नहीं है कि टीम में अच्छे बल्लेबाजों की कमी हो. ब्रेंडन मैक्कलम, मोइन अली जैसे अच्छे बल्लेबाज टीम के पास हैं लेकिन बल्ले से नाकाम ही रहे हैं. 

मनदीप सिंह भी कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं. कोरी एंडरसन, कोलिन डी ग्रांडहोम ने जरुर निचले क्रम में टीम को कुछ हद तक संभाला है. टीम की गेंदबाजी ने पिछले कुछ मैचों में शानदार प्रदर्शन किया है. उमेश यादव ने जिम्मेदारी लेते हुए टीम का भार संभाला तो वहीं मोहम्मद सिराज ने उनका बखूबी साथ दिया. स्पिन विभाग में युजवेंद्र चहल और वॉशिंगटन संदुर भी टीम के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. बेंगलुरु को जीत के लिए एकजुट होकर प्रदर्शन करने की जरुरत है. 

हैदराबाद के लिए सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने 369 और केन विलियमसन ने 544 रन बनाए हैं. विलियमसन ने बतौर कप्तान भी मिसाल कायम की है और टीम को इस मुकाम तक लेकर आए हैं. युसूफ पठान (186), मनीष पांडे (189) और शाकिब अल हसन (166) ने भी समय समय पर उपयोगी पारियां खेली हैं.

हैदाबाद की ताकत उसकी गेंदबाजी रही है. भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की अगुवाई में उसके गेंदबाजों ने उम्दा प्रदर्शन किया है. भुवनेश्वर ने आठ विकेट लिए हैं जबकि तेज गेंदबाज सिद्धार्थ कौल और लेग स्पिनर राशिद खान 13 विकेट ले चुके हैं. शाकिब ने 12 और संदीप शर्मा ने आठ विकेट चटकाए हैं.

बल्लेबाजी में धवन और विलियमसन के अलावा कोई और आगे नहीं आ पाया है. युसूफ पठान, मनीष पांडे, शाकिब अल हसन अपने प्रदर्शन में निरंतरता रखने में सफल नहीं रहे हैं. टीम की ताकत उसकी गेंदबाजी है और इसी के दम पर वह लगातार जीत के रास्ते पर बनी हुई है. राशिद खान, शाकिब, भुवनेश्वर कुमार, संदीप शर्मा जैसे गेंदबाजों के रहते टीम ने छोटे से छोटे से लक्ष्य का बचाव किया है. 

टीमें (सम्भावित) :

बेंगलुरु : विराट कोहली (कप्तान), अब्राहम डिविलियर्स, सरफराज खान, क्रिस वोक्स, युजवेंद्र चहल, ब्रेंडन मैक्कलम, वॉशिंगटन सुंदर, नवदीप सैनी, क्विंटन डिकॉक, मनदीप सिंह, कुलवंत खेजरोलिया, कोलिन डी ग्रांडहोमे, उमेश यादव, मोइन अली, मनन वोहरा, अनिकेत चौधरी, मुरुगुन अश्विन, मनदीप सिंह, पवन नेगी, मोहम्मद सिराज, पार्थिव पटेल, अनिरुद्ध जोशी, पवन देशपांडे, टिम साउदी, कोरी एंडरसन.

हैदराबाद : केन विलियमसन (कप्तान), भुवनेश्वर कुमार, शिखर धवन, शाकिब अल-हसन, मनीष पांडे, कार्लोस ब्रैथवेट, युसुफ पठान, ऋद्धिमान साहा (विकेटकीपर), राशिद खान, रिक्की भुई, दीपक हुड्डा, सिद्धार्थ कौल, टी. नटराजन, मोहम्मद नबी, बासिल थम्पी, के. खलील अहमद, संदीप शर्मा, सचिन बेबी, क्रिस जोर्डा, तन्मय अग्रवाल, श्रीवत्स गोस्वामी, बिपुल शर्मा, मेहदी हसन और एलेक्स हेल्स.