इंडोनेशिया ओपन जीतने पर सहवाग ने श्रीकांत को ट्वीट कर दी बधाई, ज्वाला गुट्टा ने पकड़ ली बड़ी गलती

टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज टि्वटर पर खासे सक्रिय रहते हैं. किसी को जन्मदिन की बधाई देनी हो या फिर जीत की बधाई. किसी की खिंचाई करनी हो या डांट लगानी हो... वो अपने मजेदार ट्वीट्स से ये सब करके मनोरंजन भी करते हैं, लेकिन कई बार वे अपने ट्वीट्स की वजह से ट्रोल भी हो जाते हैं. ऐसा ही एक बार फिर हो रहा है. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | अंतिम अपडेट: Jun 19, 2017, 06:00 PM IST
इंडोनेशिया ओपन जीतने पर सहवाग ने श्रीकांत को ट्वीट कर दी बधाई, ज्वाला गुट्टा ने पकड़ ली बड़ी गलती
इंडोनेशिया ओपन जीतने पर श्रीकांत बधाई देते हुए वीरेंद्र सहवाग कर बैठे ये बड़ी गलती

नई दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज टि्वटर पर खासे सक्रिय रहते हैं. किसी को जन्मदिन की बधाई देनी हो या फिर जीत की बधाई. किसी की खिंचाई करनी हो या डांट लगानी हो... वो अपने मजेदार ट्वीट्स से ये सब करके मनोरंजन भी करते हैं, लेकिन कई बार वे अपने ट्वीट्स की वजह से ट्रोल भी हो जाते हैं. ऐसा ही एक बार फिर हो रहा है. 

रविवार को भारत के लिए खेलों का बेहद ही महत्वपूर्ण दिन था. पहला भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल क्रिकेट मैच, दूसरा भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया हॉकी मैच और तीसरा इंडोनेशिया ओपन में किदांबी श्रीकांत का मैच.

 भारत को क्रिकेट में तो हार का सामना करना पड़ा, हालांकि हॉकी और बैडमिंटन में भारत जीत गया. सहवाग ने जीत के लिए पाकिस्तान और भारतीय हॉकी टीम को बधाई देने के साथ किदांबी श्रीकांत को भी विश किया. हालांकि इस दौरान वह बड़ी गलती कर बैठे.

दरअसल किदांबी श्रीकांत इंडोनेशिया ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर टूर्नामेंट जीतने वाले भारत के पहले पुरुष खिलाड़ी बने हैं. लेकिन सहवाग ने श्रीकांत को बधाई देते हुए उन्हें पहला भारतीय खिलाड़ी बता दिया. 

सहवाग ने ट्वीट किया, इंडोनेशिया ओपन जीतना वाला पहला भारतीय खिलाड़ी बनने के लिए किदांबी श्रीकांत को बधाई. एक किला फतह. 

सहवाग के इस ट्वीट की गलती को देख बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा खुद को रोक नहीं पाई और उन्होंने रिप्लाई कर गलती के बारे में बताया. ज्वाला गुट्टा ने लिखा, “पहली भारतीय साइना नेहवाल थी. किदांबी श्रीकांत इंडोनेशिया ओपन जीतने वाले पहले पुरुष भारतीय खिलाड़ी हैं.”

बता दें कि साइना नेहवाल महिला एकल में दो बार 2010 और 2012 में यह खिताब जीत चुकी हैं. विश्व के 22वीं वरीयता प्राप्त श्रीकांत ने रविवार को खेले गए फाइनल मैच में जापान के काजुमासा साकाई को मात देकर ऐतिहासिक सफलता हासिल की.