INDvsSL : हार्दिक पांड्या की शानदार बल्लेबाजी के बाद श्रीलंका पर बरपा गेंदबाजों का कहर

धवन (119) और लोकेश राहुल (85) ने पहले विकेट के लिए 188 रन की मजबूत साझेदारी निभाई. इस तरह इन दोनों ने 1993 में मनोज प्रभाकर और नवजोत सिद्धू के बीच श्रीलंका के खिलाफ उसकी सरजमीं पर पहले विकेट की 173 रन की सबसे बड़ी भागीदारी के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | अंतिम अपडेट: Aug 13, 2017, 05:58 PM IST
INDvsSL : हार्दिक पांड्या की शानदार बल्लेबाजी के बाद श्रीलंका पर बरपा गेंदबाजों का कहर
कैंडी टेस्ट : श्रीलंका-भारत, तीसरा टेस्ट, दूसरा दिन (PIC : ICC)

पाल्लेकेले : भारत और श्रीलंका के बीच तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी टेस्ट पल्लेकले स्टेडियम में खेला जा रहा है. दूसरे दिन का खेल खत्म हो चुका है. श्रीलंका का 1 विकेट के नुकसान पर 19 रन है. अभी भी श्रीलंका 333 रन पीछे पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने अपनी पहली पारी में 487 रन बनाए. जिसके जवाब में श्रीलंका की टीम पहली पारी में 135 रन पर ही ढेर हो गई. श्रीलंका टीम की ओर से कप्तान दिनेश चांडीमल ने सबसे ज्यादा 48 रन बनाए. पहली इनिंग में टीम इंडिया को 352 रन की लीड मिली. जिसके बाद उसने फॉलोऑन खिलाने का फैसला किया. अपना दूसरा टेस्ट मैच खेल रहे चाइनामैन बॉलर कुलदीप यादव ने 4 विकेट लिए हैं.

श्रीलंका का पहला विकेट 15 रन के कुल स्कोर पर गिर गया है. उमेश यादव ने उपुल थरंगा को 7 रन के निजी स्कोर पर पवेलियन भेजा. श्रीलंका फिर से बल्लेबाजी करेगी. भारतीय टीम ने फॉलोऑन दिया. श्रीलंका की पारी 135 रन पर सिमटी. श्रीलंका भारत से 352 रन पीछे हैं. अश्विन ने श्रीलंका की पारी का आखिरी विकेट लिया. भारत की तरफ से कुलदीप यादव ने 4, शमी और अश्विन ने 2-2 विकेट लिए. हार्दिक पांड्या को भी 1 विकेट मिला.

श्रीलंका का 9वां विकेट गिरा. कुलदीप यादव ने फर्नाडो को क्लीन बोल्ड किया. फर्नाडो ने डिफेंड करने की कोशिश की लेकिन गेंद पैड और बल्ले के बीच से निकल गई. श्रीलंका का स्कोर 135/9. दोनों बल्लेबाज पुष्पकुमारा और फर्नाडो को अश्विन और कुलदीप के आगे काफी परेशानी हो रही है. श्रीलंका का 8वां विकेट गिरा. कुलदीप यादव ने पुष्पकुमारा को क्लीन बोल्ड किया. आगे बढ़ कर बड़ा शॉट खेलना चाहते थे पुष्पकुमारा, लेकिन पवेलियन लौटना पड़ा.  रविचंद्रन अश्विन ने भारत को सातवीं सफलता दिलाई. अश्विन ने दिनेश चांडीमल का विकेट चटकाया. 

कुलदीप यादव को दूसरी सफलता मिली. श्रीलंका का छठा विकेट गिरा. यादव ने दिलरुवान परेरा को पवेलियन भेजा. 22.6 ओवर तक लंका का स्कोर 6 विकेट के नुकसान पर 110 रन है. भारत को पांचवीं सफलता मिली. कुलदीप यादव ने निरोशन डिकवेला का विकेट झटका. श्रीलंका का स्कोर 5 विकेट के नुकसान पर 101 रन है. 

श्रींलका चौथा विकेट गिका. हार्दिक पांड्या ने एंजेलो मैथ्यू को एलबीडब्ल्यू आउट किया. भारत को तीसरी कामयाबी मिली. शमी ने दिनेश चांडीमल को आउट किया. अब तक तीनों विकेट मोहम्मद शमी के नाम. श्रीलंका का दूसरा विकेट गिरा. शमी को दूसरी कामयाबी मिली. करुणारत्ने पवेलियन लौटे. 

श्रीलंकाई बल्लेबाजों के बीच थोड़ी सी गलतफहमी. अगर डायरेक्ट थ्रो लगता तो मेंडिस का आउट होना तय था. भारत को पहली कामयाबी मिली. उपल थरंगा पांच रन बनाकर पवेलियन वापस लौटे. शमी ने थरंगा का विकेट झटका. श्रीलंका की पारी शुरू हो गई है. हार्दिक पांड्या ने बनाए 108 रन. संदाकन ने हासिल किए पांच विकेट. भारत का आखिरी विकेट गिरा. बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में बाउंड्री लाइन पर पांड्या कैच आउट हुए. 

भारत की पारी 487 रन पर खत्म

इससे पहले, हार्दिक पांड्या (108) के टेस्ट करियर के पहले शतक के दम पर भारत ने श्रीलंका के खिलाफ अपनी पहली पारी में 487 रन बनाए हैं. 

पहले दिन शनिवार को शिखर धवन (119) और लोकेश राहुल (85) की शानदार पारियों के दम पर छह विकेट पर 329 रनों से आगे खेलने उतरी भारतीय टीम ने रविवार को दिन के पहले सत्र में तीन विकेट खोकर 487 रन बनाए. भारत की ओर से पहले सत्र में आउट होने वाले तीन बल्लेबाज रिद्धिमान साहा (16) कुलदीप यादव (26) और मोहम्मद शमी (8) रहे. 

दूसरे सत्र की शुरुआत के बाद पारी आगे बढ़ाने उतरे पांड्या और उमेश यादव (नाबाद 3) को संदाकन ने एक भी रन जोड़ने का मौका न देते हुए पांड्या को 487 के ही स्कोर पर दिलरुवान परेरा के हाथों कैच आउट कर भारतीय पारी समाप्त कर दी. पांड्या ने पहले सत्र की समाप्ति से टेस्ट करियर का पहला शतक लगाया. पांड्या ने अब तक अपनी पारी में खेली गईं 93 गेदों में आठ चौके और सात छक्के लगाए.

इसके अलावा, वह टेस्ट मैच में अपने क्रिकेट करियर का पहला शतक लगाने वाले पांचवें भारतीय खिलाड़ी हैं. इससे पहले विजय मांजरेकर, कपिल देव, अजय रात्रा और हरभजन सिंह ने टेस्ट मैच में क्रिकेट करियर का पहला शतक लगाया था. पांड्या एक ओवर में 26 रन बनाए. यह टेस्ट प्रारूप के इतिहास में किसी भारतीय खिलाड़ी द्वारा एक ओवर में बनाए गए सबसे अधिक रन हैं. उन्होंने इस क्रम में दिग्गज खिलाड़ी कपिल देव के रिकॉर्ड को पार कर दिया. 

कपिल ने लॉर्ड्स में 1990 में इंग्लैंड के गेंदबाज एडी हेमिंग्स की ओर से एक ओवर में फेंकी गई छह गेंदों में 24 रन बनाए. श्रीलंका के लिए संदाकन ने सबसे अधिक चार विकेट लिए, वहीं मलिंदा पुष्पकुमारा ने तीन विकेट हासिल किए. इसके अलावा फर्नादो को दो सफलता हासिल हुई. भारत ने तीन टेस्ट मैच की इस सीरीज में 2-0 से अजेय बढ़त बनाई हुई है. 

पहले दिन का खेल

भारत ने अच्छी शुरूआत करते हुए पहले सत्र में एक भी विकेट नहीं गंवाया था, लेकिन श्रीलंकाई गेंदबाजों ने वापसी करते हुए दूसरे और अंतिम सत्र में तीन-तीन विकेट झटक लिए. फॉर्म में चल रहे चेतेश्वर पुजारा (आठ), पिछले टेस्ट के शतकवीर अजिंक्य रहाणे (17) सस्ते में पवेलियन लौट गये जबकि कप्तान विराट कोहली (42) क्रीज पर जमने के बाद आउट हो गए.

कोहली 79वें ओवर में संदाकन की गुड लेंथ गेंद पर बल्ला छुआकर पहली स्लिप में खड़े करूणारत्ने को आसान कैच दे बैठे. रविचंद्रन अश्विन (31) दिन के अंतिम ओवर में विश्व फर्नांडो का शिकार बने.

अश्विन और डीआरएस की अपील से बचने वाले साहा ने 81वें ओवर में भारत के 300 रन पूरे कराये. इन दोनों ने दूसरी नई गेंद का अच्छी तरह सामना करते हुए छठे विकेट के लिये 26 रन जोड़े. अब भारतीय टीम कल 400 रन तक का स्कोर बनाने का प्रयास करेगी.

इससे पहले धवन (119) और लोकेश राहुल (85) ने पहले विकेट के लिए 188 रन की मजबूत साझेदारी निभाई. इस तरह इन दोनों ने 1993 में मनोज प्रभाकर और नवजोत सिद्धू के बीच श्रीलंका के खिलाफ उसकी सरजमीं पर पहले विकेट की 173 रन की सबसे बड़ी भागीदारी के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया.

राहुल एक बार फिर टेस्ट शतक से चूक गये और 40वें ओवर में बाएं हाथ के स्पिनर पुष्पकुमार की गेंद पर दिमुथ करूणारत्ने को मिड आन पर सीधे कैच देकर आउट हो गये. उन्होंने 135 गेंद की पारी में आठ चौके जड़े.

धवन हालांकि डटे रहे और उन्होंने 107 गेंद में इस सीरीज में दूसरा शतक जड़ा. उन्होंने पुजारा के साथ मिलकर 31 रन जोड़ लिए थे और आउट होने वाले दूसरे बल्लेबाज रहे. धवन पुष्पकुमार की गेंद पर स्क्वायर लेग पर कप्तान दिनेश चांदीमल को कैच देकर आउट हुए. उन्होंने अपनी पारी के दौरान 123 गेंद का सामना किया और 17 चौके जमाये. पुजारा क्रीज पर सहज नहीं दिखे और 51वें ओवर में संदाकन की गेंद पर आउट हुए. उन्होंने कोहली के साथ महज 10 रन जोड़े थे.

तीसरे सत्र में रहाणे खराब शाट खेलकर पुष्पकुमार का तीसरा शिकार बने, गेंद सीधे उनके स्टंप उखाड़ गई.

राहुल और धवन को सुबह के सत्र में श्रीलंकाई गेंदबाजों से जरा भी परेशानी नहीं हुई, जिससे भारत ने प्रथम सत्र में बिना विकेट गंवाये 134 रन जोड़ लिए थे. इन दोनों ने मिलकर पहले सत्र में 15 बार गेंद सीमारेखा के पार कराई. दोनों ने 10वें ओवर में महज 55 गेंद में 50 रन की साझेदारी पूरी की और इसी लय से रन जुटाना जारी रखा जिससे 100 रन 107 गेंद में 18वें ओवर में पूरे हुए.

राहुल ने 67 गेंद में चार चौके से नौवां टेस्ट अर्धशतक बनाया. राहुल का यह टेस्ट क्रिकेट में लगातार सातवां अर्धशतक था, इससे उन्होंने गुंडप्पा विश्वनाथ और राहुल द्रविड़ को पीछे छोड़ दिया जिनके नाम लगातार छह छह अर्धशतक हैं. भारत ने इससे पहले निलंबित रवींद्र जडेजा की जगह लेग स्पिनर कुलदीप यादव को अंतिम एकादश में शामिल किया जबकि मेजबानों ने तीन बदलाव किए.